होम /न्यूज /अजब गजब /'मुन्ना भाई' की तरह 1 साल तक अस्पताल में काम करती रही फर्जी डॉक्टर! सहयोगियों को ऐसे चला सच का पता

'मुन्ना भाई' की तरह 1 साल तक अस्पताल में काम करती रही फर्जी डॉक्टर! सहयोगियों को ऐसे चला सच का पता


महिला ने अपने घर वालों से भी झूठ बोला था कि वो डॉक्टर है. (फोटो: Twitter/@Darkwebhaber)

महिला ने अपने घर वालों से भी झूठ बोला था कि वो डॉक्टर है. (फोटो: Twitter/@Darkwebhaber)

आयसे ऑजकिराज (Ayşe Özkiraz) इस्तानबुल से कुछ दूर सेरकेजकॉय (Çerkezköy) के स्टेट हॉस्पिटल में काम करती थी. वो पेडियाट्रि ...अधिक पढ़ें

आपने ऐसी कई फिल्में देखी होंगी जिसमें कोई बेहरूपिया कुछ और होने का दावा कर के किसी नौकरी में घुस जाता है और वहां काम करने लगता है. लियोनार्डो डी कैप्रियो की अंग्रेजी फिल्म से लेकर संजय दत्त की ‘मुन्ना भाई’ मूवी तक, फिल्मों में भी ऐसे सीन देखने को मिल जाते हैं पर क्या आपने कभी ऐसा असल जिंदगी में होते देखा है? हाल ही में ऐसी ही घटना तुर्की के एक अस्पताल में घटी जहां एक महिला फर्जी डॉक्टर (Fake doctor Turkey) बनकर नौकरी करती पकड़ी गई है.

डेली स्टार न्यूज वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार आयसे ऑजकिराज (Ayşe Özkiraz) इस्तानबुल से कुछ दूर सेरकेजकॉय (Çerkezköy) के स्टेट हॉस्पिटल में काम करती थी. वो पेडियाट्रिक्स यानी बच्चों की चिकित्सक होने का दावा करती थीं. पर अचानक लोगों को उनके दावे और ज्ञान पर शक होने लगा जब वो मामूली इलाज को करने में भी अंजान सी पेश आती थीं. उनके सहयोगियों को इसी बात पर शक होने लगा कि वो असल में डॉक्टर (Woman fake degree claim to be doctor for 1 year) नहीं हैं.

अन्य डॉक्टरों को हुआ शक
20 साल की आयसे दावा करती थीं कि वो इस्तानबुल विश्वविद्यालय के कापा मेडिकल कॉलेज से पढ़ी हैं. पर चिकित्सा से जुड़े उनके जवाबों को सुनकर स्टाफ को नहीं लगता था कि उन्होंने मेडकिल की पढ़ाई की है. काफी वक्त बाद स्टाफ उनसे जानबूझकर मेडिकल से जुड़े अलग-अलग सवाल करने लगा जिसका जवाब वो गलत ही देती थीं. इसके बाद अस्पताल के मैनेजर्स को इस बारे में जानकारी दी गई.

फेक आईडी बनाकर सभी को दिया धोखा
अस्पताल प्रशासन ने जब पुलिस को इसके बारे में सूचना दी तो उन्होंने महिला के घर की तलाशी ली. वहां उन्हें कई यूनिवर्सिटी की फेक आईडी मिली, डॉक्टर की फेक आईडी मिली और डिप्लोमा के फर्जी कागज मिले. इसके बाद जाकर पता चला कि महिला ने हाईस्कूल के आगे पढ़ाई ही नहीं की थी. पुलिस को कई अन्य अस्पतालों के फर्जी आईकार्ड मिले और सर्जिकल गार्मेंट भी बरामद हुए. अस्पताल तो छोड़िए, महिला ने अपने परिवार को भी ये यकीन दिला दिया था कि वो कापा मेडिकल कॉलेज से पढ़ी है. सुनवाई के दौरान महिला ने बताया कि जब वो हाईस्कूल की छात्र थी तब उसके परिवार वाले चाहते थे कि वो डॉक्टर बने और मेडिकल की पढ़ाई करे. उन्हें विश्वास था कि उसके अच्छे अंक आएंगे. पर वो एंट्रेस एग्जाम में फेल हो गई. वो अपने परिवारवालों को दुखी नहीं करना चाहती थी, इसलिए उसने नकली आई कार्ड बनवाए और घर वालों को दिखा दिया. उसे गिरफ्तार कर लिया गया और मामले की जांच जारी है.

Tags: Ajab Gajab news, Trending news, Weird news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें