होम /न्यूज /अजब गजब /

मां के दूध, गर्भनाल, बाल और राख से यादगार गहने बनाती है महिला, Hit हो चुका है बिजनेस

मां के दूध, गर्भनाल, बाल और राख से यादगार गहने बनाती है महिला, Hit हो चुका है बिजनेस

सराह हेविस (Sarah Hewes) मां के दूध, बच्चे की गर्भनाल, बालों और मृत लोगों की राख से भी ज्वैलरी तैयार करती हैं. (Credit- Under the Pale Moon)

सराह हेविस (Sarah Hewes) मां के दूध, बच्चे की गर्भनाल, बालों और मृत लोगों की राख से भी ज्वैलरी तैयार करती हैं. (Credit- Under the Pale Moon)

सराह हेविस (Sarah Hewes) ने पहले अपने परिवारवालों और दोस्तों के लिए ज्वैलरी (Unique Jewellery) बनानी शुरू की, धीरे-धीरे उनका ये दायरा बढ़ा और उन्हें दूसरे लोगों से भी ऑर्डर मिलने लगे. अब उनका शौक उनके लिए प्रोफेशन बन चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    कई बार जिन चीज़ों को हम सिर्फ अपना शौक समझते हैं, वो हमारे लिए सबसे अच्छा प्रोफेशन साबित होते हैं. कुछ ऐसा ही हुआ ब्रिटिश नेशनल हेल्थ केयर वर्कर सराह हेविस के साथ. यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) के हैम्पशायर (Hampshire) की रहने वाली सराह ने कोरोना लॉकडाउन (Corona Lockdown) के दौरान अपना एक नया शौक डेवलेप किया, जो उनके लिए मुनाफे का बिजनेस बन गया.

    सराह हेविस (Sarah Hewes) मां के दूध, बच्चे की गर्भनाल, बालों और मृत लोगों की राख से भी ज्वैलरी तैयार करती हैं. इस तरह के गहने लोगों की भावनाओं से जुड़े होते हैं और गिफ्ट के तौर पर दिए जाएं, तो यादगार बन जाते हैं. 35 साल की सराह पहले ये सिर्फ अपने शौक के लिए बनाया करती थीं, लेकिन बाकी लोगों को इसमें दिलचस्पी लेते देखने के बाद उन्होंने इसे बिजनेस के तौर पर भी अपना लिया.

    साल भर पहले शुरू किया अनोखा बिजनेस
    कोरोनावायरस (Coronavirus) के चलते जब लॉकडाउन (Corona Lockdown) हुआ, तो सराह को अपने इस शौक पर वक्त देने का भरपूर समय मिला. उन्होंने Under the Pale Moon नाम से अपना बिज़नेस शुरू कर दिया है. साल की शुरुआत में ही उन्होंने अपना काम स्टार्ट कर दिया और धीरे-धीरे ये बढ़ने लगा. अब उन्हें हैंपशायर ही नहीं, देश के बाकी हिस्सों से भी ऑर्डर मिलते हैं. लोग उन्हें ब्रेस्ट मिल्क, सूखी हुई गर्भनाल, बालों के टुकड़े या राख भेज देते हैं, जिसका इस्तेमाल करके सराह उनके लिए यादगार ज्वैलरी बनाकर भेजती हैं. ये गहने पेंडेंट्स हो सकती हैं, ब्रेसलेट हो सकती है या फिर कोई अंगूठी भी हो सकती है. थेरेपिस्ट होने के चलते सराह लोगों की भावनाओं से जुड़ना अच्छी तरह जानती हैं, जो उनके काम में मदद देता है.

    ये भी पढ़ें- कुत्ते-बिल्लियों को डराने के लिए शख्स ने रखा था नकली मगरमच्छ, डर गई पड़ोसन, घंटों रही घर के अंदर कैद

    4000-12000 रुपये में संजोती हैं यादें
    सराह खास तौर पर मां के दूध और बालों से ज्वैलरी बनाती हैं. इन गहनों की कीमत £40- £120 यानि भारतीय मुद्रा में 4000-12,000 रुपये होती है. ये गहने खूबसूरत और पहनने में सुंदर होते हैं. मां के दूध को पहले संरक्षित करके सुखाया जाता है और फिर इसका पाउडर बनाया जाता है. कुछ गहनों में फूलों का भी इस्तेमाल किया जाता है. उन्हें भी इसी तरह तैयार किया जाता है. इन्हें शेप देने के लिए यूवी का इस्तेमाल किया जाता है. सराह बताती हैं कि उन्होंने ब्रेस्टमिल्क और बालों से शुरुआत की थी, लेकिन लोगों की डिमांड पर वे गर्भनाल का भी इस्तेमाल करने लगीं और नए तरह की डिज़ाइनर ज्वैलरी तैयार की. अब वे अपनी कला को और निखारने के लिए तरह-तरह की वर्कशॉप भी करती हैं.

    Tags: Bizarre story, Business ideas, Corona Days

    अगली ख़बर