Home /News /ajab-gajab /

महिला खिलाड़ी ने ही खोली ओलंपिक गेम्स की पोल, बताया- रात को हर कमरे से आती है तेज-तेज आवाजें

महिला खिलाड़ी ने ही खोली ओलंपिक गेम्स की पोल, बताया- रात को हर कमरे से आती है तेज-तेज आवाजें

जर्मनी की एथलीट ने बताया कि कई बार आवाजों की वजह से रात को खिलाड़ी सो नहीं पाते

जर्मनी की एथलीट ने बताया कि कई बार आवाजों की वजह से रात को खिलाड़ी सो नहीं पाते

जर्मनी (Germany) की लॉन्ग जंपर एथलीट (Long Jumper Athlete) सुसेन टीड़त्के (Susen Tiedtke) ने अपने एक इंटरव्यू में ओलंपिक गेम्स (Olympic Games) से जुड़े कई खुलासे किये हैं किये हैं. उन्होंने बताया कि गेम्स के दौरान कई बार रात को आप सो नहीं पाते हैं. इसकी वजह है हर कमरे में होने वाला सेक्स.

अधिक पढ़ें ...
    टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) शुरुआत से ही विवाद में है. पहले तो कोरोना महामारी (CoronaVirus) के बीच इसके आयोजन ने कई लोगों को नाराज कर रखा था. इसके बाद खिलाड़ियों के 1 लाख 60 हजार कंडोम (Condoms in Tokyo Olympics) बांटने की खबर ने सबको हैरान कर दिया. जहां कोरोना की वजह से खिलाडियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए, वहां आयोजन समिति इनके बीच कंडोम वितरित कर रही है. इन खबरों के बीच जर्मनी की 52 वर्षीय महिला एथलीट सुसेन ने गेम्स से जुड़े कई खुलासे किये हैं.

    सुसेन ने बताया कि गेम्स के दौरान कई बार खिलाड़ी रात को सो नहीं पाते हैं. ऐसा होता है वहां हर कमरे में हो रहे सेक्स से आती आवाजों के कारण. सुसेन ने ओलंपिक में नो सेक्स रूल को शुरू करने की वकालत की है. खासकर अभी जब कोविड चल रहा है. इस साल टोक्यो ओलंपिक तब विवादों में आ गया था जब आयोजकों ने खिलाड़ियों ने बीच एक लाख 60 हजार कंडोम बांटने का फैसला किया था. हालांकि, विवाद शुरू होने के बाद कमिटी ने कहा था कि खिलाड़ी ये कंडोम साथ घर ले जाएंगे. लेकिन अब सुसेन के खुलासे ने सारी पोल खोल दी है.

    दो बार ले चुकी हैं हिस्सा
    सुसेन ने 1992 और 2000 ओलंपिक में हिस्सा लिया था. अपने अनुभव साझा करते हुए उन्होंने बताया कि ऐसी कई रातें होती हैं जब आप सो नहीं पाते. गेम्स में हिस्सा लेने आए लगभग हर खिलाड़ी के कमरे में रात को एक पार्टनर होता है. सेक्स की तेज आवाजों के बीच सो पाना काफी मुश्किल काम है. ऐसे में उन्होंने इस साल कोविड में नो सेक्स रूल की वकालत की. उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए. सुसेन ने बताया कि एक बार दिन में इवेंट खत्म होने के बाद एक के बाद एक पार्टियों का दौर शुरू हो जाता है.

    शराब और सेक्स का तड़का
    सुसेन ने बताया कि खिलाड़ी गेम्स के बाद शराब और सेक्स के नशे में डूब जाते हैं. गेम्स से पहले परफॉरमेंस की वजह से खिलाड़ी सेक्स से दूर रहते हैं. ऐसे में गेम्स के बाद यहां सेक्स चलता है. कुछ खिलाड़ी आपस में ही रोमांस कर लेते है तो कुछ वहां टिंडर या अन्य डेटिंग साइट्स के जरिये नए लोगों से मिलकर सेक्स करते हैं. यही वजह है कि जिस देश में ओलंपिक का आयोजन होता है वहां की सरकार खिलाडियों के बीच कंडोम बांटती है ताकि देश में HIV ना फैले.

    इस साल अलग होंगे गेम्स
    कोरोना के बीच होने वाले ओलंपिक गेम्स इस बार शुरू से ही विवादों में है. जहां खिलाड़ियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना है वहीँ आयोजन समिति इसके बावजूद खिलाड़ियों में कंडोम बांट रही है. टोक्यो में जहां गेम्स के दौरान बाहर से कोई अंदर अलाउड नहीं है वहीँ फुकुशिमा, मियागी और शिज़ुओका में 50 प्रतिशत दर्शक आ पाएंगे. इसके अलावा खिलाड़ियों से इस बार अकेले ही खाने और सोशल डिस्टेंसिंग को कहा गया है. हालांकि, अब आगे देखना है कि इसका कितना पालन किया जाएगा.

    Tags: Olympics Games, Tokyo olympic, Tokyo Olympic new Rules, Weird news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर