वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाले धरती जैसे कई ग्रह, सब कुछ ठीक रहा है तो जल्द होगी एलियंस से मुलाकात

धरती जैसे कई ग्रह सोलर सिस्टम पर काम करते हैं.

धरती जैसे कई ग्रह सोलर सिस्टम पर काम करते हैं.

हमारी गैलेक्सी (Galaxy)रहस्यों का संसार है. एक ऐसा ही रहस्य हैं एलियंस (Aliens).अब तक किसी एलियन का पता तो वैज्ञानिक नहीं लगा पाए हैं लेकिन अब एक ऐसी स्टडी सामने आई है, जिससे हो सकता है हमें अंतरिक्ष (Space Study) में जल्दी ही अपने पड़ोसियों (Earth like Planets) का पता चल जाए.

  • Share this:

हम जिस ब्रह्मांड (Universe of mystery) में रहते हैं, ये काफी विशाल है. पृथ्वी (Earth) पर रहने वाले हम जीवों को अगर किसी और ग्रह पर जीवन के बारे में थोड़ा बहुत भी पता चलता है तो हम इसे लेकर बेहद उत्साहित हो जाते हैं. हालांकि अब तक इस तरह के एक्सोप्लैनट (Exoplanet) के बारे में हम नहीं जान पाए हैं, जहां जीवन की मौजूदगी के चिह्न मिले हों. अब एक्सोप्लैनट डिस्कवरी मिशन (Exoplanet discovery mission) पर लगी टीम का कहना है कि हो सकता है कि हमारी गैलेक्सी में धरती जैसे और भी सोलर सिस्टम हों. ये एक-दो नहीं अनेकों हो सकते हैं. अब सीधी भाषा में कहें तो गैलेक्सी में हमारे पड़ोसियों के मिलने की संभावना बढ़ गई है. अब उन्हें एलियन (Alien News) कह लें या और कुछ, हो सकता है वो हमें भी ढूंढ रहे हों.

एक्सोप्लैनट डिस्कवरी मिशन (Exoplanet discovery missions) टीम का नेतृत्व कर रहे डॉक्टर एंड्र्यू हॉवर्ड (Dr Andrew Howard) ने ये बात बताई है. उन्होंने ट्वीट करके ये जानकारी दी है कि धरती की ही तरह सोलर सिस्टम वाले कई ग्रह खोजे गए हैं. ये अपने स्टार्स से काफी नज़दीक हैं. इनमें शनि (Saturn) और जूपिटर (Jupiter) कॉमन फैक्टर हैं. कैलिफोर्निया लेगेसी सर्वे (California Legacy Survey) 30 साल पहले बनाया गया था और एक्सोप्लैनट का परीक्षण करता है और ये स्टार्स सिस्टम से जुड़ा हुआ डेटा इकट्ठा करता है. पिछले कुछ वर्षों में इस मिशन में कुछ अद्भुत चीजें देखने को मिली हैं. इनमें से एक ये भी है कि धरती की ही तरह सोलर सिस्टम वाले कुछ ग्रहों के निशान मिलना.

धरती और सूरज जैसे तमाम ग्रह मौजूद 

टीम को लीड कर रहे डॉक्टर हॉवर्ड (Dr Andrew Howard) का कहना है कि उनके मिशन ने 719 सूर्य जैसे तारों को ढूंढा है, 177 ग्रहों का पता लगाया है. इनमें से 14 नए ग्रह हैं, जिनका धरती से भी बड़ा है. इस टीम की खोज से पता चलता है कि हमारे ब्रह्मांड में एक दो नहीं अनेकों ऐसे ग्रह हैं जो धरती की ही तरह काम करते हैं. उनका आकार और संरचना काफी कुछ पृथ्वी की ही तरह है. हमारी पृथ्वी के ये पड़ोसी ग्रह काफी बड़े हैं और इनमें से ज्यादातर जुपिटर (Jupiter) और सैटर्न (Saturn) की तरह गैलेक्सी के ठंडे और बाहरी इलाकों में मौजूद हैं. मार्स (Mars) और मरक्यूरी ( Mercury) जैसे ग्रह ऑर्बिट के पास होने की वजह से काफी गर्म होते हैं.
मिल जाएंगे हमारे पड़ोसी 

कैल्टेक की ओर से रिलीज की गई जानकारी के मुताबिक हमारी धरती गैलेक्सी के बीचोबीच के ट्रॉपिकल ज़ोन में आती है. ये ज़िंदगी जीने की सबसे अनुकूल परिस्थितियां हैं. अब मिशन की ओर से दूसरे ग्रहों पर सोलर सिस्टम (Solar System) जैसी प्रक्रिया पर अध्ययन चल रहा है, ताकि पता लग सके कि वहां जीवन जीने की कितनी संभावना है या फिर वहां पहले से जीवन मौजूद है?

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज