असम: 3 साल की बेटी की बलि देने वाले थे माता-पिता, पड़ोसियों को पता चला और...

घटना के समय घर में कुल आठ सदस्‍य थे. बच्‍ची की मां, पिता और दादी को भी बलि की इस क्रिया में शामिल किया गया.

News18Hindi
Updated: July 8, 2019, 6:08 PM IST
News18Hindi
Updated: July 8, 2019, 6:08 PM IST
असम के उदालगुरी जिले में तंत्र-मंत्र के चक्‍कर में आकर माता-पिता ही अपनी तीन साल की बच्‍ची की बलि देने के लिए तैयार हो गए. बता दें कि लड़की का चाचा भी इस सब में शामिल था जो कि साइंस का टीचर है. लड़की का परिवार भी इस शर्मनाक घटना को अंजाम देने में शामिल था. हालांकि पड़ोसियों को इसकी भनक लग गयी और उनके मंसूबों पर पानी फिर गया. मामला उदलगुरी जिले के कुल्‍सीपारा इलाके का बताया जा रहा है.

न्‍यूज18 असम की रिपोर्ट के अनुसार, शिक्षक ने राज्‍य के दारंग जिले के बनिकुची गांव के एक स्‍वयंभू धर्मगुरु रमेश सहरिया के चक्‍कर में मनचाहा वरदान पाने के लिए ऐसा कदम उठाया गया. स्‍थानीय लोगों की सूझबूझ ने उस बच्‍ची को बलि चढ़ने से बचा लिया.

स्‍थानीय लोगों ने आरोप लगाया है कि रमेश का पिछले तीन साल से शिक्षक जदाब के घर आना-जाना था. वह जदाब के घर पर पूजा-अर्चना करता था. लोगों को पुलिस को बताया कि शनिवार, उनके तंत्र-मंत्र का अंतिम दिन था.

नग्‍न अवस्‍था में कर रहे थे साधना

मिली जानकारी के अनुसार, मंत्रों का जाप करते हुए परिवार के सभी सदस्‍यों ने अपने कपड़े उतार दिए. कमरे में मौजूद सभी लोग नग्‍न अवस्‍था में थे. जब स्‍थानीय लोगों को इस बारे में पता चला तो उन लोगों ने इस अनुष्‍ठान को बंद कराने की कोशिश की. लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. रमेश कुल्‍हाड़ी लेकर उनकी तरफ बढ़ा और उन्‍हें जान से मारने की धमकी दी. स्‍थानीय लोगों की सूचना पर पुलिस, अर्ध-सैन्‍य बल और फायर बिग्रेड की गाड़ी मौके पर पहुंची. हालांकि रमेश जान से मारने की धमकी देता रहा.

तंत्र-मंत्र क्रिया के बीच शिक्षक और उनके परिवार ने नई रॉयल एनफील्‍ड बुलेट और वैगनआर कार में आग लगा दी. रमेश ने शिक्षक के परिवार के साथ टीवी, फ्रिज और घर के अन्‍य सामानों की तोड़-फोड़ की और आग लगा दी. घटना के समय घर में कुल आठ सदस्‍य थे. बच्‍ची की मां, पिता और दादी को भी बलि की इस क्रिया में शामिल किया गया.

सीआरपीएफ पुलिस का संयुक्‍त ऑपरेशन
Loading...

सीआरपीएफ कर्मियों और पुलिस के संयुक्‍त अभियान में पांच घंटे की मशक्‍कत के बाद उस परिवार के सदस्‍यों को गिरफ्तार किया गया. बच्‍ची को उनसे बचाया गया. स्थिति को काबू में करने के लिए पुलिस ने पांच राउंड फायरिंग भी की. इस दौरान जदाब को पैर में गोली भी लगी. जदाब को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है. घटना के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गई है. शिक्षक और उनके परिवार के लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. इस पूरी घटना में दो पत्रकार भी घायल हुए हैं.

ये भी पढ़ें: प्रेमिका को धोखा देने के आरोप में युवक की कोड़े से पिटाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वायरल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 7, 2019, 7:06 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...