NASA का Lunar loo Challenge, चांद पर टॉयलेट की बेस्ट डिजाइन बनाओ और...

NASA का Lunar loo Challenge, चांद पर टॉयलेट की बेस्ट डिजाइन बनाओ और...
फोटो साभारः ट्विटर/@Iamherox

इस काम्पीटिशन में नासा (NASA) ने दुनियाभर के वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को चांद पर स्थायी टॉयलेट (Lunar Loo Challenges) का डिजाइन बनाने का चैलेंज दिया है. चांद पर टॉयलेट के डिजाइन के काम्पीटिशन को जीतने वाले को नासा की ओर से इनाम भी दिया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 27, 2020, 11:44 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चांद (Moon) की ओर लगातार एक कदम आगे बढ़ने में लगी हुई अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा (US Space Agency NASA) ने एक खास तरह का काम्पीटिशन शुरू किया है. इस काम्पीटिशन में नासा (NASA) ने दुनियाभर के वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को चांद पर स्थायी टॉयलेट (Lunar Loo Challenges) का डिजाइन बनाने का चैलेंज दिया है. चांद पर टॉयलेट के डिजाइन के काम्पीटिशन को जीतने वाले को नासा की ओर से इनाम भी दिया जाएगा.

दरअसल नासा Artemis Mission के तहत चांद पर 2024 तक बेस तैयार करने की योजना पर काम कर रहा है. इस मिशन के लिए नासा को चांद पर टॉयलेट की जरूरत होगी. इसकी वजह से नासा द्वारा इनोवेटिव डिजाइन के लिए इस काम्पीटिशन शुरू किया गया है. जिस भी वैज्ञानिक या इंजीनियर का डिजाइन नासा द्वारा सेलेक्ट किया जाएगा उसे 26.5 लाख रुपये का इनाम मिलेगा.


ये भी पढ़ेंः- इम्यूनिटी बूस्ट करने के लिए मार्केट में आ गई च्यवनप्राश आइसक्रीम, लोगों ने दिए ऐसे रिएक्शन



चांद पर टॉयलेट बनाना है मुश्किल
बता दें कि चांद पर धरती की तरह गुरुत्वाकर्षण बल नहीं हैं. ऐसे में चांद पर हर चीज हवा में घूमती रहती है. यही वजह है जो टॉयलेट बनाना नासा के लिए एक चुनौती बना हुआ है. अब तक अंतरिक्ष यात्री एडल्ट डाइपर्स का इस्तेमाल करते थे और उन्हें बैग्स में रखते थे. 1975 में नासा के अपोलो मिशन के बाद सामने आई एक रिपोर्ट में कहा गया था कि Defecation and urination अंतरिक्ष में एक चिंता का विषय है.

पहले पढ़ लीजिए गाइडलाइन
नासा द्वारा चांद पर टॉयलेट के डिजाइन को बनाने के लिए एक खास गाइडलाइन भी जारी की गई है. इस गाइडलाइन के अनुसार ही टॉयलेट के डिजाइन को तैयार किया जा सकता है. आइए जानते हैं इसके बारे में...

- टॉयलेट को micro-gravity और lunar gravity में काम करना चाहिए.

- इसका द्रव्यमान पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण में 15 किलो से कम होना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज