OMG: ब्रिटेन के डाक विभाग का कमाल, 32 साल बाद मां तक पहुंचाया बेटे का Letter

British Post Department ने एक पोस्टकार्ड पहुंचाने में 32 साल लगा दिए. (Credit- Mirror)

ब्रिटेन के डाक विभाग (British Post Department) की करतूत सुनकर आप भारतीय डाक विभाग (Indian Post Department) पर लेट-लतीफी का आरोप लगाना बंद कर देंगे. एक बेटे की चिट्ठी मां (Letter delivered after 32 years) तक पहुंचाने में विभाग ने पूरे 32 साल ले लिए.

  • Share this:
    डाक विभाग (Post Department) से चिट्ठी पहुंचने में देरी हो जाना वैसे तो कोई नई बात नहीं है, लेकिन अगर ये देरी एक- दो हफ्ते के बजाय सालों की हो, तो मामला ज़रूर गंभीर हो जाता है. कुछ ऐसा ही हुआ ब्रिटेन में एक मां के साथ. उन्हें एक चिट्ठी 32 साल बाद (Letter delivered after 32 years) डेलीवर हुई. मज़े की बात तो ये है कि ये चिट्ठी उनके बेटे (Letter to Mother) ने यूनिवर्सिटी में पढ़ते हुए उन्हें लिखी थी और अब उनका बेटे की शादी हो चुकी है और उनका परिवार है.

    ब्रिटेन के डाक विभाग (British Post Department) का ये कारनामा वाकई हैरान कर देने वाला है. सोचिए, जो लेटर अमेरिका के मिशिगन विश्वविद्यालयमें पढ़ने वाले लड़के ने 30 अगस्त, 1989 को ब्रिटेन में रहने वाली अपनी मां को चिट्ठी लिखकर अपना हाल-चाल बताया था, वो अब जाकर 2021 में उनकी मां को मिला है. 32 साल बीत जाने के बाद बेटे का पोस्टकार्ड पाकर मां हैरान रह गईं.

    बेटे को भी नहीं हो रहा भरोसा
    वेबबसाइट Mirror के मुताबिक महिला के बेटे एंड्रयू लेस्ली (Andrew Leslie) को जब ये बात पता चली तो उन्हें भी भरोसा नहीं हुआ कि उनकी चिट्ठी पहुंचने में इतनी देर हो गई . उन्होंने बताया कि ये चिट्ठी उन्होंने अपनी मां को यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन (University of Michigan) में पढ़ाई के शुरुआती दिनों में लिखी थी. इस चिट्ठी में लेस्ली ने मां और पिता को अपनी यूनिवर्सिटी लाइफ और पढ़ाई के बारे में जानकारी दी थी. उन्होंने सोचा था कि ये लेटर मां को मिल गया होगा, लेकिन उन्हें नहीं पता था कि चिट्ठी पहुंचने में इतना वक्त लग जाएगा.

    तारीख देखकर दंग रह गई मां
    ऐनी लेस्ली (Anne Leslie) को जब उनके बेटे का पोस्टकार्ड मिला तो पहले इसे पढ़कर वो कुछ समझ नहीं पाईं, फिर जब उन्होंने इस पर लिखी तारीख देखी तो उन्हें भरोसा ही नहीं हुआ. डाक विभाग की इस लेटलतीफी पर हैरान ऐनी ने कहा कि - शुक्र है कि इस बीच मैने अपना पता नहीं बदला, वरना ये चिट्ठी मुझ तक कभी पहुंच ही नहीं पाती. मुझे समझ नहीं आ रहा है कि आखिर एक चिट्ठी पहुंचने में 32 साल कैसे लग सकते हैं? इस वक्त उनके बेटे एंड्रयू लेस्ली की शादी भी हो चुकी है और वे नॉटिंघम में रहते हैं. ये चिट्ठी उन्होंने कॉलेज टाइम में लिखी थी.

    ये भी पढ़ें- '29वें बर्थडे से पहले नहीं मिला पार्टनर तो ताउम्र रहोगी कुंआरी', दादा के मैसेज ने उड़ाए पोती के होश! 

    दिलचस्प बात तो ये रही कि ऐनी लेस्ली ने जब Royal Mail से संपर्क किया, तो उनके पास कोई सही जवाब नहीं था. वे खुद इस बात पर हैरान थे कि लेटर पहुंचने में इतना वक्त क्यों लगा? आमतौर पर ऐसा होता नहीं है. जो भी हो, अब बेटे का पोस्टकार्ड देखकर मां ऐनी का कहना है कि चिट्ठी में जिस एक्साइटमेंट से उनके बेटे ने अपनी यूनिवर्सिटी की ज़िंदगी के बारे में बताया था, उन्हें कभी वो सब जानने का मौका ही नहीं मिल पाया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.