अपना शहर चुनें

States

VIDEO: कुत्तों के वफादार हुए इंसान,'भूरीबाई' के 8 नवजातों को ऐसे पाल रही है कॉलोनी

गुना के मोहल्ले में भूरीबाई को एक पारिवारिक सदस्य की तरह प्यार मिलता है तभी तो यहां कोई भूरीबई का चाचा है तो कोई तो कोई ताऊ और मामा. इंसानों और जानवर के बीच इस अनूठे प्रेम की कहानी के कई गवाह हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2019, 9:33 PM IST
  • Share this:
वैसे तो आजकल कुत्तों को परिवार का सदस्य बनाना आम बात है लेकिन एक जगह ऐसी भी है जहां कुत्ते को मोहल्ले के सदस्य का सम्मान दिया गया. हम बात कर रहे हैं गुना शहर के पुरानी छावनी क्षेत्र के मोहल्ले की. भूरीबाई अपने मोहल्ले की लाडली सदस्यों में से एक है. मोहल्ले में भूरीबाई को एक पारिवारिक सदस्य की तरह प्यार मिलता है तभी तो यहां कोई भूरीबाई का चाचा है तो कोई तो कोई ताऊ और मामा. इंसानों और जानवर के बीच इस अनूठे प्रेम की कहानी के कई गवाह हैं.

हाल ही में भूरीबाई ने 8 बच्चों को जन्म दिया है जिनेक खान पान से लेकर रहने की व्यवस्था मोहल्लेवाले कर रहे हैं. सभी बच्चे स्वस्थ और तंदरुस्त हैं. मां और बच्चों को सर्दी से बचाने के लिए कम्बल और अलाव की व्यवस्था भी की गई. साथ ही खाने के लिए बिस्किट, रोटी समेत अन्य चीज़ें भी दी गई. पिता भूरा भी अपने परिवार की सुरक्षा में मुस्तैद रहता है.

ये भी देखें- गुना अस्पताल में जेल से भी बदतर हालात! मरीज़ों को ऐसे दिया जाता है खाना, देखें VIDEO



इन मासूमों के लिए मोहल्ले वालों ने कुछ अलग करने की सोची है. आखिर है तो मोहल्ले की सदस्य तो इंसानों की तरह इन बच्चों के जन्म का भी जश्न मनाया जाना चाहिए. तो फिर क्या सब एकजुट हुए और प्लॉनिंग शुरू हुई. सभी रिश्तेदारों ने भूरीबाई के सम्मान में एक आयोजन की तैयारियों शुरू कर दी.
भूरीबाई के बच्चों के लिए दश्टोन कार्यक्रम का आयोजन रखा गया. टश्टोन बच्चे के जन्म पर एक रिवाज़ की तरह मनाया जाता है. इसके लिए बाकायदा 15 हजार रूपये का चन्दा भी जुटाया गया. चंदे के साथ साथ DJ, ओर्केस्ट्रा की व्यवस्था की गई. आयोजन की व्यवस्था के लिए बच्चों से लेकर महिलाएं और बूढ़े भी गए. किसी ने रोटी की व्यवस्था की जिम्मेदारी ली है तो किसी ने पानी, चाय और बिस्किट की. बैठने के लिए कुर्सियों और सजाने के लिए लाइट का भी इंतजाम हुआ. भूरीबाई के सम्मान में एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसकी तैयारियों जोरों शोरों से हुई. अपने आप में अनोखे इस कार्यक्रम की चर्चा पूरे शहर में है.

ये भी देखें- EXCLUSIVE VIDEO: फिसलन भरी पटरियों पर कैसे चल पाती है ट्रेन ?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज