रहस्यमय: बारिश के ठीक बाद ही क्यों सूख जाती हैं यहां की झीलें? कहां गायब हो जाता है पानी? जानिए

40 करोड़ साल पहले तक आयरलैंड का ज्यादातर हिस्सा समुद्र में डूबा रहता था (फोटो क्रेडिट- National Museum of Ireland)
40 करोड़ साल पहले तक आयरलैंड का ज्यादातर हिस्सा समुद्र में डूबा रहता था (फोटो क्रेडिट- National Museum of Ireland)

आयरलैंड (Ireland) का लगभग 65 प्रतिशत हिस्सा चूना पत्थर (Limestone) से बना है. ये चट्टानें लगभग 40 करोड़ वर्ष पहले मूंगा चट्टानों (Coral Reefs) और अन्य समुद्री जीवों से बनी थीं. तब आयरलैंड का अधिकांश हिस्सा गर्म उष्णकटिबंधीय समुद्र के नीचे हुआ करता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 4:15 PM IST
  • Share this:
कई झीलें (lakes), जो पूरी तरह वर्षा जल (Rain Water) पर निर्भर होती हैं, वे सिर्फ बारिश के मौसम (Rainy season) तक रहती हैं. यह कोई रहस्यमय घटना नहीं है. जब बारिश का पानी जमा हो जाता है, तब झील बन जाती है. जब बारिश का पानी सूख जाता है, तो झील भी गायब हो जाती है. लेकिन आयरलैंड (Ireland) में एक सचमुच की रहस्यमयी गायब होने वाली झील है. क्योंकि यह गायब होने वाली झील (Disappearing Lakes) है. क्योंकि यह झील, आम झीलों की तरह हवा में भाप बनकर नहीं उड़ती; इसका पानी भूमिगत नालियों (underground drains) के जरिए गायब होता है. इन नालियों को टरलो (Turloughs) कहा जाता है.

ज्यादातर टरलो, शैनन नदी (River Shannon) के पश्चिम में स्थित निचले तराई के इलाकों (lowlands) में पाए जाते हैं. हालांकि ये कुछ अन्य जगहों पर भी मिलते हैं. किसी टरलो के बनने के लिए सबसे जरूरी है कि जमीन के नीचे चूना पत्थर (Limestone) की चट्टानें हों. चूना पत्थर एक अवसादी चट्टान (sedimentary rock) है जो कोरल और छोटे-छोटे कठोर पीठ वाले समुद्री जीवों के कंकाल के टुकड़ों से बना होती है. इसका मुख्य घटक कैल्शियम कार्बोनेट (calcium carbonate) होता है, जो पानी में घुलनशील है.

आयरलैंड की धरती के चलते होता है ऐसी नालियों का निर्माण
दरअसल वर्षा का पानी थोड़ा अम्लीय होता है, क्योंकि इसमें विघटित कार्बन-डाई-ऑक्साइड होता है, जिसके कारण यह धीरे-धीरे चूना पत्थर की चट्टानों को खत्म कर देता है. इससे लाखों वर्षों में चूना पत्थर की चट्टानों में दरारें आ जाती हैं जो वर्षा के पानी के रिसाव से और चौड़ी हो जाती हैं. इससे बड़ी-बड़ी भूमिगत गुफाओं और सुरंग प्रणालियों का निर्माण हो जाता है, जिनमें पानी अंदर और बाहर आता-जाता रहता है.
आयरलैंड का लगभग 65 प्रतिशत हिस्सा चूना पत्थर से बना है. ये चट्टानें लगभग 40 करोड़ वर्ष पहले मूंगा चट्टानों और अन्य समुद्री जीवों से बनी थीं. तब आयरलैंड का अधिकांश हिस्सा गर्म उष्णकटिबंधीय समुद्र के नीचे हुआ करता था. जबकि वर्तमान में यह जैसा है, ऐसा लगभग 25 करोड़ वर्ष पहले बना. इस समय तक टेक्टॉनिक गतिविधियों ने आयरलैंड को पूरी तरह से पानी से बाहर निकाल दिया था. बाद के हिमनदों ने इसके ऊपर मिट्टी और रेत की एक मोटी परत जमा की, जिससे दलदल और झीलें बनीं.



झील के पूरा सूख जाने के बाद दिखते हैं इन नालियों के छेद
शैनन नदी का पूर्व अभी भी हिमनद बहाव की लाई मिट्टी-रेट की एक मोटी परत से ढका है, लेकिन शैनन के पश्चिम में कई क्षेत्रों में जमीन पूरी तरह से चूना पत्थर की है और धरती की मोटाई बहुत कम है. इन क्षेत्रों में, वर्षा का जल जमीन पी जाती है. इससे भी मजेदार यह कि चट्टान में यह पानी घुसता है और फिर दूर झरनों से झरता है. सर्दियों में, जब भूमिगत पानी का स्तर बढ़ता है, और ऐसी भूमिगत नालियां पानी से भर जाती हैं, तो बारिश का पानी जमीन में नहीं रहता और झीलों या धरती के ऊपर दिखने लगता है.

यह भी पढ़ें: बीच सड़क लड़कियां ठीक करेंगी बिगड़ी कारें, ये कॉलेज सीखा रहा टायर बदलना, इंजन चेक करना

ऐसे टरलो का आसानी से अनुमान लगाया जा सकता है. वे साल-दर-साल एक ही स्थान पर दिखते और गायब होते हैं. हालांकि कभी-कभी नये टरलो भी दिखाई देते हैं, जो पहले कोई भी नहीं दिखे थे. यह वर्षा की मात्रा पर निर्भर करता है कि ये कब दिखेंगे. कभी ये एक घंटे में ही दिखकर गायब हो जाते हैं. कभी-कभी पानी तलहटी में मौजूद एक छेद के माध्यम से गायब हो जाता है, इसे 'स्वालो होल' यानि 'निगलने वाला छेद' कहा जाता है, जिसे झील के सूखने पर देखा जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज