लाइव टीवी

VIDEO: दिमाग कंप्यूटर, घर म्यूज़ियम! जानें क्यों लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज हैं मुकुंद?

News18Hindi
Updated: February 25, 2019, 4:33 PM IST

मुकुंद कहते है कि उन्होंने अपने नाना से प्रेरित होकर पहले डायरी लिखनी शुरू की, फिर धीरे धीरे यह आदत जुनून में बदल गई जो आज भी अनवरत जारी है. साल 2013 में उन्होंने लिम्का बुक और रिकॉर्ड में भी अपना नाम दर्ज कराया. अब मुकुंद राष्ट्रपति पुरस्कार और गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज करने की तमन्ना लिए बैठे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2019, 4:33 PM IST
  • Share this:
हर इंसान में कोई न कोई खासियत जरूर होती है और उसे अगर सही प्लेटफार्म मिले तो वो लाखों में अपनी अलग पहचान बना लेता है. समस्तीपुर के एक छोटे से गांव बथुआ बुजुर्ग के मुकुंद को क्रिकेट और फिल्मों कि जानकारी इकठ्ठा करने का ऐसा जुनून सवार हुआ कि 56 सालों की मेहनत के बाद उसका नाम लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज हुआ. हालांकि मुकुंद की तमन्ना राष्ट्रपति पुरस्कार और गिनीज बुक में नाम दर्ज कर, अपना और बिहार का नाम रोशन करने की है.

ये भी देखें- एक विवाह ऐसा भी: दूल्हे ने ऐसे पूरी की दुल्हन की 'रामायण' स्टाइल शर्त

मुकुंद का दिमाग आदमी का नहीं बल्कि कंप्यूटर का है. एक क्लिक कीजिये और जवाब हाजिर होगा. 0मुकुंद ने क्रिकेट के इतिहास की सभी जानकारी, करीब 37000 फिल्मों की जानकारी, कौन सी फिल्म में किस कलाकार ने कौन सी भूमिका निभाई, फिल्म कितने रील कि थी, सिनेमा हॉल में लगी टिकट, जिस ट्रेन या बस में सफ़र किया उसका टिकट, बोगी नंबर, किराया सब संग्रह किया है. इतना ही नहीं मुकुंद ने चिट्ठियां, शादी के कार्ड, अभिनन्दन पत्र, बिजली बिल का भी संग्रह कर रखा है.



मुकुंद ने अपने कमरे को पूरा संग्रहालय बना रखा है. मुकुंद का सपना आईपीएस बनने का था. वो तीन बार यूपीएससी की परीक्षा में शामिल हुए लेकिन सफलता नहीं मिली. मुकुंद कहते है कि उन्होंने अपने नाना से प्रेरित होकर पहले डायरी लिखनी शुरू की, फिर धीरे धीरे यह आदत जुनून में बदल गई जो आज भी अनवरत जारी है. मुकुंद को उनके इस कारनामों की वजह से सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों से कई अवार्ड भी मिले. क्रिकेट जगत की प्रतिष्ठित पत्रिका क्रिकेट सम्राट ने भी इन्हें सम्मानित किया. वहीं साल 2013 में उन्होंने लिम्का बुक और रिकॉर्ड में भी अपना नाम दर्ज कराया. अब मुकुंद राष्ट्रपति पुरस्कार और गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज करने की तमन्ना लिए बैठे हैं.



मुकुंद की पत्नी बताती हैं कि उनकी इन आदतों से शुरूआती दौर में उनकी पत्नी और परिवार के लोग काफी परेशान हुए. परिवार को आर्थिक संकट झेलना पड़ा, लेकिन अब उनका परिवार और ग्रामीण भी मुकुंद के इस प्रतिभा और जूनून की तारीफ करते नहीं थक रहे. मुकुंद के अंदर जितनी प्रतिभा है उतनी ही सादगी.

ऐसी ही अजब-ग़ज़ब कहानियों और VIDEOS के लिए क्लिक करें 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वायरल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 25, 2019, 3:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading