Home /News /ajab-gajab /

कभी अपने फिटनेस वीडियो की वजह से चर्चा में रहती थी यह महिला, अब भरपेट खाकर बताया फिट रहने का मंत्र

कभी अपने फिटनेस वीडियो की वजह से चर्चा में रहती थी यह महिला, अब भरपेट खाकर बताया फिट रहने का मंत्र

सौ.इंस्टाग्राम/loz_fitnesss:एब्स बनाने से ज्यादा ज़रूरी है ​खुश और हेल्दी होना

सौ.इंस्टाग्राम/loz_fitnesss:एब्स बनाने से ज्यादा ज़रूरी है ​खुश और हेल्दी होना

एब्स बनाने या फिगर मेंटेन करने के लिए हर रोज़ घंटों एक्सरसाइज़ और डाइटिंग की ज़रूरत नहीं हैं. बाहरी नहीं बल्कि अंदरूनी सेहत का रखिए खास ख्याल. ये कहना है टिकटॉक इंफ्लूएंसर Loz fitness का. जी हां टिकटॉक और इंस्टाग्राम पर इसी नाम से जानते हैं इन्हें लोग. जो बता रही हैं फिटनेस का सही मतलब.

अधिक पढ़ें ...

फिटनेस (Fitness) क्या है? एब्स (Abs) बनाने के मायने क्या हैं? ये सवाल उन लोगों से पूछे जाने चाहे चाहिए जिन्हें सेहत से ज्यादा शरीर के शेप की चिंता होती है. जिसके लिए वो हर रोज़ घंटों जिम में पसीना बहाते हैं. खाने-पीने में सौ नखरे बनाते हैं. हैवी वेट ट्रेनिंग, रनिंग, डायट सब करने के बाद मिलती है वो बॉडी जिसे एब्स बनाना कहते हैं. तो फिर क्या फायदा? एब्स बनाना एक-दो दिन का काम नहीं होता उसके लिए महीनों और सालों लगते हैं. मगर एब्स बनाने से ज्यादा ज़रूरी है खुद की वास्तविक सेहत का ख्याल रखना. अच्छा खान-पान रखना (Good and healthy food).

सेहत को लेकर टिकटॉक इंफ्लूएंसर (Tiktok influencer) Loz fitness यही सलाह दे रही हैं. सोशल मीडिया में Loz fitness नाम से जानी जाने वाली फिटनेस को लेकर काफी लोकप्रिय हैं. समय-समय पर Loz अपनी फिगर, एब्स और फूड स्टाइल को लेकर फोटो, वीडियो शेयर करती रहती हैं. उनके फॉलोअर्स उनके वीडियोज़ को काफी पसंद करते हैं और नसीहत के लिए उन्हें थैंक्स भी कहते हैं. इंस्टाग्राम ( Instagram) पर Loz fitness के 48000 फॉलोअर्स हैं. जिन्हें वो एब्स और फिटनेस की सच्चाई के बारे में जागरूक रही हैं.

बॉडी-एब्स नहीं, हेल्दी रहना है ज़रूरी
स्लिम होना हर कोई चाहता है. ऐसे में Loz fitness का कहना है कि बॉडी में एब्स हो या न हो आपका हेल्दी (Be healthy) रहना ज़्यादा ज़रूरी होता है. दिखने में शरीर में कितने एब्स हैं ये 2022 में बहुत मायने नहीं रखता. मायने रखता हैं तो बस ये आप अंदरूनी और बाहरी तौर पर कितने मजबूत, फिट और एक्टिव रह सकते हैं. यही आपकी सेहत को बताने के लिए काफी है. आज के वक्त में फिटनेस की परिभाषा दिखने वाली शरीर शौष्ठव से नहीं आंतरिक सेहत से आंकी जाती है. लिहाज़ा एब्स के चक्कर में हर रोज़ घंटों दौड़ना-भागना छोड़ कर अच्छे खान-पान पर ध्यान दीजिए. हेल्दी, हैप्पी और कॉन्फिडेंट रहना ही है 2022 का फिटनेस मंत्रा.

fitness 2

सौ.इंस्टाग्राम/loz_fitnesss: हर रोज़ वर्कआउट नहीं हैं ज़रूरी`

जो मन वो खाइए, बस कैलोरिज़ का रखिए ख्याल
डायटिंग के नाम पर खाने-पीने में रोक लगाकर अपने मन को मारना क्यों ज़रूरी है? क्या मन को इतना बांधना आपके लिए सही है? बिल्कुल नहीं. जो मन करता हैं दिल से खाइए क्योंकि मन से खाया गया खाना आपको नुकसान नहीं पहुंचाएगा. ख्याल बस इतना रखना है कि आप जो खा रहे हैं उसमें कितनी कैलोरी है. हैवी कैलोरिज़ को डायट से बाहर कर आप शरीर के बाहरी हिस्से को आसानी से नियंत्रित कर सकते हैं और अंदरूनी सेहत के लिए पौष्टिक और स्वास्थ्यवर्धक (Good nutrition and fitness) खाने की ज़रूरत है. यही सच्चाई है एब्स की (Truth about abs).

Tags: Health benefit, Khabre jara hatke, Shocking news, Social media influencers, Viral news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर