होम /न्यूज /एस्ट्रो /Basant Panchami 2023: बसंत पंचमी पर करें 3 मंत्रों का जाप, मां सरस्वती की मिलेगी कृपा, देखें शुभ मुहूर्त

Basant Panchami 2023: बसंत पंचमी पर करें 3 मंत्रों का जाप, मां सरस्वती की मिलेगी कृपा, देखें शुभ मुहूर्त

बसंत पंचमी को मां सरस्वती का अवतरण दिवस माना जाता है.

बसंत पंचमी को मां सरस्वती का अवतरण दिवस माना जाता है.

हाथ में वीणा, कमल और सफेद वस्त्र धारण किए, विद्या, संगीत और कला की देवी मां सरस्वती का बसंत पंचमी के दिन अवतरण माना जात ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

इस दिन सफेद या पीले रंग के वस्त्र धारण करना अति उत्तम माना गया है.
बसंत पंचमी एक अबूझ मुहूर्त होता है. जिस पर शुभ कार्य किया जा सकता है.

Basant Panchami 2023 : विद्या, संगीत और कला की देवी सरस्वती की पूजा आराधना के लिए सर्वोत्तम दिन बसंत पंचमी माना जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन मां सरस्वती का अवतरण हुआ था. बसंत पंचमी हर साल माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है. इस साल बसंत पंचमी 26 जनवरी 2023 दिन गुरुवार को मनाई जा रही है. मान्यता के अनुसार बसंत पंचमी के दिन जो कि छात्र विधि विधान से मां सरस्वती की पूजा उपासना करता है उसे हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त होती है. भोपाल निवासी ज्योतिषी एवं वास्तु सलाहकार पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा बता रहे हैं बसंत पंचमी पर किन मंत्रों के साथ विधिवत पूजा करना चाहिए.

बसंत पंचमी का शुभ मुहूर्त

बसंत पंचमी की प्रारंभ तिथि- दोपहर 12:35 बजे से (25 जनवरी, 2023 )
बसंत पंचमी समापन तिथि- सुबह 10:29 बजे तक रहेगी. ( 26 जनवरी, 2023)

यह भी पढ़ें – पेड़-पौधों को ना पहुंचाएं नुकसान, बसंत पंचमी पर भूलकर भी ना करें ये 5 काम

बसंत पंचमी पूजा विधि

  • बसंत पंचमी के दिन प्रातः काल उठकर स्नानादि से निवृत्त होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करें.
  • इस दिन सफेद या पीले रंग के वस्त्र धारण करना अति उत्तम माना गया है.
  • पूजा घर को गंगाजल से शुद्ध करें.
  • अब पूजा की चौपाई पर पीले रंग का वस्त्र बिछाकर मां सरस्वती की मूर्ति या तस्वीर को स्थापित करें.
  • इसके बाद मां सरस्वती को चंदन का तिलक लगाएं. फिर केसर, रोली, हल्दी, चावल, फल और पीले फूल उनके चरणों में अर्पित करें.
  • अब मां सरस्वती को बूंदी या बूंदी से निर्मित लड्डू, दही, हलवा और मिश्री का भोग लगाएं.
  • छात्रगण मां सरस्वती के चरणों में कलम, पुस्तक, कॉपी रख दें और इन सामग्री को अगले दिन हटाएं.
  • अंत में मां सरस्वती की पूरे श्रद्धा भाव से आरती करें और फिर सरस्वती मंत्रों का जाप करें.

बसंत पंचमी पर इन सरस्वती मंत्रों का करें जाप

1. या देवी सर्वभूतेषु विद्या रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

2. ॐ ऐं सरस्वत्यै नमः।

3. या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता
या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना।
या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता
सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥

यह भी पढ़ें – क्या आपने भी पाल रखा है तोता? कम होता है राहु-केतु, शनि का प्रभाव

Tags: Basant Panchami, Dharma Aastha, Religion, Saraswati Puja

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें