Home /News /ajab-gajab /

वैज्ञानिकों ने खोजा ऐसा तपता हुआ ग्रह, जहां सिर्फ 16 घंटे का होता है एक साल

वैज्ञानिकों ने खोजा ऐसा तपता हुआ ग्रह, जहां सिर्फ 16 घंटे का होता है एक साल

 ब्रह्मांड (Hot Planet in the Space) में एक ऐसा ही गर्म ग्रह है, जहां 16 घंटे के अंदर ही साल बदल जाता है. (सांकेतिक तस्वीर)

ब्रह्मांड (Hot Planet in the Space) में एक ऐसा ही गर्म ग्रह है, जहां 16 घंटे के अंदर ही साल बदल जाता है. (सांकेतिक तस्वीर)

New Planet Discovered by Scientists : अंतरिक्ष (Space Exploration) में न जाने कितने रहस्य छिपे हुए हैं. इन्हीं रहस्यों पर से पर्दा हटाने के लिए वैज्ञानिक (New Research on Space) हर दिन कुछ न कुछ नया खोजते रहते हैं. हाल ही में एस्ट्रोनॉमर्स ने एक ऐसे अजीबोगरीब ग्रह (Planet has a Year of 16 hours) को खोज निकाला है, जहां कुछ घंटों में ही साल बदल जाता है. ये स्टडी एस्ट्रोनॉमिकल जर्नल (Astronomical Journal) में पब्लिश की गई है, जिसमें बताया गया है कि ब्रह्मांड (Hot Planet in the Space) में एक ऐसा ही गर्म ग्रह है, जहां 16 घंटे के अंदर ही साल बदल जाता है.

अधिक पढ़ें ...

    हमारी धरती पर एक साल बदलने के लिए 365 दिन लग जाते हैं और हर दिन में 24 घंटे होते हैं. सोचिए कोई ऐसी जगह हो, जहां 16 घंटे में दिन नहीं पूरा साल (Planet has a Year of 16 hours) बदल जाता हो, तो कैसा होगा ? बहरहाल, वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में एक ऐसा ग्रह (New Planet Discovered by Scientists) की खोज कर ली है, जो सिर्फ 16 घंटे में अपने तारे की परिक्रमा पूरी कर लेता है और यहां साल बदल जाता है.

    NASA के ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनट सर्वे सैटेलाइट (TESS) और मैसाच्युसेट् इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (Massachusetts Institute of Technology) ने मिलकर एक जुपिटर (Jupitor like Hot Planet) की तरह एक बेहद गर्म ग्रह को ढूंढ निकाला है, जहां 16 घंटे में एक साल बदल जाता है. इस अल्ट्राहॉट ग्रह में कई गैसों का भंडार पाया गया है.

    16 घंटे में बदल जाता है साल
    23 नवंबर 2021 में पब्लिश स्टडी के मुताबिक इस ग्रह का नाम TOI-2109b रखा गया है. इस ग्रह को नासा की TESS सैटेलाइट ने मई, 2020 से ऑब्ज़र्व करना शुरू किया था. ये धरती से करीब 855 प्रकाश वर्ष की दूरी पर है. ये ग्रह इसलिए भी इतना दिलचस्प है, क्योंकि ये अपने तारे की परिक्रमा 16 घंटों में पूरी करता है. इसका सीधा मतलब ये है कि यहांका एक पूरा साल पृथ्वी के एक सामान्य दिन से भी कम होता है. इस स्टडी के प्रमुख लेखक इयान वोंग का कहना है कि ये ग्रह एक या दो साल में अपने तारे के करीब जाएगा, जिसे हम देख सकेंगे.

    ये भी पढें- World Record : शख्स ने खाना खाकर ली ‘रिकॉर्डतोड़’ डकार, ड्रिल से भी तेज़ थी आवाज़ 

    3300 डिग्री सेल्सियस है तापमान
    पिछले कुछ सालों में अंतरिक्ष में कई गर्म ग्रहों की खोज की गई है. ये सौरमंडल में मौजूद जूपिटर यानि ब्रहस्पति ग्रह की तरह हैं. ये अपने तारे की परिक्रमा 10 दिन के अंदर ही कर लेते हैं. अल्ट्राहॉट जूपिटर कहे जा रहे TOI-2109b की सतह का तापमान 3300 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा माना जा रहा है. रिसर्चर्स के मुताबिक अभी तक 4000 से ज्यादा ऐसे ग्रह ढूंढे जा चुके हैं, जो ऐसे तारों की परिक्रमा करते हैं. इनकी दूरी पृथ्वी से काफी ज्यादा है.

    Tags: Interesting news, Science news, Space Science

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर