• Home
  • »
  • News
  • »
  • ajab-gajab
  • »
  • लॉकडाउन में महीनों तक दोस्तों से नहीं मिली 8 साल की बच्ची, स्ट्रेस में नोच लिए अपने सारे बाल!

लॉकडाउन में महीनों तक दोस्तों से नहीं मिली 8 साल की बच्ची, स्ट्रेस में नोच लिए अपने सारे बाल!

बच्ची की मां ने बताया कि उसके अंदर ऐसी कंडीशन पैदा हो गई थी जिससे स्ट्रेस में वो अपने बाल नोचने लगी थी. (फोटो: Instagram/@jemzym84)

बच्ची की मां ने बताया कि उसके अंदर ऐसी कंडीशन पैदा हो गई थी जिससे स्ट्रेस में वो अपने बाल नोचने लगी थी. (फोटो: Instagram/@jemzym84)

ब्रिटेन (Britain) में एक 8 साल की बच्ची एमेलिया (Amelia) लॉकडाउन (Lockdown) के कारण इतनी ज्यादा स्ट्रेस (Stress) में आ गई कि उसने अपने बालों को नोचना शुरू (Girl Rip out hair in lockdown) कर दिया और धीरे-धीरे वो गंजी (Bald) हो गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    कोरोना काल (Coronavirus Pandemic) में लगभग हर देश ने अपने यहां लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा कर दी थी जिसके बाद हर कोई अपने घरों में बंद हो गया था. कोरोना के रोकथाम के लिए लॉकडाउन वैसे तो काफी अच्छा उपाय था मगर कई लोगों के लिए घर से ना निकलना बेहद मुश्किल भरा था. लोग घर में रहते-रहते चिंता में आ गए थे और स्ट्रेस (Stress) के कारण लोगों की मानसिक स्थिति भी बिगड़ने लगी थी. ऐसा ही कुछ एक 8 साल की बच्ची (8 year old child) के साथ भी हुआ. वो लॉकडाउन से इतनी स्ट्रेस (Lockdown Stress) में आ गई थी कि उसने अपने सर के बाल नोच (Girl rip out own hair) लिए!

    हिंदी में सर के बाल नोच लेना मुहावरा तब इस्तेमाल होता है जब कोई बहुत ज्यादा परेशन हो जाता है या स्ट्रेस में आ जाता है. जिस लड़की की हम यहां बात कर रहे हैं उसने मुहावरे में नहीं, असल में अपने सर के बाल परेशान होकर नोच लिए और अब वो गंजी (Bald) हो चुकी है. ब्रिटेन (Britain) के ब्रिस्टल (Bristol) में एक 8 साल की बच्ची एमेलिया (Amelia) लॉकडाउन के कारण इतनी ज्यादा स्ट्रेस में आ गई कि उसने अपने बालों को नोचना शुरू (Girl Rip out hair in lockdown) कर दिया और धीरे-धीरे वो गंजी हो गई. अब उसके सर पर कुछ ही लंबे बाल बचे हुए हैं. इसलिए जब भी वो घर से निकलती है तो सर पर कपड़ा बांध लेती है. एमेलिया की मां जेमा मैंसी (Jemma Mansie) ने पहली बार अपनी बेटी को अपनी आंखों की पल्के (Eyelashes) नोचते देखा तो वो दंग रह गईं. उन्होंने मिरर वेबसाइट से बात करते हुए कहा कि पहले लॉकडाउन में एमेलिया अपनी पल्के नोचती थीं और धीरे-धीरे उसने अपनी सारी पल्के नोच डालीं. उनका मानना है कि लॉकडाउन में स्कूल ना जाने और दोस्तों ने ना मिलने के कारण उनकी बेटी को काफी स्ट्रेस हो गया जिससे उसमें trichotillomania नाम की कंडीशन पैदा हो गई जिसमें शख्स, स्ट्रेस में आने पर अपने बाल नोचने लगता है और खुद को बाल नोचने से रोक ही नहीं पाता है.

    8 year old girl rip out her hair due to stress

    एमेलिया को बिना बालों के बाहर जाने में शर्मिंदगी महसूस होती है इसलिए वो घर से बाहर सर ढक कर ही निकलती है. (फोटो: Caters News Agency)

    महिला ने बताया कि पहले तो उन्होंने एमेलिया द्वारा पल्के नोचने की हरकत को नजरअंदाज किया मगर जब उन्होंने देखा कि इस वजह से एमेलिया की पल्कें ही खत्म हो गईं तो वो चिंतित होने लगीं. दूसरे लॉकडाउन तक एमेलिया अपने सर के बाल नोचने लगी थी. जेमा ने कहा कि वो अपनी बेटी को कभी-कभी टोकती थीं कि वो ऐसा ना करें मगर उन्हें लगता था कि वो पहले से ही स्ट्रेस में है इसलिए वो उसे और परेशान नहीं करना चाहती थीं. एमेलिया ने अपने सर के पीछे बालों को जब नोचना शुरू किया तब उसके बाल कंधे तक आते थे. नोचते-नोचते उसके सर पर बेहद छोटे बाल बचे हैं. सर के पीछे कुछ बाल लंबे हैं. मां ने बताया कि एमेलिया को ध्यान भी नहीं रहता था और वो अपने बाल नोचती रहती थी. अब जब वो अपने सर के सार बाल नोच चुकी है तो उसे बाहर जाने में शर्मिंदगी महसूस होती है. इसलिए वो हमेशा अपना सर ढक कर जाती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज