• Home
  • »
  • News
  • »
  • ajab-gajab
  • »
  • सिर्फ 2 जगह पर खिलता है दुनिया का सबसे दुर्लभ फूल! कभी 3 लाख रुपये हुआ करती थी एक फूल की कीमत

सिर्फ 2 जगह पर खिलता है दुनिया का सबसे दुर्लभ फूल! कभी 3 लाख रुपये हुआ करती थी एक फूल की कीमत

जानकारों का कहना है कि सालों पहले ये फूल लाखों रुपये का बिकता था और बेहद अमीर लोग ही इसे अपने घर में उगाते थे. (फोटो: Twitter/@Chiswick_House)

जानकारों का कहना है कि सालों पहले ये फूल लाखों रुपये का बिकता था और बेहद अमीर लोग ही इसे अपने घर में उगाते थे. (फोटो: Twitter/@Chiswick_House)

दुनिया का सबसे दुर्लभ फूल (World's Rarest Flower) 'मिडिलमिस्ट रेड' (Middlemist’s Red Camelia) दुनिया में सिर्फ 2 जगह पर खिलता है. पुराने वक्त में एक फूल (Cost of 1 flower) की कीमत 3 लाख रुपये के करीब हुआ करती थी. जानें इस फूल के बारे में सब कुछ.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    हमारी दुनिया भी बहुत विचित्र है. यहां कई ऐसी अजीबोगरीब (Weird) चीजें हैं जिनके बारे में या तो हम नहीं जानते या फिर जानते हैं तो हमें उनके अजीबोगरीब होने के पीछे का कारण नहीं पता होता. इंसानों, जानवरों के साथ-साथ पेड़-पौधों से भी जुड़ी कई चीजें काफी अनोखी और विचित्र होती हैं. आज हम ऐसे ही एक अनोखे फूल (Unique Flower) के बारे में बताने जा रहे हैं. ये फूल दुनिया का सबसे दुर्लभ फूल (World’s Rarest Flower) है. इस फूल की सबसे बड़ी खासियत ये है कि ये दुनिया में सिर्फ दो जगह (Flower Grows in 2 Locations) ही खिलता है.

    ‘मिडिलमिस्ट रेड’ (Middlemist’s Red Camelia) एक तरह का स्प्रिंग रोज यानी गुलाब (Rose) का फूल है. ये फूल दुनिया में सबसे रेयर यानी दुर्लभ (Rare Flower) है और सिर्फ दो जगह, न्यूजीलैंड (New Zealand) और ब्रिटेन (Britian) में खिलता है. साल 1804 में जॉन मिडलमिस्ट (John Middlesmist) नाम के एक शख्स ने इस फूल को चीन (China) से लिया था और इंग्लैंड लेकर आए थे इसलिए इस फूल का नाम मिडिलमिस्ट रेड पड़ गया. ये फूल एक वक्त में बेहद कीमती और दुर्लभ था. ये इंग्लैंड के अमीर लोगों के घर में ही पाया जाता था जो उसे खरीब सकते थे. मिडिलमिस्ट ने इस फूल को लंदन के कियू गार्डन में डोनेट किया था मगर ना जाने कैसे ये फूल वहां से गायब हो गया. साल 1823 तक ये फूल सिर्फ इंग्लैंड के चिस्विक हाउस (Chiswick House & Gardens) और गार्डेन में ही पाया जाने लगा.

    Middlemist Red World's Rarest Flower

    (फोटो: Twitter/@humblestitcher)

    माना जाता है कि इस फूल का मूल देश चीन है जहां ये सबसे पहले पाया जाता था मगर आज तक इस बात को कोई नहीं जान पाया कि ये फूल चीन से पूरी तरह कैसे गायब हो गया और सिर्फ एक फूल न्यूजीलैंड कैसे पहुंचा जहां ये खिलना शुरू हो गया और दो सदी से ज्यादा वक्त से वहां खिल रहा है. न्यूजीलैंड में ये फूल वैटांगी (Waitangi) के ट्रीटी हाउस (Treaty House) में खिलता है. यहां ये पहली बार साल 1833 में खिला था. इसका मतलब कि ये फूल सिर्फ इंग्लैंड के चिस्विक हाउस और न्यूजीलैंड के ट्रीटी हाउस में पाया जाता है.

    हाल ही में ब्रिटेन से इस फूल को साउदी अरब के रियाद में भी भेजा गया था. फूल बेचने वाले इस बात का खास ध्यान रखते हैं कि ये फूल कौन खरीद रहा है. इंग्लैंड के चिस्विक हाउस के गार्डनर जेराल्डिन किंग का कहना है कि दो दशक पहले भी जब ड्यूक ऑफ डेवोनशायर इस चिस्विक हाउस के मालिक हुआ करते थे तब भी वो मिडिलमिस्ट रेड फूल को बेहद महंगे दाम पर बेचा करते थे. उस वक्त भी इस फूल की कीमत 3 लाख रुपये से ज्यादा थी. गार्डनर ने बताया कि ये पहली बार है जब कोई फूल साउदी अरब भेजा गया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन