पृथ्‍वी के इस करीबी ग्रह पर मिले जीवन के संकेत, वैज्ञानिकों ने किया दावा

शुक्र ग्रह पर मिले जीवन के संकेत.

शुक्र ग्रह पर मिले जीवन के संकेत.

वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि पृथ्‍वी के इस सबसे करीबी ग्रह के बादलों में उन्‍हें फॉस्‍फीन नामक गैस (Phosphine gas) मिली है. चूंकि यह गैस माइक्रोबैक्‍टीरिया ऑक्‍सीजन की कमी में छोड़ते हैं तो वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि वहां जीवन के संकेत हो सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 15, 2020, 7:55 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. सुदूर अंतरिक्ष में वैज्ञानिक लगातार जीवन के संकेत खोज रहे हैं. इसी क्रम में ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि पृथ्‍वी के सबसे करीबी ग्रह शुक्र (Venus) के बादलों में उन्‍हें फॉस्‍फीन नामक गैस (Phosphine gas) मिली है. चूंकि यह गैस लहसुन या सड़ी मछली की तरह गंध देती है और इसे माइक्रोबैक्‍टीरिया ऑक्‍सीजन की कमी में छोड़ते हैं तो वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि वहां जीवन के संकेत हो सकते हैं. वहीं फॉस्‍फीन गैस कार्बनिक पदार्थों के टूटने से भी उत्‍पन्‍न होती है.

ब्रिटेन की वेल्स कार्डिफ यूनिवर्सिटी के एस्ट्रोनॉमर जेन ग्रीव्स और उनके सहयोगियों ने हवाई के मौना केआ ऑब्जर्वेटरी में जेम्स क्लर्क मैक्सवेल टेलीस्कोप और चिली में स्थित अटाकामा लार्ज मिलिमीटर ऐरी टेलिस्कोप की मदद से शुक्र ग्रह पर नजर रखी. इससे उन्‍हें शुक्र के बादलों में फॉस्‍फीन गैस का पता चला. वैज्ञानिकों के अनुसार वहां यह गैस बड़ी मात्रा में हो सकती है.

यह भी पढ़ें: जर्मनी ने छोड़ा चीन का साथ, भारत-प्रशांत रणनीति को अपनाया



वैज्ञानिकों के अनुसार फॉस्‍फीन गैस की मौजूदगी की वजह से शुक्र ग्रह पर माइक्रोबैक्टीरिया के होने की भी संभावना बढ़ गई है. ऐसे में वहां जीवन संभव हो सकता है. हालांकि शुक्र की सतह का औसत तापमान लगभग 464 डिग्री सेल्सियस होता है. वहीं पृथ्‍वी के मुकाबले प्रेशर भी 92 गुना ज्यादा होता है. इसलिए यह इंसानों के रहने लायक नहीं माना जाता.
वैज्ञानिकों ने अपने शोध में पाया है कि शुक्र की सतह से 53 से 62 किलोमीटर की ऊंचाई का तापमान लगभग 50 डिग्री सेल्सियस है. इस इलाके में प्रेशर भी पृथ्‍वी के समुद्र तल के समान है. बादल भी अत्याधिक अम्लीय हैं. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा शुक्र ग्रह के लिए दो प्राजेक्‍ट पर काम कर रही है. नासा अभी वहां के वायुमंडल को समझने के लिए इन प्रोजेक्‍ट पर काम करेगी. दोनों प्रोजेक्‍ट को नासा ने दाविन्‍सी और वेरीटास नाम दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज