होम /न्यूज /अजब गजब /VIDEO: ट्विन टावर नहीं, ये है विस्फोटकों से गिराई गई दुनिया की सबसे ऊंची इमारत, बन चुका है वर्ल्ड रिकॉर्ड

VIDEO: ट्विन टावर नहीं, ये है विस्फोटकों से गिराई गई दुनिया की सबसे ऊंची इमारत, बन चुका है वर्ल्ड रिकॉर्ड

विस्फोटक से गिराई गई दुनिया की सबसे ऊंची इमारत सिर्फ 10 सेकेंड में ताश के पत्तों की तरह बिखर गई थी. (फोटो: Guinness World Record/Youtube)

विस्फोटक से गिराई गई दुनिया की सबसे ऊंची इमारत सिर्फ 10 सेकेंड में ताश के पत्तों की तरह बिखर गई थी. (फोटो: Guinness World Record/Youtube)

नोएडा के सुपरटेक ट्विन टावर (Noida Supertech Twin Towers demolition) को गिराए जाने के बीच आज हम आपको बता रहे हैं संयुक् ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

नोएडा के सुपरटेक ट्विन टावर को ध्वस्त कर दिया गया है.
विस्फोटक से गिराई गई दुनिया की सबसे ऊंची इमारत अबू धाबी में थी.
मीना प्लाजा नाम की इस इमारत की ऊंचाई 541.44 फीट थी.

पिछले काफी वक्त से आपने नोएडा (Noida) में बने ट्विन टावर से जुनी खबरें तो जरूर देखी होंगी. आज यानी 28 अगस्त को सेक्टर 93A में अवैध रूप से बने सुपरटेक के ट्विन टावर (Noida Supertech Twin Towers demolition) को धमाके से धवस्त कर दिया गया. एमरल्ड कोर्ट में बने ये दोनों टॉवर रविवार दोपहर 2:30 बजे जमींदोज हो गए. आपको जानकर हैरानी होगी कि टावर ‘कुतुब मीनार’ (Twin Tower taller than Qutub Minar) से भी ज्यादा ऊंचा था. ट्विन टावर से जुड़ी खबरें तो आपने काफी जान ली होंगी मगर यहां हम आपको उसके बारे में नहीं, बल्कि उस इमारत के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे विस्फोटकों से गिराई जाने वाली सबसे ऊंची इमारत (Tallest building demolished using explosives) माना जाता है.

जब पूरी दुनिया कोविड की चपेट में थी तब उस वक्त संयुक्त अरब अमीरात में 27 नंवबर 2020 को एक नया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड (Guinness World Record) स्थापित किया जा रहा था. ये रिकॉर्ड था विस्फोटक से गिराई गई दुनिया की सबसे ऊंची इमारत का. अबू धाबी (Abu Dhabi, UAE) में स्थित 541.44 फीट की मीना प्लाजा (Meena Plaza) इमारत के नाम ये रिकॉर्ड दर्ज है. इमारत को जमींदोज करने का वीडियो गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड ने अपने आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर पोस्ट भी किया था.
" isDesktop="true" id="4508997" >
अबू धाबी की इमारत के नाम है गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड
मीना प्लाजा 144 मंजिल की इमारत थी जिसे ताश के पत्तों की तरह बिखरने में सिर्फ 10 सेकेंड का वक्त लगा था. इमारत को विस्फोटकों का इस्तेमाल कर गिराया गया था. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार इमारत को गिराने का काम मोडॉन प्रॉपर्टीज ने किया था. इसके लिए नॉन प्राइमरी विस्फोटक इस्तेमाल किए गए थे जो पूरी इमारत में ड्रिल किए गए 18 हजार छेदों में भरे गए थे. गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड के डैनी हिकसन ने कहा था कि इमारत गिराने के लिए हाई-लेवल एक्सपर्टीज की जरूरत पड़ी थी.

‘वाटरफॉल इम्प्लोजन’ की मदद से गिराई गई नोएडा की इमारत
नोएडा के जिस ट्विन टावर को गिराए जाने के चर्चे हैं, उसे ‘वाटरफॉल इम्प्लोजन’ तकनीक की मदद से गिराया गया था. इस तकनीक का अर्थ है कि इमारत को इस तरह गिराना कि उसका मलबा पानी की तरह बहकर जमीन पर गिरे. ये तकनीक शहरी इलाकों में गिराई जाने वाली इमारतों के लिए होती है गिराई जाने वाली बिल्डिंग्स के आसपास कई दूसरी इमारतें हों. इस तकनीक के प्रयोग से उन इमारतों को नुकसान नहीं पहुंचता है. इसके लिए नियंत्रित विस्फोटकों की आवश्यकता होती है जिससे मलबा उड़कर दूर तक ना जा गिरे.

Tags: Ajab Gajab news, Trending news, Weird news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें