एलियंस को लेकर बड़ा दावा- ब्लैक होल से ऊर्जा लेने में सक्षम हो सकते हैं एलियन, पता लगाना होगा आसान!

(फोटो: oddee.com)

(फोटो: oddee.com)

अंतरिक्ष (Space) में ब्लैक होल (Black Hole) शक्तिशाली गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र (Gravitational Force) वाली कोई ऐसी खगोलीय वस्तु है जिसमें लाइट भी अगर प्रवेश कर जाए तो बाहर नहीं निकल सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2021, 4:42 PM IST
  • Share this:
दूसरे ग्रह के प्राणियों के बारे में जानना बेहद रोचक होता है, इसलिए स्टार वॉर्स और एवेंजर्स जैसी फिल्में सिनेमा लवर्स के बीच काफी फेमस हैं. असल जिंदगी में भी कभी-कभी ऐसी घटनाएं खबरों में आई हैं जिसे एलियंस (Aliens) से जोड़कर देखा गया है. वैसे तो इन खबरों की पुष्टि नहीं हो सकी है मगर लोग एलियंस में जरूर विश्वास करते हैं. स्पेस साइंटिस्ट्स (Space Scientists) भी इस बात का दावा करते हैं कि ये काफी हद तक मुमकिन है कि दूसरे ग्रह पर भी जीवन हो. एलियंस से जुड़ी इन खबरों के बीच कुछ शोधकर्ताओं ने एक बड़ा दावा किया है.

शोधकर्ताओं (Researchers) ने अंदाजा लगाया है कि ऐसा हो सकता है कि शायद एलियंस ब्लैक होल (Black Hole) से ऊर्जा (Energy) चूसते हों या वो ब्लैक होल से शक्तियां सोख रहे हों. इस दावे के साथ ही वैज्ञानिकों ने कहा है कि ब्लैक होल के माध्यम से एलियंस को खोजने में मदद मिल सकती है. जब भी स्पेस से जुड़ी बात होती है तो ब्लैक होल को लेकर काफी चर्चा होती रहती है. कई लोग इस मुद्दे पर अपनी-अपनी राय देते रहते हैं. वैज्ञानिक भी ब्लैक होल को लेकर पहले भी कुछ दावे कर चुके हैं. ब्लैक होल को लेकर किए गए इस नए दावे से पहले ये जान लेना आवश्यक है कि ब्लैक होल होता क्या है.

ब्लैक होल क्या है?

जब कोई तारा नष्ट होता है तो वो एक होल का रूप लेने लगता है और अपने आसपास की सारी चीजों को अपने अंदर खींचने लगता है. यही है ब्लैक होल. अंतरिक्ष में ब्लैक होल शक्तिशाली गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र वाली कोई ऐसी खगोलीय वस्तु है जिसमें लाइट भी अगर प्रवेश कर जाए तो बाहर नहीं निकल सकती है. इस ब्लैक होल के अंदर इतनी शक्ति है कि ये दूसरे ग्रह, तारे और अन्य खगोलीय वस्तुओं को अपने अंदर खींच सकता है और इन सभी चीजों को असीम रूप से घने बिंदु में कुचल देता है. आम शब्दों में कहें तो ब्लैक होल अंतरिक्ष में ऐसे छेद हैं जिसमें अगर कुछ भी घुस जाए तो बाहर नहीं निकल सकता. मगर अब वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि एलियंस इसी ब्लैक होल से ऊर्जा को सोख रहे हैं. इसका अर्थ है कि अगर वैज्ञानिक ब्लैक होल ढूंढ लें तो वो एलियंस को भी ढूंढ सकते हैं.
फिजिक्स रिव्यू डी नाम की जर्नल में छपी एक नई रिसर्च में ये कहा गया है कि ब्लैक होल अनंत ऊर्जा का स्रोत हो सकता है मगर अभी तक कोई ऐसी तकनीक नहीं बनी जो इस ऊर्जा का इस्तेमाल कर सके. इंसानों ने अभी ब्लैक होल से ऊर्जा लेना का इतना ज्ञान अभी तक नहीं विकसित किया है. इंसान को पहले ब्लैक होल तक पहुंचना पड़ेगा और धरती से सबसे नजदीक जो ब्लैक होल है वो करीब एक हजार प्रकाश वर्ष दूर है. वैज्ञानिकों का दावा है कि इंसान नहीं मगर कुछ एलियंस जरूर ब्लैक होल और उसकी तकनीक को जान चुके होंगे इसलिए वो इस ब्लैक होल से ऊर्जा सोखने में सक्षम हैं.

इस शोध को करने वाले सह-वैज्ञानिक लुका कोमिसो ने कहा है कि एलियंस पेनरॉस प्रोसेस का इस्तेमाल कर रहे होंगे. इस थ्योरी के मुताबिक जब को कण ब्लैक होल के बेहद नजदीक घूम रहा होता है तो वो दो भागों में टूट जाता है. इन दो भागों में से एक भाग एरगॉसफियर में गिरता है. एरगॉसफियर वो जगह है जिसे पॉइंट ऑफ नो रिटर्न भी कहा जाता है. यानी वो जगह जिसके बाद से कोई चीज वापिस नहीं आ सकती. वैज्ञानिक लुका के अनुसार ब्लैक होल इतनी तेजी से घूमता है कि वो स्पेस और टाइम को एक भंवर की तरह अपने अंदर खींच लेता है. लुका के कैलकुलेशन के हिसाब से कण का वो हिस्सा जो एरगॉसफियर में गिरता है वो निगेटिव ऊर्जा से भरा रहता है. अगर ब्लैक होल के अंदर कोई निगेटिव ऊर्जा का कण जाए तो उससे ऊर्जा निकाली जा सकती है. क्योंकि जो दूसरा हिस्सा है वो पॉजिटिव ऊर्जा से बना रहता है और वो ब्लैक होल से बाहर कि ओर निकल जाता है. एलियन इन पार्टिकल को पकड़कर ब्लैक होल से ऊर्जा निकालने में सक्षम हो सकते हैं.

जब एलियन पॉजिटिव ऊर्जा लेते हैं तो वो अपने पीछे प्लाज्मा छोड़ जाते हैं. प्लाज्मा आवेशित गैस का गर्म प्रकार होता है. वैज्ञानिकों ने ब्लैक होल के बाहर प्लाज्मा के कण देखे हैं. वैज्ञानिकों का मानना है कि ये कण एलियन द्वारा एनर्जी सोखने के बाद बचे हुए पार्टिकल हैं. बहरहाल ये सब सिर्फ थ्योरी है. अभी वैज्ञानिकों को पता लगाना है कि एलियन स्पेस में और क्या सुराग छोड़ते हैं जिनके माध्यम से उनके बारे में पता लगाया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज