Home /News /ajab-gajab /

चिल्ला-चिल्लाकर पढ़ाती थी शिक्षिका, यूनिवर्सिटी ने दिया 1 करोड़ का मुआवज़ा !

चिल्ला-चिल्लाकर पढ़ाती थी शिक्षिका, यूनिवर्सिटी ने दिया 1 करोड़ का मुआवज़ा !

शिक्षिका को अपनी नौकरी से सिर्फ इसलिए हाथ धोना पड़ा, क्योंकि वो छात्रों से तेज़ आवाज़ में बात करती थी. (Credit-Exeter University )

शिक्षिका को अपनी नौकरी से सिर्फ इसलिए हाथ धोना पड़ा, क्योंकि वो छात्रों से तेज़ आवाज़ में बात करती थी. (Credit-Exeter University )

Exeter University ने एक शिक्षिका की तेज़ आवाज़ के चलते उसे नौकरी से बाहर का रास्ता दिखा दिया, लेकिन उसे एक करोड़ का भारी-भरकम मुआवज़ा आखिर क्यों मिला?

    एक अच्छा टीचर वो होता है, जो छात्रों को अच्छी तरह पढ़ा सके और ज़रूरत पड़ने पर अपनी आवाज़ तेज़ भी कर सके. अब इसका मतलब ये नहीं है कि क्लास में शिक्षक चिल्ला-चिल्लाकर बात करे. इंग्लैंड के एक्सेटर यूनिवर्सिटी (Exeter University) की एक शिक्षिका को अपनी नौकरी से सिर्फ इसलिए हाथ धोना पड़ा, क्योंकि वो छात्रों से तेज़ आवाज़ में बात करती थी.

    डॉक्टर एनेट प्लॉट (Dr Annette Plaut) नाम की 59 साल की शिक्षिका ब्रिटेन की एक्सेटर यूनिवर्सिटी (Exeter University) में पिछले 29 साल से पढ़ा रही थीं. फिजिक्स विषय की टीचर को अचानक ही उनकी नौकरी से निकाल (Teacher sacked for being too loud) दिया गया था. इस मामले में उन्होंने कोर्ट जाकर यूनिवर्सिटी प्रशासन के खिलाफ शिकायत कर दी कि उन्हें इसलिए नौकरी से निकाला गया है क्योंकि वो क्लास में चिल्ला-चिल्लाकर पढ़ाती थीं.

    क्या है शिक्षिका की शिकायत

    Daily Star की रिपोर्ट के मुताबिक 29 साल से फिजिक्स टीचर की नौकरी कर रहीं डॉक्टर एनेट प्लॉट का दावा है कि उनकी यूनिवर्सिटी ने उन्हें नौकरी से सिर्फ इसलिए निकाल दिया क्योंकि उनकी आवाज़ तेज़ थी. हालांकि यूनिवर्सिटी ने अपने बचाव में कहा है कि उन्होंने शिक्षिका को तेज़ आवाज़ की वजह से नहीं बल्कि पीएचडी के दो छात्रों के साथ बुरा बर्ताव था. उनको नौकरी से निकालने की वजह न तो बैकग्राउंड और न ही उनका महिला होना है. वे तनाव से निपटने की दवाएं ले रही थीं. वहीं टीचर का दावा है कि उनकी आवाज़ कुदरती तौर पर बहुत तेज़ है और वे नहीं समझ पातीं कि कब वो ज्यादा लाउड हो जाती हैं. उनका दावा है कि न्यूयॉर्क और जर्मनी में भी वो नौकरी कर चुकी हैं, लेकिन कभी इस तरह की शिकायत उनके खिलाफ नहीं आई.

    ये भी पढ़ें- बचत के लिए बेहद हानिकारक है दोस्तों के साथ पार्टी, आदत बदलकर लखपति हो गई लड़की 

    कोर्ट ने दिलवाया 1 करोड़ का मुआवज़ा
    डॉक्टर एनेट को नौकरी से निकालने से पहले 2 बार सस्पेंड किया जा चुका था. उनका कहना है उन्हें इसी की वजह से तनाव और डिप्रेशन हुआ था. वे हर हाल में अपनी नौकरी वापस पाना चाहती हैं. कोर्ट ने नकी दलील को मानते हुए इस मामले पर 17 जनवरी को फैसला देते हुए उन्हें 1 करोड़ रुपये का मुआवज़ा देने का आदेश सुनाया. कोर्ट ने इस मामले में यूनिवर्सिटी को फटकार भी लगाई है. हालांकि यूनिवर्सिटी का कहना है कि वो मामले में फिर से अपील करेगी.

    Tags: Britain, Education, Viral news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर