Home /News /ajab-gajab /

Sex Worker: भूख-गरीबी नहीं, समंदर के कारण जिस्म बेचने को मजबूर महिलाएं, घर बचाने के लिए करना पड़ रहा है ये काम

Sex Worker: भूख-गरीबी नहीं, समंदर के कारण जिस्म बेचने को मजबूर महिलाएं, घर बचाने के लिए करना पड़ रहा है ये काम

जिस्म बेचने को मजबूर हैं बांग्लादेश के एक समुद्री तट पर रह रही महिलाएं (Image- Sky News)

जिस्म बेचने को मजबूर हैं बांग्लादेश के एक समुद्री तट पर रह रही महिलाएं (Image- Sky News)

स्काई न्यूज (Sky News) की एक रिपोर्ट (Report) के मुताबिक बांग्लादेश (Bangladesh) के दक्षिण-पश्चिम तट (South-West Coast) पर रह रही महिलाओं के लिए समंदर के पानी का बढ़ता लेवल (Increasing water level) परेशानी का सबब बनता जा रहा है. दरअसल, वहां रह रही कई महिलाओं का कहना है कि बढ़ते जलस्तर की वजह से उन्हें वहां पेट पालने के लिए सेक्स वर्कर (Sex Worker) का काम करना पड़ रहा है.

अधिक पढ़ें ...
    एक सभ्य समाज का चोला ओढ़े इस समाज के कई ऐसे पहलू भी हैं, जिनके बारे में कोई खुलेआम बात करना पसंद नहीं करता. इसी समाज का एक हिस्सा है महिलाओं का वो समुदाय जो सेक्स वर्कर (Sex Worker) का काम करता है.
    भूख, गरीबी या मानव तस्करी (Human Trafficking), वजह चाहें जो भी हो कई जगह कई महिलाएं जिस्म बेच कर अपना घर चलाने को मजबूर हैं लेकिन हाल ही में आई स्काई न्यूज (Sky News) की एक रिपोर्ट के मुताबिक बांग्लादेश (Bangladesh) के दक्षिण-पश्चिम तट (South-West Coast) पर रह रही महिलाओं के लिए समंदर के पानी का बढ़ता लेवल (Increasing water level) परेशानी का सबब बनता जा रहा है. दरअसल, वहां रह रही कई महिलाओं का कहना है कि बढ़ते जलस्तर की वजह से उन्हें वहां पेट पालने के लिए सेक्स वर्कर (Sex Worker) का काम करना पड़ रहा है.

    मानव तस्करी का शिकार हुईं लड़कियां
    स्काई न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक इस तट पर बने कोठों और घरों में कई लड़कियां रहती हैं जो यही काम करती हैं. दरअसल, यह कड़वा सच तब सामने आई जब कुछ रिपोर्टर्स (Reporters) वहां पहुंचे और वहां धंधा करने वाली महिलाओं ने उन्हें ग्राहक (Customer) समझ लिया. जानकारी के मुताबिक एक रिपोर्टर ने एक महिला को अपनी पहचान बताई तो उस महिला ने वहां की सच्चाई बता दी. महिला के मुताबिक जब वह 15 वर्ष की थीं तब उनके घर के पास बढ़ते जलस्तर, तूफान और चक्रवात की वजह से उनके घर और खेत बर्बाद हो गए. जिसके बाद एक महिला ने उनकी मजबूरी का फायदा उठाते हुए उनसे कपड़े की फैक्ट्री में नौकरी दिलवाने का वादा किया लेकिन नौकरी दिलाने की बजाये उन्हें जिस्म फरोशी के धंधे में धकेल कर बेच दिया.

    यह भी पढ़ें- फ्लाइट में चढ़ते ही मॉडल को उतार दिया नीचे, स्किन कलर की ड्रेस को समझ बैठे थे Nude

    वेश्यालय छोड़कर नहीं जाना चाहतीं कई सेक्स वर्कर्स
    स्काई न्यूज़ के हवाले से आपको जानकारी दे दें कि बनिशंता वेश्यालय बगांग्लादेश का बहुत पुराना वेश्यालय है, जहां पास में स्थित मोंगला बंगरगाह (Mongla Port) से ग्राहक आते हैं. जानकारी के मुताबिक इस जगह लगभग 100 लड़कियां काम करती हैं, जिनमें से कई लड़कियां मानव तस्करी का शिकार हैं तो कई गरीबी की सताई हुई. आपको यह जानकर भी हैरानी होगी की यहां कई ऐसी बुजुर्ग महिलाएं भी रहती हैं जो अब यह काम नहीं करतीं लेकिन यहां से कहीं और जाना भी नहीं चाहती हैं. अब उन्होंने इस जगह को ही अपनी दुनिया मान लिया है लेकिन इनकी इस दुनिया पर एक खतरा मंडरा रहा है.

    मुश्किल में रहना मंजूर लेकिन कहीं और जाना नहीं

    दरअसल, बढ़ते जलस्तर की वजह से और तूफान-बाढ़ के कारण यह इनके इन घरों के पास किनारों को पानी का बहाव काट कहा है और इनके रहने की जगह के डूबने की आशंका है. साथ ही वहां रह रहीं महिलाओं का यह भी कहना है कि वह कहीं और जा कर नहीं रह सकतीं क्योंकि कहीं और लोग उन्हें अपनाएंगे नहीं इसलिए उन्हें यहीं रह कर पैसे कमाने पड़ते हैं. उनके मुताबिक बाढ़ में उनके घर डूब जाते हैं और तूफान के कारण टूट-फूट जाते हैं, जिनकी बाद में उन्हें मरम्मत करानी पड़ती है. इस चक्कर में उनके सारे पैसे खर्च हो जाते हैं. यहां तक की उन्हें कई बार कर्ज भी लेना पड़ता है. स्काई न्यूज की रिपोर्ट में बताया गया है कि समुदाय की मुखिया रजिया बेगम (RaziaBegum) का कहना है कि बंदरगाह की वजह से ही हमारे पास ग्राहक आते हैं, हम कहीं और चले गए तो वो नहीं आएंगे. साथ ही कहीं और लोग हमें अपनाएंगे भी नहीं, हमें विरोध भी झेलना पड़ेगा. यह जगह हमारी जीविका के लिए बहुत जरूरी है.undefined

    Tags: Bangladesh, Sex worker

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर