OMG : 118 साल पुरानी मशीनों के सहारे पटरी पर दौड़ती वर्ल्ड हेरिटेज टॉय ट्रेन

118 साल पुरानी अग्रेजों के समय की मशीन आज भी बखूबी करती है का

कालका शिमला रेलवे लाइन जिसे विश्व धरोहर का दर्जा भी प्राप्त है यहाँ अंग्रेजों के समय जो मशीनें स्थापित की गई थी, उन्हीं मशीनों पर आज तक कार्य किया जाता है. पुरानी मशीनें पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करती है जिसे देख कर सभी हैरत में पड़ जाते हैं.

  • Share this:
    कंडाघाट का रेलवे स्टेशन बेहद ख़ास है. जहां आज भी अंग्रेजों के समय की मशीनें मौजूद है.  इन मशीनों से ही एक स्टेशन से दुसरे स्टेशन तक संदेश भेजे जाते हैं. इसी तरह की मशीनें कालका से शिमला तक के स्टेशनों पर देखी जा सकती हैं.  यही कारण है कि कालका शिमला रेलवे लाइन को विश्व धरोहर का दर्जा प्राप्त है. इन मशीनों को देखने पर्यटक दूर दूर से आते है. जब ट्रेन कुछ देर के लिए स्टेशन पर खड़ी होती है तो पर्यटक इन मशीनों को देख कर अपना ज्ञान वर्धन करते हैं और इस प्रणाली को देख कर हैरत में पड़ जाते है.



    पुरानी मशीनें हैं पर्यटकों के आकर्षित का केंद्र 

    स्टेशन मास्टर दिनेश शर्मा ने ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा कि कालका शिमला रेलवे लाइन जिसे विश्व धरोहर का दर्जा भी प्राप्त है यहाँ अंग्रेजों के समय जो मशीनें स्थापित की गई थी, उन्हीं मशीनों पर आज तक कार्य किया जाता है. उन्होंने बताया कि यह रेलवे लाइन 1903 में स्थापित की गई थी जो ब्रिटिश सरकार द्वारा बनाया गया था. जिसे आज तक चालु हालत में रखा गया है और यही वजह है कि यह पुरानी मशीनें पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करती है जिसे देख कर सभी हैरत में पड़ जाते हैं.

    घाटे में चल रही है वर्ल्ड हेरिटेज ट्रेन

    कालका शिमला रेलवे लाइन को वर्ल्ड हैरिटेज का दर्जा मिल चुका है. लेकिन सूत्रों की माने तो यह रुट रेलवे विभाग के लिए घाटे का सौदा साबित हो रहा है. इस रेलवे रुट को अब निजी हाथों में देने के तैयारी की जा रही है. जिसके चलते हिमाचल वासी सकते में नज़र आ रहे हैं.

    ये भी पढ़ें- हिमाचल के ऊना में बीच सड़क चली गोलियां, बदमाशों ने कारोबारी से लूटे 9 लाख रुपये

    बजट सत्र में दिखा पिता-पुत्र वीरभद्र और विक्रमादित्य का प्रेम, हाथ चूमा

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.