होम /न्यूज /अजब गजब /खुद को बिल्ली मानने लगी है 8वीं की 'होशियार' छात्रा, पूंछ लटकाने के लिए कटवा ली स्कूल की स्कर्ट !

खुद को बिल्ली मानने लगी है 8वीं की 'होशियार' छात्रा, पूंछ लटकाने के लिए कटवा ली स्कूल की स्कर्ट !

लड़की खुद को बिल्ली मानने लगी है और वैसा ही व्यवहार करती है. (सांकेतिक तस्वीर)

लड़की खुद को बिल्ली मानने लगी है और वैसा ही व्यवहार करती है. (सांकेतिक तस्वीर)

School Girl Behaves Like A Cat : कभी जिस लड़की को स्कूल में होशियारी बच्ची माना जाता था, वो अब एक अलग ही रूप में आ गई ह ...अधिक पढ़ें

School Girl Behaves Like A Cat : दुनिया अजब-गजब तथ्यों और अजीबोगरीब लोगों से भरी पड़ी है. आप कुछ ऐसी चीज़ें जानकर हैरान रह जाते हैं, जिसकी कल्पना भी करना मुश्किल है. आमतौर पर आपने बच्चों को बढ़ती उम्र में अपने दादा-दादी या फिर माता-पिता और दोस्तों की तरह व्यवहार करते देखा होगा. ये सामान्य भी है क्योंकि हम जिसके साथ रहते हैं, उसका प्रभाव व्यक्तित्व पर पड़ता है. हालांकि अगर कोई जानवर (Furry Culture Around The World) की तरह व्यवहार करने लगे, तो ये सामान्य बिल्कुल नहीं है.

ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न से एक ऐसी लड़की की कहानी सामने आई है, जो अलग ही किस्म की मानसिक स्थिति का शिकार है. कभी जिस लड़की को स्कूल में होशियारी बच्ची माना जाता था, वो अब एक अलग ही रूप में आ गई है. वो खुद को बिल्ली मानने लगी है और वैसा ही व्यवहार करती है. देखने वाले उसके व्यवहार का परिवर्तन देखकर हैरान हैं.

लड़की खुद को समझती है बिल्ली
Herald Sun की रिपोर्ट के मुताबिक लड़की स्कूल में होशियार बच्चों की लिस्ट में आती है, लेकिन अब उसका व्यवहार बदला हुआ है. वो स्कूल में ज्यादातर चुप ही रहती है और सिर्फ इधर-उधर देखती रहती है. अभिभावकों की शिकायत है कि इस मामले में स्कूल लड़की को रोकने के बजाय समर्थन दे रहा है. वहीं स्कूल का कहना है कि वे बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य और तनाव को लेकर अलग एप्रोच रखते हैं. इसके लिए वे प्रोफेशनल सलाह भी लेते हैं. हैरानी की बात ये भी है कि ये सिर्फ एक केस नहीं है बल्कि ऑस्ट्रेलिया में ऐसे की केस सामने आए हैं, जहां छात्र जानवरों की तरह व्यवहार कर रहे हैं.

चार पैरों पर भी चल रहे थे छात्र
मार्च में ऑस्ट्रेलिया के जाने-माने ब्रिसबेन प्राइवेट स्कूल में कुछ छात्राएं खुद को बिल्ली और लोमड़ियां समझ रही थीं और उन्होंने चार पैरों पर चलना शुरू कर दिया था. इतना ही नहीं एक छात्र खुद को कुत्ता समझने लगा था और उसे ठीक करने के लिए मनोवैज्ञानिक की सलाह लेनी पड़ी. वैसे ऐसे केसेज़ के बाद फरी कल्चर पर भी बात ज़रूरी हो जाती है, जो इस वक्त दुनिया के कई देशों में चल रहा है. इसके तहत इंसान जानवरों की तरह औरा में रहने लगता है और खुद को उनकी तरह ही मान लेता है. इस तरह के केसेज़ अमेरिका के भी स्कूलों में सामने आए हैं.

Tags: Ajab Gajab, Viral news, Weird news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें