Home /News /ajab-gajab /

what is the reason behind the understanding of an animal that has a deep friendship with humans new research came out about dogs shitri

इंसानों से गहरी दोस्ती रखने वाले कुत्ते की समझदारी के पीछे क्या है वजह? रिसर्च में हुआ खुलासा

सौ.कैनवा- कुत्तों की चीज़ों को पहचानने की समझ और तरीकों पर की गई रिसर्च, देखकर और गंध से पहचानते हैं सबकुछ

सौ.कैनवा- कुत्तों की चीज़ों को पहचानने की समझ और तरीकों पर की गई रिसर्च, देखकर और गंध से पहचानते हैं सबकुछ

बुडापेस्ट की ईटवोस लोरंड यूनिवर्सिटी के फैमिली डॉग प्रोजेक्ट में एक नई स्‍टडी के तहत रिसर्चर्स में खुलासा हुआ कि कुत्तों के दिमाग में हर परिचित सामान की मल्टीमीडिया इमेज छप जाती है. जिससे वो उसे कहीं से भी खोज निकालने में सक्षम हो जाते हैं.

अधिक पढ़ें ...

कुत्ते यूं तो इंसानों के सबसे खास और सबसे पसंदीदा जानवर माने जाते हैं. उनकी ईमानदारी और वफादारी के किस्से दुनियाभर में जाने जाते हैं. एक बार जिसे अपना बना लें फिर उसे कभी नहीं भूलते. अपने मालिक की सुरक्षा के लिए हर वक्त जान का जोखिम लेने को भी तैयार रहते हैं. इसीलिए घरेलू जानवर के तौर पर इनके जैसी डिमांड किसी की नहीं. लेकिन लंबे समय से उन्हें लेकर ये सवाल उठता रहा है कि आखिर कुत्तों में इतनी समझदारी कहां से आती है. जिसपर रिसर्च से नए खुलासे हुए हैं.

बुडापेस्ट की ईटवोस लोरंड यूनिवर्सिटी के फैमिली डॉग प्रोजेक्ट में एक नई स्‍टडी के तहत रिसर्चर्स में खुलासा हुआ कि कुत्तों के दिमाग में हर परिचित सामान की मल्टीमीडिया इमेज छप जाती है. जिससे वो उसे कहीं से भी खोज निकालने में सक्षम हो जाते हैं. किसी चीज़ को कुत्ते कैसे पहचानते हैं इसे लेकर ही रिसर्च की गई है.

देखकर और गंध से पहचानते हैं सबकुछ
एनिमल कॉग्निशन में पब्लिश स्‍टडी के लीड रिसर्चर शैनी ड्रोर के मुताबिक कहा कि कुत्ते खिलौने की खोज करने के लिए अपनी आंख और नाक का इस्‍तेमाल करते हैं, इसका मतलब है कि वो जानते हैं कि खिलौने से कैसे गंध आती है या वो कैसा दिखता है. रिसर्चर के मुतैबिक कुत्तों के भी दो प्रकार होते हैं उसी हिसाब से उनकी इंद्रियां भी काम करना सीख जाती हैं. जैसे की ट्रेन्ड डॉग्स जिन्हें वर्ड लर्नर भी कहते हैं और फैमिली डॉग्स जो हमेशा से एक घरेलू माहौल में रहे हैं. दोनों तरह के कुछ कुत्तों को एक साथ ट्रेनिंग दी गई, जिनमें पाया गया कि वर्ड लर्नर सामान का नाम सीख जाते हैं लेकिन फैमिली डॉग्स ऐसा नहीं कर पाते.

mind of dogs

नाम सुनते ही कुत्तों के दिमाग में हर परिचित सामान की मल्टीमीडिया इमेज छप जाती है, जिससे वो उसे झट से खोज लेते हैं.

नाम सुनते ही दिमाग में बना लेते हैं चीज़ों की तस्वीर
ट्रेनिंग के बाद बात परखने की आई तो दोनों तरह के कुत्तों को पहले एक खिलौना दिया गया था. जिसे बाद में कई सामान के बीच छुपाकर खोजने के लिए भेजा गया. और सभी उस खिलौने को खोजने में कामयाब रहे. ये ट्रायल अंधेरे और रोशनी दोनों में किया गया. लेकिन अंधेरे में टॉय खोजने में इन्हें थोड़ी परेशानी हुई. स्‍टडी के को-राइटर डॉ क्लाउडिया फुगाजा का कहना है कि खिलौनों की खोज के लिए कुत्तों ने जिन इंद्रियों का इस्‍तेमाल किया, उसने ये समझने में काफी सहायता की है कि कुत्ते क्या सोचते हैं और कैसे कल्पना करते हैं. स्‍टडी के मुताबिक कुत्ते किसी चीज का नाम सुनते ही अपने दिमाग में इमेज बनाते लेते हैं जो उन्हें अंधेरे में भी किसी चीज़ का पता लगाने में मदद करती है. ये रिसर्च और ट्रायल सिर्फ वर्ड लर्नर डॉग्स पर ही की गई थी.

Tags: Ajab Gajab news, Dog, Khabre jara hatke, Weird news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर