होम /न्यूज /अजब गजब /किसान माता-पिता को ऑफिस लेकर पहुंचे IFS अफसर, फोटो शेयर कर कहा- 'वो स्कूल नहीं गए मगर मुझे पढ़ाया'

किसान माता-पिता को ऑफिस लेकर पहुंचे IFS अफसर, फोटो शेयर कर कहा- 'वो स्कूल नहीं गए मगर मुझे पढ़ाया'

IFS अधिकारी ने भावुक करने वाला पोस्ट लिखा है. (फोटो: Twitter/@jagdishbakanIFS)

IFS अधिकारी ने भावुक करने वाला पोस्ट लिखा है. (फोटो: Twitter/@jagdishbakanIFS)

इंडियन फॉरेस्ट सर्विस (Indian Forest Services) के अधिकारी जगदीश बाकन (Jagdish S. Bakan IFS) साल 2017 बैच से हैं और फिलह ...अधिक पढ़ें

माता-पिता हमेशा अपनी क्षमता से ज्यादा बच्चों के लिए करने की कोशिश करते हैं, फिर चाहे वो उनकी परवरिश हो या उन्हें सुख-सुविधाएं मुहैया कराना हो. खुद वो भले एक रोटी कम खाएं मगर बच्चों को भर पेट खाना खिलाते हैं. ऐसे में जब उनका बच्चा कुछ बड़ा करता है तो उनका सीना गर्व से फूल जाता है. तब बच्चों की भी ये जिम्मेदारी होती है कि वो भी अपने माता-पिता को खुशी के पल दें जिससे उन्हें एहसास हो कि उनकी मेहनत रंग लाई. ऐसा ही एक आईएफएस अधिकारी (IFS officer take parents to office) ने हाल ही में किया जब वो अपने मां-बाप को पहली बार अपना ऑफिस दिखाने के लिए ले गए.

इंडियन फॉरेस्ट सर्विस (Indian Forest Services) के अधिकारी जगदीश बाकन (Jagdish S. Bakan IFS) साल 2017 बैच से हैं और फिलहाल तमिलनाडु के रामनाथपुरम में वाइल्डलाइफ वॉर्डेन और डीएफओ हैं. हाल ही में उन्होंने अपने माता-पिता के साथ एक फोटो (IFS officer share photo with parents) पोस्ट की है जिसमें वो उनके ऑफिस में खड़े हैं. फोटो के साथ उन्होंने जो लिखा है वो किसी को भी भावुक कर देगा और एहसास दिलाएगा कि माता-पिता हमारे लिए कितना कुछ करते हैं.

ifs officer parents office 1

आईएफएस अधिकारी ने बताया कि कैसे वो अपने गांव के पहले इंजीनियर थे और फिर पहले व्यक्ति बने जिसे सरकारी नौकरी मिली. (फोटो: Twitter/@jagdishbakanIFS)

माता-पिता को ऑफिस लेकर पहुंचे IFS अधिकारी
फोटो में उनके माता-पिता बेहद सादे कपड़ों में नजर आ रहे हैं और उनके चेहरे की मुस्कान बता रही है कि वो कितने खुश हैं. साथ में जगदीश खड़े हैं उनका खूबसूरत ऑफिस भी नजर आ रहा है. फोटो के साथ उन्होंने लिखा- भले ही मेरे माता-पिता कभी स्कूल नहीं जा पाए, उन्होंने सुनिश्चित किया कि मैं पढ़ाई करूं. भले ही वो छोटे किसान थे पर उन्होंने ये सुनिश्चित किया कि मैं अपने गांव से पहला इंजीनियर बनूं, पहला सरकारी कर्मचारी बनूं और यूपीएससी क्लियर करने वाला पहला व्यक्ति बनूं. वो पहली बार मेरे ऑफिस आए हैं.,

फोटो पर लोगों ने दी प्रतिक्रिया
इस फोटो को 1500 से ज्यादा लोगों ने लाइक किया है और कई लोगों ने रीट्वीट भी किया है. बहुत से लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया भी दी है. एक ने कहा- हमारे माता-पिता हमें सबसे अच्छी सुख-सुविधाएं देने के लिए जिस हद तक चले जाते हैं, उसकी कोई तुलना ही नहीं है. एक ने जगदीश को बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने अपने माता-पिता को गर्व का एहसास करवाया है. एक ने कहा कि उनका ये अनुभव युवाओं के लिए प्रेरणा बनेगा.

Tags: Ajab Gajab news, Trending news, Weird news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें