होम /न्यूज /राष्ट्र /फ्लिपकार्ट से ऑर्डर किया लैपटॉप, डिब्बे में मिला कपड़े धोने का साबुन, शिकायत की तो कंपनी ने दिया ये जवाब

फ्लिपकार्ट से ऑर्डर किया लैपटॉप, डिब्बे में मिला कपड़े धोने का साबुन, शिकायत की तो कंपनी ने दिया ये जवाब

आईआईएम अहमदाबाद के विद्यार्थी को फ्लिपकार्ट से लैपटॉप आर्डर के बदले घड़ी डिटर्जेंट के साबुन की टिकिया मिला है.  (Photo-News18)

आईआईएम अहमदाबाद के विद्यार्थी को फ्लिपकार्ट से लैपटॉप आर्डर के बदले घड़ी डिटर्जेंट के साबुन की टिकिया मिला है. (Photo-News18)

यशस्वी शर्मा आईआईएम-अहमदाबाद के छात्र ने फ्लिपकार्ट पर चल रहे बिग-बिलियन डे सेल पर अपने पिता के लिए लैपटॉप आर्डर किया थ ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

एक शख्स को फ्लिपकार्ट से लैपटॉप के बदले डिब्बे में साबुन का टिकिया डिलीवर हुआ है.
शिकायत पर कंपनी ने 'ओपन बॉक्स डिलीवरी' का हवाला देकर रिफंड से इंकार कर दिया है.

नई दिल्ली:  ई-कॉमर्स वेबसाइट फ्लिपकार्ट से अपने पिता के लिए एक लैपटॉप ऑर्डर करने के बाद, एक व्यक्ति को डिटर्जेंट बार मिलने पर उसके होश हीं उड़ गए. उन्हें धक्का तो तब लगा जब उन्होंने कंपनी से इसकी शिकायत की, तो उन्हें ‘नो रिर्टन पॉलिसी’ का हवाला देकर कोई भी ऐक्शन लेने से इनकार कर दिया गया. यशस्वी शर्मा आईआईएम-अहमदाबाद के छात्र हैं. उन्होंने फ्लिपकार्ट पर चल रहे बिग-बिलियन डे सेल पर अपने पिता के लिए लैपटॉप आर्डर किया था. जब उनके पिता ने डिलीवरी ब्यॉय से आर्डर लेने के बाद पैकेट खोला तो हक्के-बक्के रह गए क्यूंकि उसमें डिटर्जेंट बार के टिकिया थे. 

यशस्वी ने लिंक्डिन पर एक लंबे-चौड़े पोस्ट में उन्होंने अपने साथ हुए घटना को शेयर किया है.  उन्होंने बताया कि उन्होंने अपने पिता के लिए फ्लिपकार्ट से लैपटॉप आर्डर किया था. उन्होंने बताया कि जब उनके पिता ने बॉक्स खोला तो लैपटॉप की जगह साबुन की टिकिया मिली. इसकी शिकायत जब उन्होंने फ्लिपकार्ट कस्टमर केयर से की तो उन्होंने अपनी गलती मानने से इनकार कर दिया. हालांकि यशस्वी ने उन्हें डिलीवरी का सीसीटीवी फुटेज होने की बात भी कही लेकिन कंपनी ने ‘नो रिर्टन पॉलिसी’ का हवाला देते हुए यशस्वी की बात नकार दी.

Linkdin Complain Copy

यशस्वी ने लिंक्डिन पर उनके साथ हुए फ्रॉड के बारे में प्रूफ के साथ पोस्ट शेयर किया है. उन्होंने उनके साथ डिलीवरी से लेकर शिकायत तक हुए नाइंसाफी का विवरण शेयर किया है. देखें.

ग्राहक ने माना अपनी गलती 

भुक्तभोगी यशस्वी ने अपनी गलती स्वीकार किया है कि बॉक्स को डिलीवरी ब्यॉय के सामने खोलना चाहिए था. उन्होंने आगे कहा कि हालांकि मेरे पिता को फ्लिपकार्ट की ‘ओपन बॉक्स डिलीवरी’ की अवधारणा के बारे में नहीं मालूम था. लेकिन डिलीवरी ब्यॉय को OTP लेते समय इसके बारे में बताना चाहिए था. उसने इसके बारे में पिता को बिना जानकारी दिए ओटीपी लेकर चला गया. उसके जाने के  बाद में जब पिता ने पैकेज खोला तो दंग रह गए क्यूंकि उसमे लैपटॉप के जगह साबुन की टिकिया था. जब उन्होंने(यशस्वी) ने कंपनी से सम्पर्क किया तो उन्होंने ‘ओपन बॉक्स डिलीवरी’ का हवाला देते हुए कहा सफल डिलीवरी के बाद ‘नो रिटर्न और नो रिफंड.’ हालांकि उन्होंने डिलीवरी और पैकेज खोलने दोनों का सीसीटीवी फुटेज है, फिर भी कंपनी ने इसे मानने से इंकार कर दिया है.

अब ग्राहक ने सोशल मीडिया के जरिए इस मामले को उठाया है. उन्होंने अपनी पोस्ट में फ्लिपकार्ट के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को भी टैग किया है. इस मामले को इंटरनेट पर जोरशोर से उठाया जा रहा है.

Tags: Flipkart, Flipkart sale, Online fraud

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें