जिसे जानवर का टॉयलेट समझ रहे थे लोग वो निकला दुनिया का सबसे पुराना पानी, 160 करोड़ साल है उम्र

मजाक- मजाक में जमा किए सैंपल के कारण टोरंटो की बारबरा मशहूर हो गई

मजाक- मजाक में जमा किए सैंपल के कारण टोरंटो की बारबरा मशहूर हो गई

टोरंटो (Toronto) की रहने वाली भू-रसायनविद (Geochemist) ने अनजाने में ही दुनिया के सांसे पुराने पानी की खोज कर डाली. बारबरा शेरवुड लोलर (Barbara Sherwood Lollar) को पानी का ये सैंपल कनाडा (Canada) के एक खान से मिला था. वैसे तो पहली नजर में ये किसी जानवर का पेशाब लग रहा था लेकिन बारबरा को यकीन था कि ये पानी किसी बड़ी खोज में बदल सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2021, 3:08 PM IST
  • Share this:
कहते हैं ना कि किस्मत बहुत बड़ी चीज होती है. ये किस्मत ही तो है कि जिसे लोग किसी जानवर का टॉयलेट समझकर छु नहीं रहे थे, उसे टोरंटो की बारबरा ने रिसर्च के लिए जमा कर लिया. जब इस पानी की गहन जांच की गई तो पता चला कि ये अब तक का धरती पर पाया गया सबसे पुराना पानी का सैंपल है. इसकी उम्र 160 करोड़ साल बताई गई है. अब इस खोज के कारण बारबरा अचानक मशहूर हो गई हैं.

तेज बदबू के कारण समझा था टॉयलेट

बारबरा ने पानी का ये सैंपल कनाडा के ओंटारियो के टिमिंस नाम की जगह से जमा किया था. जब बारबरा अपनी टीम के साथ गुफा में गई, तो सभी को तेज बदबू आई. गुफा के काफी अंदर जाने के बाद उन्हें चट्टान के बीच पानी दिखा. पहले उन्हें लगा कि ये किसी जानवर का पेशाब होगा. इस वजह से उन्होंने इसपर ध्यान नहीं दिया. लेकिन बारबरा ने इसे कलेक्ट कर लिया. वहां से ये सैंपल बारबरा ने ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी भेज दिया.

निकला दुनिया का सबसे पुराना पानी
सैंपल को ऑक्सफ़ोर्ड भेजने के कुछ समय बाद बारबरा ने वहाँ कॉल कर इसकी अपडेट ली. तब उन्हें पता चला कि ये पानी 160 करोड़ साल पुराना है. बारबरा को यकीन ही नहीं हुआ कि उसने दुनिया का सबसे पुराना पानी ढूंढ निकाला है. वैज्ञानिकों को अब उम्मीद है कि इस पानी के जरिये वो पृथ्वी के इतिहास से जुडी कई बातें पता कर पाएंगे.



समुद्री पानी से भी खारा है टेस्ट



जिस गुफा से बारबरा ने ये सैंपल जमा किया है, वहां कई करोड़ों साल पहले के और भी सैंपल मौजूद हैं. इस पानी को अभी ओटावा के कनाडा साइंस एंड टेक्नोलॉजी म्यूजियम में जमा किया गया है. रिसर्चर्स के मुताबिक, इस पानी का टेस्ट नॉर्मल समुद्री पानी से भी कई गुना ज्यादा खारा है. जिस गुफा में ये पानी मिला है वो काफी गहरा है. इस वजह से यहां ज्यादा लोग जाते नहीं हैं. ये भी एक बड़ा कारण है करोड़ों साल पुराने पानी के जमा रहने का.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज