Home /News /ajab-gajab /

japan subway pushers push passengers in metro trains to adjust weird job ashas

ट्रेन में यात्रियों को ढकेलने के लिए यहां नियुक्त किए जाते हैं कर्मचारी! जानते हैं देश का नाम?

लोगों को धक्का देने के लिए नियुक्त किए जाते हैं लोग. (फोटो साभार: CNN via Amusing Planet)

लोगों को धक्का देने के लिए नियुक्त किए जाते हैं लोग. (फोटो साभार: CNN via Amusing Planet)

जापान का सबवे नेटवर्क (Japanese subway network) दुनियाभर में फेमस है. यहां ट्रेनें चंद मिनट के लिए भी लेट नहीं होती हैं. कुछ रिपोर्ट्स ने तो दावा किया है कि जापान की टोक्यो सबवे ट्रेनों (Tokyo subway train) में एक दिन में 4 करोड़ लोग तक यात्रा कर लेते हैं. इस यात्रियों को ट्रेन में फिट करने के लिए पुशर्स (pushers push passengers in train) को नियुक्त किया जाता है.

अधिक पढ़ें ...

मुंबई की लोकल ट्रेन हो या दिल्ली की मेट्रो, जिसने भी ऑफिस के समय में इन ट्रेनों में सफर किया होगा वो जानते होंगे कि इनमें चलना कितना मुश्किल होता है. भीड़ के वक्त लोगों को ठीक से खड़े होने की जगह ही मिलती वहीं कई बार तो लोग ट्रेन के अंदर ही नहीं जा पाते. ऐसे में लोगों को तो एक ट्रेन छोड़नी पड़ती है. मगर एक देश ऐसा भी है जहां लोगों को ट्रेनों (professional pushers push passengers in train) में फिट करने के लिए धक्का देने वाले लोग नियुक्त किए जाते हैं.

जी हां, ये एक प्रफेशन है और इसे करने वाले लोगों के पास ये जिम्मेदारी होती है कि वो यात्रियों को ट्रेन के अंदर ढकेलें. जापान का सबवे नेटवर्क (Japanese subway network) दुनियाभर में फेमस है. यहां ट्रेनें चंद मिनट के लिए भी लेट नहीं होती हैं. कुछ रिपोर्ट्स ने तो दावा किया है कि जापान की टोक्यो सबवे ट्रेनों (Tokyo subway train) में एक दिन में 4 करोड़ लोग तक यात्रा कर लेते हैं. ऐसे में ट्रेनों में भीड़ होना लाजमी है. मगर इस भीड़ से बचाने का उपाय देखते हुए यहां ट्रेनों में ढकेलने वाले लोग नियुक्त किए जाते हैं.

लोगों को ट्रेन के अंदर धक्का देने की नौकरी
इन लोगों को जापानी भाषा में ओशिया (Oshiya) कहते हैं. कई बार भीड़ के वक्त लोग जब मेट्रो ट्रेनों में चढ़ते हैं तो वो गेट के पास की खड़े होने लगते हैं. ऐसे में अंदर थोड़ी बहुत खाली जगह होती है मगर गेट के पास भीड़ बढ़ जाती है. ऐसे में जब अगले स्टेशन पर दूसरे यात्री चढ़ते हैं तो उनके चढ़ने की जगह ही नहीं होती. तब काम आते हैं ओशिया. सूट, कैप लगाए और दस्ताना पहने इन लोगों का सिर्फ एक मात्र काम होता है कि लोगों को ढकेलकर ट्रेन के अंदर ठूंसें जिससे एक डिब्बे में ज्यादा यात्री आ जाएं और दूसरा ये कि ट्रेन के दरवाजे बंद किए जा सकें.

धीरे-धीरे खत्म हो रही ओशिया की नौकरी
समय के साथ ओशिया की नौकरी खत्म होती जा रही है. वो इसलिए क्योंकि इनका सिर्फ एक काम होता है तो ये फिजूल के खर्च लगने लगते हैं. ऐसे में रेलवे के कर्मचारी खुद ही ये काम जापान के कई स्टेशनों पर करते हैं. वैसे अमेरिका में भी ओशिया जैसे लोग पहले से होते थे मगर वो काफी अपमान करने वाले ढंग से यात्रियों को अंदर ढकेलते थे. कई बार तो मार भी देते हैं. वहीं जापान में ओशिया इस बात का बहुत ध्यान रखते हैं किसी को चोट ना लगे.

Tags: Ajab Gajab news, Weird news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर