Video: स्वास्थ्य विभाग टीम की छापेमारी, गैरकानूनी तरीके से किया जा रहा था अल्ट्रासाउंड

मौके पर अल्ट्रासाउंड करता पकड़ा गया राकेश

मौके पर अल्ट्रासाउंड करता पकड़ा गया राकेश

पानीपत. स्वास्थ्य विभाग पानीपत(Panipat) और सोनीपत(Sonipat) की संयुक्त टीम ने रविवार की दोपहर को गुप्त सूचना के आधार पर एक क्लीनिक पर छापेमारी की. इस क्लीनिक पर गैरकानूनी तरीके से अल्ट्रासाउंड(Ultrasound) किया जा रहा था . क्लीनिक पर काम करने वाला गांव मांडी निवासी राकेश एक महिला का अल्ट्रासाउंड कर रहा था. मौके पर उसे दबोच लिया गया. वहीं क्लीनिक संचालक बंटी फरार हो गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 8, 2021, 6:28 PM IST
  • Share this:
पानीपतस्वास्थ्य विभाग पानीपत(Panipat) और सोनीपत(Sonipat) की संयुक्त टीम ने रविवार की दोपहर को गुप्त सूचना के आधार पर एक क्लीनिक पर छापेमारी की. इस क्लीनिक पर गैरकानूनी तरीके से अल्ट्रासाउंड(Ultrasound) किया जा रहा था . ड्यूटी मजिस्टेट डॉ कृष्ण कुमार ने बताया कि सोनीपत की टीम को सूचना थी कि सनौली खुर्द बस अड्डा के पास स्थित बंटी क्लीनिक में गर्भवती महिलाओं के अल्ट्रासाउंड किए जाते है. उसके पास न डाक्टर की डिग्री है और न अल्ट्रासाउंड केंद्र का लाइसेंस. पहले बंटी की पत्नी केंद्र संचालिका थी, उसके निधन के बाद बंटी ने क्लीनिक का काम संभाल लिया. इसके बाद डीसी धर्मेंद्र सिंह ने आइटीआइ के प्रिंसिपल को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया और टीम बना दी गई. मौके पर पहुंचे तो अल्ट्रासाउंड कराने के लिए तीन महिलाएं कतार में बैठीं थीं. क्लीनिक पर काम करने वाला गांव मांडी निवासी राकेश एक महिला का अल्ट्रासाउंड कर रहा था. मौके पर उसे दबोच लिया गया. वहीं क्लीनिक संचालक बंटी फरार हो गया. महिलाओं के भी बयान लिए गए हैं. क्लीनिक का रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है. आरोपियों के खिलाफ सनौली थाना पुलिस में शिकायत दी जाएगी ताकि पीसीपीएनडीटी के तहत मुकदमा और गिरफ्तारी हो सके.

Youtube Video


क्या कहता है जन्म पूर्व लिंग परीक्षण का कानून

प्रसव पूर्व गर्भवती की जांच कर यह बताना कि गर्भ में बेटा है या बेटी, कानूनन अपराध है. इसे रोकने के लिए गर्भधारण पूर्व एवं प्रसूति पूर्व निदान तकनीक अधिनियम 1994 के तहत सजा का प्रावधान है. जांच में पहली बार दोष साबित होने पर आरोपित को तीन साल की सजा व 10 हजार रुपये का जुर्माना लग सकता है. दूसरी बार पकड़े जाने पर आरोपित पर एक लाख रुपये जुर्माने का प्रावधान है. अल्ट्रासाउंड केंद्र का लाइसेंस भी निरस्त किया जा सकता है. एक्ट में लिंग परीक्षण कराने के लिए उकसाने वाले पति व परिवार के सदस्यों को भी तीन साल सजा और 50 हजार रुपये जुर्माने का प्रावधान है.
ये भी पढ़ें- सोनीपत: खंभे को तोड़ते हुए तेज रफ्तार स्कॉर्पियो दुकानों में जा घुसी, देखें Video

जींद में किसान महापंचायत: भाषण के दौरान टूटा मंच, राकेश टिकैत नीचे गिरे, देखें वीडियो
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज