• Home
  • »
  • News
  • »
  • ajab-gajab
  • »
  • प्रेग्नेंट महिला को था खतरनाक इंफेक्शन, डॉक्टर बोले- बच्चा चाहिए या पैर? खुद देख लें क्या किया फैसला

प्रेग्नेंट महिला को था खतरनाक इंफेक्शन, डॉक्टर बोले- बच्चा चाहिए या पैर? खुद देख लें क्या किया फैसला

स्पाइना बिफिडा से संक्रमित बैकी को अपने पैर और होने वाले बच्चे में से किसी एक को चुनने के लिए कहा गया (Image: Richard Swingler)

स्पाइना बिफिडा से संक्रमित बैकी को अपने पैर और होने वाले बच्चे में से किसी एक को चुनने के लिए कहा गया (Image: Richard Swingler)

स्पाइना बिफिडा (Spina Bifida) यानि एक तरह के हड्डी मेंहोने वाले इंफेक्शन से संक्रमित मां को अपने पैर और होने वाले बच्चे में से किसी एक का चुनाव करने के लिए कहा गया. जिसके बाद उन्होंने एक ऐसा फैसला लिया, जिसने उनकी पूरी जिंदगी ही बदल डाली. आप भी जानिए वेल्स के स्वानसी (Swansea city in Wales) में रहने वाली 32 वर्षीय बेकी टर्नर (Becky Turner) का किस्सा

  • Share this:
    कई बार जिंदगी में इंसान के सामने ऐसे मुश्किल हालात पैदा हो जाते हैं कि यह समझ पाना ही मुश्किल हो जाता है कि आगे क्या किया जाए लेकिन ऐसे में अगर एक मां को अपने बच्चे की भलाई और अपनी भलाई में से एक चीज चुननी पड़े तो वो आखें मूंद कर अपने बच्चे के भला ही चाहती है. ऐसा ही किस्सा है वेल्स के स्वानसी (Swansea city in Wales) में रहने वाली 32 वर्षीय बेकी टर्नर (Becky Turner) का जिन्होंने बिना अपनी परवाह किए अपनी औलाद के लिए ऐसा कदम उठाया, जिसे जानकर आप भी कहेंगे- मां तुझे सलाम !

    दरअसल, जब बैकी टर्नर लगभग 18 सप्ताह की गर्भवती थीं तो उन्हें पैर में समस्या होने लगी और पता चला कि उनकी हड्डी में इंफेक्शन (Bones infection) हो गया है. जानकारी के मुताबिक बैकी को जन्म के समय से ही स्पाइना बिफिडा (Spina Bifida) की समस्या थी. आपको बता दें कि यह एक ऐसी स्थिति होती है जहां रीढ़ और रीढ़ की हड्डी गर्भ में ठीक से विकसित नहीं हो पाती है, जिसके कारण रीढ़ में गैप (Gap in spine) बन जाता है. इसी की वजह से बैकी के पैर में संक्रमण फैला था लेकिन वह गर्भवती होने के कारण दवा नहीं ले सकतीं थीं. जिसके बाद उनसे कहा गया कि उन्हें अपने पैर या होने वाले बच्चे में से किसी एक को चुनना पड़ेगा.

    बैकी ने लिया सबसे कठीन फैसला

    आपको बता दें कि यह सवाल पूछे जाने के दौरान बैकी को कैसा महसूस हुआ, यह बताते हुए उन्होंने कहा, "यह काफी भयावह समय था. सब कुछ समझ से बाहर था और काफी जल्दी-जल्दी हो रहा था.'' उन्होंने आगे बताया कि "मेरे लिए, यह कुछ ऐसा था जिसे होने से रोका नहीं जा सकता था, इसलिए मैं अपने पैर को कटवाना और बच्चे को जन्म देना चुना. हांलाकि, बच्चे के जन्म के बाद मुझे उससे कुछ महीने उसके भले के लिए दूर रहना पड़ा.' उनसे मिली जानकारी के हिसाब से गर्भावस्था के दौरान कोई और परेशानियों (Complications during pregnancy) का सामना उन्हें नहीं करना पड़ा, जो कि कई बार बच्चे के जन्म के दौरान मां या बच्चे को झेलनी पड़ जाती हैं लेकिन उनके पैर को ठीक होने में काफी समय लगा और उनके लिए नवजात शिशु की देखभाल के शुरुआत के कुछ महीने काफी चुनौतीपूर्ण थे.

    बैकी ने बच्चे के लिए कटवा दिया अपना पैर (Image: Richard Swingler)
    बैकी ने बच्चे के लिए कटवा दिया अपना पैर (Image: Richard Swingler)


    बैकी के पति ने निभाई घर में उनकी भूमिका
    बैकी ने कहा, "पैर काटे जाने के बाद काफी कठिनाई महसूस हुई. मेरे पति, रिचर्ड को घर में मेरी भूमिका निभाने के साथ-साथ मेरी देखभाल करने के लिए बिना वेतन के 10 महीने की छुट्टी लेनी पड़ी.'' बैकी के हिसाब से यह एैसा समय था जब वह काफी उदास रहने लगीं थीं क्योंकि उस वक्त उन्हें नहीं लगता था कि वह एक अच्छी मां बन सकती हैं. उन्होंने कहा, 'मैं इस व्हीलचेयर में फंसी हुई थी और मैं वह काम नहीं कर पाई जो मैंने सोचा था कि मुझे एक नई मां के रूप में करना चाहिए."

    यह भी पढ़ें- 10 साल तक सड़क से गंदगी उठा घर को बना दिया कबाड़, बाद में जो हुआ, वो जानकर फटी की फटी रह जाएंगी आंखें!

    बैकी अपने निर्णय से संतुष्ट हैं

    जानकारी के मुताबिक, बेबी कैटलिन, जो अब 7 साल की है, उसके जन्म के 5 महीने बाद बैकी पहली बार उसे सैर के लिए बाहर ले जाने में सक्षम हुई. उस पल को याद कर बैकी बताती हैं, "वह अब तक का सबसे अच्छा एहसास था." आपको बता दें कि अपने जीवन को एक नया मोड़ देने के बावजूद बेकी ने कहा कि वह अपने निर्णय से संतुष्ट हैं. उनके मुताबिक, 'कुछ समय के लिए एक सदमा था लेकिन हमने सबसे अच्छा निर्णय लिया. मेरा पैर वैसे भी काफी जोखिम में था. इस फैसले के बाद राहत की बात यह भी थी कि इसने संक्रमण को खत्म कर दिया और मैंने सबसे अच्छी मां नहीं बन पाने से एक सफल मां बनने तक का सफर तय किया.'

    लॉकडाउन की वजह से परिवार के और करीब आने का मौका मिला

    हालांकि, बेकी को अपने स्टंप के साथ समस्या का समाना करना पड़ता है जिसकी वजह से वह कई सारी चीजें नहीं कर पाती हैं. उन्होंने जानकारी दी कि “कई महीने ऐसे भी होते हैं जब मुझे अपनी व्हीलचेयर पर ही रहना पड़ता है क्योंकि मैं दर्द के कारण पैर कहीं नहीं रख सकती. मैं अपने बच्चों को स्कूल ले जाने जैसे काम भी नहीं कर सकती. मैं बस इतना ही करना चाहती थी कि उन्हें स्कूल ले जाने और वापस लाने में सक्षम हो सकूं." उन्होंने यह भी कहा कि कोविड महामारी (COVID19 Pandemic) की वजह से लगे प्रतिबंधों की वजह से उन्हें उनके परिवार के करीब आने का मौका मिल पाया था. उन्होंने बताया, ''मैं घर में अपने बच्चों के साथ रह सकती थी. निश्चित समय पर निश्चित स्थानों पर होने का कोई दबाव नहीं होता था.''

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज