Home /News /ajab-gajab /

दामाद के बच्चे की मां बनी महिला, बेटी की खुशी के लिए यूं 54 साल की उम्र में महिला हो गई प्रेग्नेंट!

दामाद के बच्चे की मां बनी महिला, बेटी की खुशी के लिए यूं 54 साल की उम्र में महिला हो गई प्रेग्नेंट!

सौ.सांकेतिक:नानी ने दिया नाती को जन्म, बेटी की खुशी के लिए बनी मां

सौ.सांकेतिक:नानी ने दिया नाती को जन्म, बेटी की खुशी के लिए बनी मां

ऑस्ट्रेलिया (Australia)की रहने वाली मैरी अर्नॉल्ड (Maree Arnold) ने 54 साल की उम्र में अपने ही नाती को जन्म दिया है. इस उम्र में ऐसा जोखिम उन्होंने अपनी बेटी की खुशियों के लिए उठाया, जो कभी मां नहीं बन सकती थी. मैरी ऑस्ट्रेलिया की सबसे ज्यादा उम्र की सरोगेट मां बनी हैं.

अधिक पढ़ें ...

मां बनना हर लड़की की ख्वाहिश होती है. लेकिन कई लड़कियां ऐसी भी होती हैं जिनके नसीब में ये खुशियां नहीं होती. मगर इच्छाएं कहां मरती हैं? इन्हीं इच्छाओं को पंख देती हैं सरोगेट मां (Surrogate mother). जो संतानहीन परिवारों की झोली में खुशियां देती है. एक औरत को मां बनने के सबसे बड़े सुख और हक से वंचित होने से बचाती है और उन्हें देती हैं वो खुशी जिसके आगे दुनिया की कोई भी खुशी नहीं टिक सकती. बड़े पैमाने पर सरोगेसी (Surrogacy) इसीलिए प्रचलित होने लगी.

कई बार लोग किसी एजेंसी से सरोगेसी न कराकर किसी जान-पहचान वाले के लिए ये काम करना पसंद करते हैं. मगर जब 54 साल की एक महिला ने अपनी बेटी की खुशियों के लिए खुद इस ज़िम्मेदारी का बीड़ा उठाया तो हर कोई चकित रह गया. 54 साल की मैरी अर्नॉल्ड ऑस्ट्रेलिया की सबसे ज्यादा उम्र की सरोगेट मां बनी हैं. इस उम्र में उन्होंने अपने ही नाती को जन्म दिया है. हालांकि ये सब इतना आसान नहीं था. कई जोखिमों से गुज़रना पड़ा है है मैरी को.

कभी मां नहीं बन सकती थी बेटी
तस्मानिया (Lilydale, Tasmania) की रहने वाली मेगन (Megan White) मैरी की बेटी है जो कभी मां नहीं सकती थी. बहुत छोटी उम्र में पता चल गया था की वो मेयर-रोकिटांस्की-कुस्टर-हॉसर सिंड्रोम (Mayer-Rokitansky-Küster-Hauser syndrome (MRKH) का शिकार थी, जिसका मतलब है की वो कभी बच्चे को जन्म नहीं दे सकती. पहले तो मेगन को इस बात से कभी बहुत फर्क नहीं पड़ा लेकिन शादी के बाद वो परिवार को आगे बढाने की ख्वाहिशें सजोने लगी. तब उसने एक कैनेडियन सरोगेट मदर का सहारा लिया. मगर बदकिस्मती से 21 हफ्ते बाद ही बेबी गर्ल सकी मौत हो गई. मेगन की उम्मीदें भी इसके बाद मरने लगी थी. जिसके बाद 54 साल की मैरी ने बेटी की ज़िंदगी खुशियों से भरने के लिए खुद को सरोगेसी के लिए तैयार किया. इसके पहले उन्होंने डॉक्टरों से इस बारे काफी सलाह कर ली थी. जिसके बाद वो इस निर्णय पर पहुंची.

आसान नहीं था नाती की मां बनने का सफर
मैरी ने सर्जरी के ज़रिए मेगन के बच्चे यानि अपने नाती को जन्म दिया जो पूरी तरह पूर्वनियोजित था. बच्चे के जन्म में कोई समस्या नहीं हुई. लेकिन उसके अस्तित्व में आने यानि गर्भाशय में ठहरने मे काफी दिकक्ते हुई थीं. 54 साल की मैरी अर्नॉल्ड जो पहले ही मेनोपॉज (Menopause) से गुज़र चुकी थी. ऐसे में बच्चे के ठहरने में मुश्किलें होती लिहाज़ा पहले उनकी यूटरस की परत जो अब पतली हो गई थी उसे मोटा करने के लिए लंबा ट्रीटमेंट चला. ताकी उसमे बच्चे को संभाला जा सके. तीन बार के असफल प्रयास के बाद जाकर मैरी की कोख में भ्रूण (Embryo) अस्तित्व में आया और 9 महीनों की सफल यात्रा के बाद एक परफेक्ट डिलिवरी हुई. हालांकि उनकी उम्र को देखते हुए डिलिवरी सर्जरी के ज़रिए करानी पड़ी, लेकिन अब मां यानि की नानी मां और बेबी ब्वॉय विन्सटन (Winston) बिल्कुल ठीक हैं.

Tags: Ajab Gajab news, Good news, Khabre jara hatke, OMG News, Shocking news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर