VIDEO: जब दुनिया के सामने आया स्वर्ग की सीढ़ी का दूसरा रास्ता

वो रास्ता सामने था, जो स्वर्ग की सीढ़ी तक जाता है. गांववालों ने बताया कि उन लोगों ने पत्थर फेंक कर जानने की कोशिश की है कि अंदर क्या है. लोगों का मानना है इसके अंदर नहीं जाया जा सकता.

News18Hindi
Updated: April 21, 2019, 8:11 PM IST
News18Hindi
Updated: April 21, 2019, 8:11 PM IST
आधी हकीकत आधा फसाना. एक गुफा, जिसे पांडवों ने बनाया, लेकिन चंद महीने पहले ही दुनिया के सामने आई जिसके दूसरे छोर का, किसी को, कोई अंदाजा नहीं. अगर वो गुफा, प्राकृतिक है, तो अंदर हज़ारों बरस पुराना शिवलिंग किसने बनाया. अगर, सबकुछ सिर्फ किस्से-कहानियां हैं, तो उस डमरू का क्या रहस्य है, जो गुफा के भीतर दिखाई देता है. अगर सबकुछ अफवाह है, तो इस गुफा की भौगोलिक स्थिति, उन दिशाओं से मेल कैसे खाती है, जहां स्वर्ग की सीढ़ी का दावा आज भी होता है. इन्हीं सवालों का जवाब ढूंढने न्यूज 18 की टीम पहुंची ऋषिकेश.

टीम ऋषिकेश से 35 किलोमीटर दूर लोयल गांव पहुंची. गांववालों ने बताया था कि जिस गुफा की तलाश है वो इसी गांव में है. बाताया गया कि सामने की पहाड़ी में कई गुफाएं प्राकृतिक हैं तो कई गुफा ऋषि मुनि बनाते थे. कहते हैं उस गुफा में कई रहस्य जुड़े हैं. क्या ये मुमकिन है. ये जानने के लिए उस गुफा तक पहुंचना होगा.

VIDEO: स्वर्ग की सीढ़ी तक पहुंचने वाली उस गुफा की रहस्यमय कहानी

गुफा तक पहुंचने पर समस्या अंदर जाने की थी. उस नए और अंजान रास्ते पर साथ जाने के लिए कोई तैयार नहीं था. पुजारी केवल वहीं तक जाने के लिए तैयार हुए जहां तक सभी जाते हैं. जो नया रास्ता खोजा गया था वहां अकेले ही जाना होगा.

गुफा के अंदर पहुंचते हुए कई तरह की आकृतियां नजर आने लगीं जिसे लोग भगवान से जोड़कर आस्था की नजरों से देखते हैं. पूरी गुफा में आकृतियों की भरमार है. ऐसी रचनाएं पत्थरों के अंदर रासायनिक क्रियाओं से बनती हैं जिन्हें तैयार होने में सैकड़ों-लाखों साल लगते हैं लेकिन हमें तो यहां महाभारत से जुड़े साक्ष्यों की तलाश थी. पुजारी ने एक हवन कुंड दिखाया, दावा है कि इसी जगह पर पांडवों ने महादेव की पूजा की थी.

ये भी देखें- VIDEO: वेडिंग से ज़्यादा ज़रूरी वोटिंग, जब पोलिंग बूथ पर पहुंचीं दुल्हनें और दूल्हा

पुजारी जी के वापस लौटने पर सफर अकेले ही तय करना था. कदम दर कदम मुश्किलें बढ़ती जा रही थीं. तमाम जद्दोजहद करते हुए आखिरकार टीम उस रहस्यमयी जगह तक जा पहुंची. वो रास्ता सामने था, जो स्वर्ग की सीढ़ी तक जाता है. गांववालों ने बताया कि उन लोगों ने पत्थर फेंक कर जानने की कोशिश की है कि अंदर क्या है. लोगों का मानना है इसके अंदर नहीं जाया जा सकता. अब टीम उस जगह पहुंच गई थी जहां से लौटना भी मुश्किल लग रहा था.अगर पांडवों ने सीधे स्वर्ग की सीढ़ी तक जाने के लिए ये रास्ता तैयार किया था तो गए क्यों नहीं. क्या ये रास्ता अधूरा है. अगर अधूरा है तो क्यों. क्या कोई बड़ा खतरा था. इन सवालों का जवाब हासिल करने के लिए उन रास्तों पर चलना होगा. उस गुफा में जाना होगा जहां 5 हजार साल से शायद कोई नहीं गया.

ऐसी ही अजब-ग़ज़ब कहानियों और VIDEOS के लिए क्लिक करें
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार