Home /News /ajab-gajab /

Weird News : शख्स ने जिसे समझा सोना, वो निकला उससे भी बड़ा बेशकीमती खजाना

Weird News : शख्स ने जिसे समझा सोना, वो निकला उससे भी बड़ा बेशकीमती खजाना

साल 2015 में डेविड होल को पीले रंग का भारी पत्थर मेलबर्न के पास मैरीबोरो रीजनल पार्क (Maryborough Regional Park , Melbourne) में मिला था.  (Credit- Museums Victoria)

साल 2015 में डेविड होल को पीले रंग का भारी पत्थर मेलबर्न के पास मैरीबोरो रीजनल पार्क (Maryborough Regional Park , Melbourne) में मिला था. (Credit- Museums Victoria)

Man Discovers Meteorite : ज़िंदगी में कई बार ऐसा होता है कि हम सोचते कुछ हैं और सच्चाई कुछ और ही निकलती है. साल 2015 में डेविड होल (David Hole) नाम के एक शख्स को लाल और पीले रंग का भारी पत्थर (man found gold nugget ) मिला. डेविड उसे सोने का टुकड़ा समझ रहे थे, लेकिन सच्चाई जब उनके सामने आई तो वे हैरान रह गए है. जिस पत्थर को वे कीमती (4.6 billion year old meteorite) मान रहे थे, दरअसल वो बेशकीमती (Man got meteorite) निकला. ये कहानी वाकई काफी दिलचस्प है.

अधिक पढ़ें ...

    कब किसकी किस्मत कैसे चमक जाए, ये लकीरों का खेल है. ऑस्ट्रेलिया (Australia News) के मेलबर्न में रहने वाले एक शख्स के साथ भी ऐसा ही हुआ. उसके हाथ एक ऐसा खजाना (man brings gold nugget) लगा है, जिसकी कीमत का अंदाज़ा (4.6 billion year old meteorite) लगाना भी मुश्किल है. शख्स को पहले तो लगा कि ये सोने का पत्थर है, लेकिन उसकी सच्चाई इससे भी कहीं ज्यादा बेशकीमती (Man got meteorite) थी.

    साल 2015 में डेविड होल को पीले रंग का भारी पत्थर मेलबर्न के पास मैरीबोरो रीजनल पार्क (Maryborough Regional Park , Melbourne) में मिला था. ये जगह 19वीं सदी में काफी मशहूर थी. इस जगह पर पहले अच्छी मात्रा में सोना पाया जाता था, ऐसे में डेविड को भी लगा कि उनके हाथ एक सोने का पत्थर लग गया है. उन्होंने पत्थर को 6 साल तक अपने पास ही रखा.

    म्यूज़ियम चलेकर पहुंचे तो खुली सच्चाई
    डेविड होल ने पत्थर के हाथ लगने के 6 साल बाद तक इसे घर में रखा. कई बार इसे तोड़ने की कोशिश भी की, लेकिन ये नहीं टूटा. आखिरकार वे इसे लेकर मेलबर्न म्यूज़ियम में पहुंचे. जब म्यूज़ियम के लोगों ने उसके हाथ में ये पत्थर देखा, तो वे हैरान रह गए. दरअसल ये पत्थर अरबों साल पुराना एक उल्कापिंड है. सिडनी मॉर्निंग हेरल्ड से बाद करते हुए म्यूज़ियम के वैज्ञानिक डेरमोट हेनरी ने बताया कि उन्हें अब तक सिर्फ 2 ही असली उल्कापिंड हासिल हुए हैं.

    ये भी पढें- Pictures : समंदर में तैरता हुआ सपनों का शहर, 2025 तक बनकर हो जाएगा तैयार

    4.6 अरब साल हो सकती है उल्कापिंड की उम्र
    डेरमोट हेनरी के मुताबिक जिस उल्कापिंड का टुकड़ा हासिल हुआ है, वो मंगल और बृहस्पति ग्रह के बीच स्थित एस्टरॉयड बेल्ट से आया हुआ हो सकता है. इसकी उम्र लगभग 4.6 अरब साल बताई जा रही है और इसका वजन 17 किलोग्राम है. माना जा रहा है कि ये सैकड़ों साल पहले धरती पर गिरा होगा. एक उल्कापिंड के ज़रिये वैज्ञानिक सोलर सिस्टम की उम्र, उसके निर्माण और रसायनों के बारे में जानकारी देते हैं.

    Tags: Asteroid, History, Space Science

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर