होम /न्यूज /अजब गजब /3.5 मिनट में बनकर नहीं तैयार हुई मैक्रोनी, भड़की महिला ने कंपनी पर ठोंका 40 करोड़ का मुकदमा !

3.5 मिनट में बनकर नहीं तैयार हुई मैक्रोनी, भड़की महिला ने कंपनी पर ठोंका 40 करोड़ का मुकदमा !

महिला ने अमेरिकन फूड कंपनी क्राफ्ट हेंज़ पर कुल 40 करोड़ रुपये का मुकदमा ठोंका है. (Credit- Pixabay/सांकेतिक तस्वीर)

महिला ने अमेरिकन फूड कंपनी क्राफ्ट हेंज़ पर कुल 40 करोड़ रुपये का मुकदमा ठोंका है. (Credit- Pixabay/सांकेतिक तस्वीर)

Woman Sues Food Company For 40 Crores: फ्लोरिडा की एक महिला ने अमेरिकन फूड कंपनी क्राफ्ट हेंज़ पर कुल 40 करोड़ रुपये का ...अधिक पढ़ें

Ready to Cook Food Risk: आजकल राजमा-चावल और इंस्टैंट इडली से लेकर न जाने कौन-कौन सी चीज़ें मौजूद हैं, जो रेडी टु कुक होती हैं. यहां तक कि कई कंपनियां तो उसमें लगने वाले वक्त को लेकर भी दावे करती हैं. हालांकि इन्हें पकाने में कई बार ज्यादा वक्त लग जाता है, लेकिन कोई इस पर मुकदमा ठोंकने तो नहीं जाता है. अमेरिका की एक महिला ने इन दावों को सीरियस लेते हुए एक फूड कंपनी को कोर्ट तक घसीट लिया है क्योंकि उसका पास्ता बनने में ज्यादा वक्त लग गया.

फ्लोरिडा की एक महिला ने अमेरिकन फूड कंपनी क्राफ्ट हेंज़ पर कुल 40 करोड़ रुपये का मुकदमा ठोंका है. महिला का दावा है कि कंपनी ने जिस मैक्रोनी को पकने के लिए 3.5 मिनट का वक्त दिया था, वो इतनी देर में नहीं पक पाई. भड़की महिला ने ‘रेडी टु कुक’ फूड वाली कंपनी पर आरोप लगाया है कि प्रोडक्ट के डिब्बे पर उसे बनाने का जो समय लिखा हुआ था, उतने समय में वो प्रोडक्ट बनकर तैयार नहीं हुआ.

मैक्रोनी बनने में लगा 3.5 मिनट से ज्यादा वक्त 
रिपोर्ट्स के मुताबिक महिला ने जिस कंपनी पर केस किया है, उसका नाम क्राफ्ट हींज है और ये मल्टीनेशनल फूड कंपनी है. महिला का नाम अमांडा रमीरेज है और वह साउथ फ्लोरिडा की रहने वाली है. उसने फ्लोरिडा के मियामी डिविजन में कंपनी के खिलाफ 18 नवंबर को केस फाइल किया है. महिला का कहना है कि कंपनी के प्रोडक्ट माइक्रोवेबल शेल्स एंड चीज कप्स के डिब्बे पर बनने का वक्त महज 3.5 मिनट था, लेकिन ये उतनी देर में बनकर तैयार नहीं हुई. जिसके बाद अमांडा ने 5-10 लाख नहीं बल्कि पूरे 5 मिलियन डॉलर यानी करीब 40 करोड़ रुपये का मुकदमा ठोका है.

कंपनी ग्राहकों को दे रही गलत जानकारी
महिला के मुताबिक कंपनी ने जो समय प्रोडक्ट के पैकेट पर बताया है, वो सिर्फ प्रोडक्ट को माइक्रोवेव में रखे जाने तक का है. हालांकि मैक्रोनी बनाने के लिए इसके अलावा भी कई स्टेप्स फॉलो करने पड़ते हैं. कंपनी ने कुल प्रोसेस में लगने वाले वक्त के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है. अमांडा 3.5 मिनट में मैक्रोनी पकी हुई चाहती थी, लेकिन ऐसा नहीं होने पर बात उसके दिल पर लग गई और वो कंपनी के खिलाफ मुकदमा ठोंककर ही मानी.

Tags: Ajab Gajab, Viral news, Weird news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें