VIDEO: एमपी के इस गांव में लगी हवा से पानी बनाने वाली मशीन

हवा से पानी बनाने वाली इस मशीन के आने से बाग गांव के लोगों में कौतूहल के साथ लोगों में इस प्रकार से पानी बनने की तकनीक की जानकारी तो हो ही रही है, वहीं जनप्रतिनिधियों के द्वारा इस प्रकार की मशीनों को उन स्थानों पर लगाने की कवायद भी की जा रही है, जो इलाके पानी की कमी से जूझ रहे हैं.

  • Share this:
मध्यप्रदेश का दमोह पहला ऐसा जिला बन गया है, जहां पर आधुनिक तकनीक वाली हवा से पानी बनाने वाली मशीन लगाई गई है. यह मशीन दमोह के ऐसे गांव में लगाई गई है, जहां पर पीने के पानी की किल्लत है. पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं दमोह सांसद प्रहलाद पटेल के प्रयासों से यहां पर यह मशीन स्थापित की गई है.



दमोह जिले की जबेरा विधानसभा के हरदुआ मानगढ़ में लगाई गई हवा से पानी बनाने वाली मशीन का लोकार्पण करने पहुंच सांसद प्रहलाद पटेल ने कहा कि इस गांव में पेयजल की समस्या के कारण यहां के लोग पानी के लिए परेशान हो रहे थे. साथ ही बच्चे कुएं में उतरकर पानी भर रहे थे. ऐसे में इस गांव की इस समस्या की समस्या का समाधान करने की बात उनके मन में आई. उन्होंने बताया कि गांव में भूमिगत जल के स्त्रोत कम है, यही कारण है कि यह हवा से पानी बनाने वाली मशीन अब कारगर साबित होगी. साथ ही आगामी दिनों में उन सभी गावों में यह मशीन लगाने की कोशिश होगी, जहां पर इस गांव के जैसी समस्या आ रही है.



मशीन बनाने वाली कंपनी के प्रतिनिधि का कहना है कि यह मशीन हमारे वातावरण में होने वाली नमी को ठंडा करके उसे पानी में बदल देती है, जिससे बनने वाला पानी आरओ की क्वालिटी का होता है. इस मशीन में 24 घंटे में एक हजार लीटर से डेढ हजार लीटर तक पानी बनता है. करीब पंद्रह लाख की यह मशीन बिजली से चलती है. पिछले दो से तीन माह ससे इस मशीन की गांव में टेस्टिंग की जा रही है. गांव के लोग इसके पानी का इस्तेमाल भी कर रहे हैं, साथ ही मशीन में बनने वाली पानी को स्टोर भी किया जा रहा है.





हवा से पानी बनाने वाली इस मशीन के आने से बाग गांव के लोगों में कौतूहल के साथ लोगों में इस प्रकार से पानी बनने की तकनीक की जानकारी तो हो ही रही है, वहीं जनप्रतिनिधियों के द्वारा इस प्रकार की मशीनों को उन स्थानों पर लगाने की कवायद भी की जा रही है, जो इलाके पानी की कमी से जूझ रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज