Home /News /ajab-gajab /

scientists discover earth like exoplanet capable of hosting life is close by but not accessible pratp

हमारे बेहद नज़दीक मौजूद है धरती जैसा हरा-भरा ग्रह, फिर भी वहां पहुंचना वैज्ञानिकों के लिए नामुमकिन !

 European Southern Observatory के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा ही ग्रह ढूंढा है, जहां ज़िंदगी जीने के लिए ज़रूरी चीज़ें मौजूद हैं. (Credit- Pixabay/सांकेतिक तस्वीर)

European Southern Observatory के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा ही ग्रह ढूंढा है, जहां ज़िंदगी जीने के लिए ज़रूरी चीज़ें मौजूद हैं. (Credit- Pixabay/सांकेतिक तस्वीर)

European Southern Observatory के मुताबिक इस ग्रह पर धरती की तरह ही जीवन की सारी संभावनाएं मौजूद हैं. धरती से महज 4 प्रकाश वर्ष की दूरी पर मौजूद इस ग्रह (Earth Like Exoplanet) पर पहुंचना इंसान के लिए नामुमकिन है.

Mysterious Universe : अंतरिक्ष की दुनिया इतनी विशाल और रहस्यमय है कि इंसान अब तक इसके एक छोटे हिस्से को ही जान पाया. हमारी धरती और आस-पास के ग्रहों के अलावा हम कई ऐसे एक्सोप्लैनेट्स के बारे में जानते भी नहीं हैं, जहां हमारी धरती की ही तरह जीवन की सारी संभावनाएं मौजूद हैं European Southern Observatory के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा ही ग्रह ढूंढा है, जहां ज़िंदगी जीने के लिए ज़रूरी चीज़ें मौजूद हैं.

वैज्ञानिकों (Scientists Discover Earth Like Exoplanet) के मुताबिक ये ग्रह धरती से ज्यादा दूर भी नहीं है और हो सकता है कि एक दिन यहां मनुष्य पहुंच सकें. इस प्लानेट को Proxima d का नाम दिया गया है और ये प्रोक्सिमा सेंटौरी की धुरी पर पाया गया है, जो सूर्य के नज़दीक का तारा है. ये खबर आपको काफी उत्साहित करने वाली लग रही होगी, लेकिन मुश्किल ये है कि अब भी इंसान के वहां पहुंचने का रास्ता नहीं है क्योंकि ये ग्रह धरती से 4 प्रकाशवर्ष की दूरी पर है.

Proxima d है बिल्कुल धरती जैसा
European Southern Observatory की प्रेस रिलीज़ में पुर्तगाल की एक रिसर्चर João Faria ने बताया है कि इस नई खोज से पता चलता है कि ब्रह्मांड में हमारे पड़ोस में नई और रोचक दुनिया मौजूद है. भविष्य में और शोध के ज़रिये इन तक पहुंचा जा सकता है. ये ग्रह साइज़ में धरती का चौथाई है और धरती की तरह की अपने तारे का एक पूरा चक्कर 5 दिन में लगा कता है. इसका अपना सोलर सिस्टम है और जीवन की परिस्थितियां भी हैं. ये Proxima Centauri star से 2.48 मिलियन मील की दूरी पर है. Proxima d पहली बार साल 2020 में देखा गया, बाद में ESPRESSO की ओर से इसे कंफर्म किया गया. एस्ट्रोनॉमर्स धरती के इतने नज़दीक वैसा ही ग्रह पाकर बेहद खुश हैं.

ये भी पढ़ें- NASA दे रहा है अंतरिक्ष यात्री बनने का मौका! नौकरी की आवश्यकताओं के साथ बताई चयन प्रक्रिया

800 साल तक तो पहुंचना मुमकिन नहीं
ये नया ग्रह धरती से भले ही महज 4 प्रकाशवर्ष की दूरी पर हो, लेकिन इंसानों को वहां पहुंचने में सदियां लग जाएंगी. दरअसल हमारे पास अब तक ऐसी कोई तकनीक मौजूद नहीं है कि इंसान प्रकाश वर्ष की दूरी में सफर कर सके. कम से कम आगे 800 साल तक ऐसी कोई तकनीक आने की संभावना भी नहीं है. आपको बता दें कि प्रकाश वर्ष वो दूरी होती है, जिसमें एक तारे से दूसरे ग्रह तक प्रकाश के पहुंचने का समय मापा जाता है. एक सेकेंड में प्रकाश की गति 3 लाख किलोमीटर होती है. सोचिए ऐसे में 4 प्रकाश वर्ष की दूरी कितनी ज्यादा हो जाती है.

Tags: Space Exploration, Space Science, Weird news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर