होम /न्यूज /अजब गजब /

सदी के अंत तक इंसानों की ज़िंदगी होगी 180 साल ! विशेषज्ञों ने किया दावा

सदी के अंत तक इंसानों की ज़िंदगी होगी 180 साल ! विशेषज्ञों ने किया दावा

इस सदी के अंत तक मानव 180 साल का जीवन जी सकेंगे. (सांकेतिक तस्वीर)

इस सदी के अंत तक मानव 180 साल का जीवन जी सकेंगे. (सांकेतिक तस्वीर)

कनाडा के विश्लेषकों के मुताबिक इंसानों (Human Lifespan) का जीवन 180 साल का हो सकता है. अभी दुनिया में सबसे ज्यादा उम्रदराज़ महिला (Oldest Woman in the World) 122 साल की है.

    इंसान की उम्र (Human Lifespan) को लेकर विज्ञान तरह-तरह के प्रयोग करता है. अब वैज्ञानिकों का कहना है कि इस सदी के अंत तक मानव 180 साल का जीवन जी सकेंगे. जिस युग में 100 साल की जीवन भी लोगों के लिए सपना बन चुका है, वहां 180 साल की ज़िंदगी के बारे में सुनकर ही लोग उत्साहित हो चुके हैं. जिंदगी में हमारी बहुत सी इच्छाएं होती हैं, जो जीवन खत्म होने से अधूरी रह जाती हैं, जब उम्र बढ़ेगी तो ये भी पूरी हो सकेंगी.

    कनाडा में HEC Montreal के असिस्टेंट प्रोफेसर लियो बेल्ज़िल का मानना है कि इस साल के अंत तक इंसान करीब 200 साल की ज़िंदगी जी सकेगा. Daily Mail की रिपोर्ट के मुताबिक जब लोगों की उम्र बढ़ेगी तो उन्हें मेडिकल सर्विसेज़ की ज्यादा से ज्यादा ज़रूरत पड़ेगी और उनके खर्चे भी बढ़ेंगे. यही इस परिस्थिति का सबसे अजीबोगरीब प्रभाव होगा.

    180 साल की उम्र से खुशी या परेशानी ?
    प्रोफेसर बेल्ज़िल के मुताबिक कुछ डेटा ये भी कहते हैं कि इंसान की उम्र बढ़ने के साथ ही अलग-अलग व्यक्ति पर इसका अलग-अलग प्रभाव पड़ता है. उन्होंने इस बात को लेकर भी चेताया है कि उम्र बढ़ने का समाज पर अलग ही असर होगा. इससे लोगों का मेडिकल बिल बढ़ेगा और उन्हें अधिक उम्रदराज़ होने की वजह से तरह-तरह के ट्रीटमेंट से भी गुजरना होगा. इतना ही नहीं सरकारी सोशल केयर, पेंशन और सोशल सिक्योरिटी स्कीम्स को भी अधिक समय तक चलाना पड़ेगा. बुजुर्गों को सरकारी स्कीम पर निर्भर भी करना पड़ेगा.

    ये भी पढ़ें- हर घंटे 48 महिलाओं से होता है रेप, यहां फौजी और पुलिस ही हैं औरतों के दुश्मन 

    ज्यादा ज़िंदगी, ज्यादा बिल्स
    सदर्न कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में लाइफ एक्सपेक्टैंसी एक्सपर्ट प्रोफेसर एलीन क्रिमिंस ने द टाइम्स से बात करते हुए बताया कि ज़िंदगी बढ़ने के बाद लोगों का मेडिकल बिल भी बढ़ने वाला है. उम्र बढ़ेगी तो शरीर के तमाम अंग भी पहले की तरह काम नहीं करेंगे और घुटने, हिप, कॉर्निया के साथ-साथ हार्ट वॉल्व्स भी बदलने की आवश्यकता पड़ेगी. विशेषज्ञों के मुताबिक ये किसी पुरानी कार को चलाते रहने जैसा होगा, जिस पर अच्छे-खासे खर्च की ज़रूरत होगी.

    Tags: Life Expectancy, Science news, Viral news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर