Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    अमेरिका में यहां पर हुए थे 1000 से ज्यादा परमाणु टेस्ट, धरती में हो गये चंद्रमा जैसे सैकड़ों गड्ढे

    नेवादा टेस्टिंग साइट पर 100 परमाणु परीक्षण तो खुली हवा में किये गये थे (फाइल फोटो, क्रेडिट- AP News)
    नेवादा टेस्टिंग साइट पर 100 परमाणु परीक्षण तो खुली हवा में किये गये थे (फाइल फोटो, क्रेडिट- AP News)

    जब ये परमाणु परीक्षण (Neuclear Tests) हुआ करते थे तो इसके मशरूमनुमा बादल (Mushroom clouds) लगभग 100-100 मील दूर तक साफ देखे जा सकते थे. और इसके झटके (tremors) लास वेगास (Las Vegas) तक महसूस किए जाते थे.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 1, 2020, 6:13 PM IST
    • Share this:
    लास वेगास शहर (Las Vegas City) से उत्तर-पश्चिम में लगभग 65 मील दूर नेवादा की नये काउंटी में नेवादा टेस्ट साइट (Nevada Test Site) स्थित है. यह जगह इसलिए खास है क्योंकि आज भी यहां संयुक्त राज्य अमेरिका (United States of America) के परमाणु युग (Nuclear Age) के अवशेष बिखरे हुए हैं. आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इस स्थान पर लगभग एक हजार परमाणु परीक्षण (Neuclear Testing) किए गए थे, जिनमें से लगभग सौ तो खुले वातावरण में हुए थे.

    जब ये टेस्ट हुआ करते थे तो इसके मशरूमनुमा बादल (Mushroom clouds) लगभग 100-100 मील दूर तक साफ देखे जा सकते थे. और इसके झटके (tremors) लास वेगास तक महसूस किए जाते थे. 1960 के दशक की शुरुआत में विवादों से बचने के लिए भूमिगत टेस्टिंग (Underground Testing) की जाने लगीं और अगले तीन दशकों में यहां सतह के नीचे नौ सौ से अधिक परमाणु उपकरणों (Neuclear devices) का विस्फोट किया गया. जिससे यहां की धरती ऐसी हो गई है, जैसे चांद की सतह हो.

    परमाणु परीक्षणों से ऐसी हुई धरती जैसे चांद की सतह हो
    इस सतह पर तब तश्तरी के आकार के क्रेटर बन जाते थे जब जमीन के नीचे परमाणु विस्फोट होते थे. खासकर युक्का फ्लैट में ऐसी धरती है, जहां परीक्षणों का बड़ा हिस्सा हुआ. इन क्रेटर्स के अलावा खराब हो रहा सेना का साजो-सामान, एक बैंक तिजोरी, एक ट्रेन, एक भूमिगत पार्किंग गैरेज, ऑटोमोबाइल और पुतलों के अलावा एक बनावटी समुदाय के कुछ घरों के अवशेष ही यहां हैं, जो 29-किलोटन की एक परमाणु टेस्टिंग के दौरान जमीन पर धराशायी हो गए थे. 390 मीटर चौड़ा सेडान क्रेटर और किसी काम का न रहा आइसकैप टॉवर और इसके आसपास के घर, नेवादा राष्ट्रीय सुरक्षा साइट के कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं का निर्माण करते हैं.
    Huron King Test
    युक्का फ्लैट की धरती पर इन परीक्षणों का बड़ा हिस्सा हुआ (फोटो क्रेडिट- AP News)




    परमाणु परीक्षणों का एक और अवशेष, एक बड़ा वैक्यूम चैंबर है जो 1980 में 'ह्यूरॉन किंग’ परमाणु परीक्षण के लिए बनाया गया था. इस वैक्यूम चैंबर को टिंडरबॉक्स कहा जाता है.

    ऑपरेशन टिंडरबॉक्स
    परमाणु परीक्षणों से जुड़े इस ऑपरेशन के तहत ही ह्यूरन किंग टेस्टिंग को 24 जून 1980 को किया गया था. इसका उद्देश्य एक इलेक्ट्रो-मैग्नेटिक पल्स में विस्फोट करना और यह मापना था कि यह एक सैन्य उपग्रह को कितनी चोट पहुंचा सकता था, और क्या इस तरह के हमले से बचने के लिए काम में आने वाली बचाव तकनीकें पर्याप्त थीं. ऐसे में जबकि वायुमंडलीय में परमाणु परीक्षण नहीं किया जा सकता था, तो इंजीनियरों ने एक नया उपाय निकाला- उन्होंने अंतरिक्ष जैसे निर्वात को बनाने के लिएक बड़े से चैंबर में उपग्रह को रख दिया. और उसी में विस्फोट किया. यह एक विशालकाय 50 टन का निर्वात कक्ष था. इस वैक्यूम चेंबर का नाम टिंडरबॉक्स रखा गया था.

    यह परीक्षण सफल रहा था और पाया गया था कि उपग्रह को बचाने के लिए जो अमेरिकी तकनीके हैं, वे काम कर रही हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज