किसी आश्चर्य से कम नहीं है 2000 साल पुराना ये हैरतअंगेज पुल, बिना सीमेंट-सरिया के है बना

एक्वेडक्ट रोमन जल परिवहन वास्तुकला का एक उत्कृष्ट उदाहरण है (फोटो क्रेडिट- roman aqueducts museum)
एक्वेडक्ट रोमन जल परिवहन वास्तुकला का एक उत्कृष्ट उदाहरण है (फोटो क्रेडिट- roman aqueducts museum)

इस जलमार्ग (Aqueduct) का निर्माण पहली शताब्दी ईस्वी में शहर से 17 किमी दूर फ्रियो नदी (Frío River) से पानी लाने के लिए किया गया था. लेकिन सबसे बड़ा आश्चर्य तब होता है, जब आपको यह पता चलता है कि इसे बनाने में रत्ती भर भी सीमेंट-गारे (mortar) का इस्तेमाल नहीं किया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 8, 2020, 5:17 PM IST
  • Share this:
कभी रोम (Rome) में इसके जरिए पानी ले जाया जाता था. अब इसके चारों ओर बस्ती बस चुकी है. लेकिन सेगोविया का जलमार्ग (एक्वेडक्ट ऑफ सेगोविया- Aqueduct of Segovia) अब भी आश्चर्यजनक मजबूती के साथ 2000 साल बाद भी वैसे ही खड़ा है. यह रोमन जल परिवहन वास्तुकला (Roman Water Transport Architecture) का एक उत्कृष्ट उदाहरण है. इसकी डिजाइन बहुत सरल फिर भी शानदार लगने वाली है. और यह आश्चर्यजनक रूप से टिकाऊ भी है. इस जलमार्ग (Aqueduct) का निर्माण पहली शताब्दी ईस्वी में शहर से 17 किमी दूर फ्रियो नदी (Frío River) से पानी लाने के लिए किया गया था. लेकिन सबसे बड़ा आश्चर्य तब होता है, जब आपको यह पता चलता है कि इसे बनाने में रत्ती भर भी सीमेंट-गारे (mortar) का इस्तेमाल नहीं किया गया था.

लगभग 80 ई.पू. में रोमन साम्राज्य से हारने से पहले, मैड्रिड (Madrid) से लगभग 100 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में स्थित सेगोविया (Segovia) मूल रूप से एक सेल्टिक बस्ती (Celtic settlement) थी. बाद में रोमन साम्राज्य के तहत सेगोविया रोमन हिस्पानिया (Roman Hispania) इलाके का एक महत्वपूर्ण शहर बन गया. इस इलाके में आज स्पेन (Spain) और पुर्तगाल (Portugal) देश हैं.

तारीख मिट जाने से निर्माण काल का सही अंदाजा नहीं
बिना सीमेंट और बिना सरिया के आज तक खड़ा यह स्मारक स्टैक्ड ग्रेनाइट पत्थरों से बना है. इसका निर्माण पहली शताब्दी के आखिर में या दूसरी शताब्दी के शुरुआती सालों में हुआ था. यह बताना मुश्किल है क्योंकि एक्वेडक्ट के पत्थर पर शिलालेख में लिखी इसकी निर्माण की तारीख पानी के बहाव से मिट चुकी है. पुरातात्विक साक्ष्य बताते हैं कि दूसरी शताब्दी की शुरुआत की तारीख होने की संभावना अधिक है. जिससे इसका निर्माण काल सम्राट ट्राजन या सम्राट हैड्रियन का दौर हो सकता है.
कमी के चलते बिना सीमेंट बनाए जाने का किया गया निर्णय


यहां पर पानी को एक ऊंचे एल कैसरॉन (या बिग हाउस) नामक एक बड़े भंडारण टैंक में पहाड़ों से लाया गया था. जहां से इसे एक उपनगरीय धारा के माध्यम से कासा डी अगुआस (या वॉटरहाउस) नाम के दूसरे टॉवर में ले जाया जाता था. लेकिन इस दौरान पानी का नियंत्रण जरूरी था. जिसके चलते एक्वेडक्ट के निर्माण का फैसला किया गया. यह ब्रिज शानदार ऊंचे मेहराबों के साथ नाटकीय दिखता है, इसके स्तंभों का संतुलन बहुत शानदार है.

यह भी पढ़ें: आधी नर-आधी मादा है ये अनोखी चिड़िया, बायें ओर बड़े पंख, दाहिनी ओर अंडाशय

वैसे सीमेंट के बिना पुल बनाने का निर्णय संभवतः इसलिए किया गया था क्योंकि इस इलाके में सीमेंट बनाने के लिए चूना पत्थर की भारी कमी थी. आज यही आश्चर्य की बात हो गई है कि सीमेंट न लगाने ने इस संरचना की उम्र को लंबा करने में योगदान ही दिया है. क्योंकि इससे पुल की तन्यता में बढ़ोत्तरी हुई और यह छोटे-मोटे भूकंपों को आसानी से झेल गया. इस पुल के निर्माण में 20,400 ग्रेनाइट पत्थरों का प्रयोग किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज