Home /News /astro /

Surya Grahan 2021: सूर्य ग्रहण और शनि जयंती 148 साल बाद साथ, पंडित जी से जानें आपकी राशि पर क्या पड़ेगा प्रभाव

Surya Grahan 2021: सूर्य ग्रहण और शनि जयंती 148 साल बाद साथ, पंडित जी से जानें आपकी राशि पर क्या पड़ेगा प्रभाव

साल का अंतिम सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) 4 दिसंबर 2021 को लगने वाला है.

साल का अंतिम सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) 4 दिसंबर 2021 को लगने वाला है.

Surya Grahan: जिस प्रकार से ग्रह-नक्षत्रों के बदलने से राशियों पर भी प्रभाव पड़ता है. ठीक उसी प्रकार सूर्य या चन्द्र ग्रहण का भी सभी राशियों (Rashi par Prabhav) और पर प्रभाव पड़ता है. ये किसी के लिए शुभ होता है तो किसी के लिए अशुभ. ऐसा योग 148 साल बाद बना है. पिछली बार शनि जयंती के मौके पर सूर्य ग्रहण 26 मई 1873 को लगा था. आइए जानते हैं सूर्य ग्रहण का किस राशि पर क्या प्रभाव पड़ेगा. जाने पंडित हितेन्द्र कुमार शर्मा के अनुसार राशि पर प्रभाव व उपाय

अधिक पढ़ें ...

    Surya Grahan 2021: साल का अंतिम सूर्य ग्रहण (Surya Grahan) 4 दिसंबर 2021 को लगने वाला है. बात करें हिन्दू पंचांग (Hindu Panchang) की तो अगहन मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या (Amavasya) को पड़ने वाला इस बार का सूर्य ग्रहण काफी विशेष है, क्योंकि ग्रहण वाले दिन शनि जयंती (Shani Jayanti) है और ऐसा योग 148 साल बाद बना है. पिछली बार शनि जयंती के मौके पर सूर्य ग्रहण 26 मई 1873 को लगा था.

    सूर्य ग्रहण के दौरान कई काम ऐसे होतें हैं जिसे करना प्रतिबंधित होता है. जिस प्रकार से ग्रह-नक्षत्रों के बदलने से राशियों पर भी प्रभाव पड़ता है. ठीक उसी प्रकार सूर्य या चन्द्र ग्रहण का भी सभी राशियों (Rashi par Prabhav) और पर प्रभाव पड़ता है. ये किसी के लिए शुभ होता है तो किसी के लिए अशुभ. आइए जानते हैं सूर्य ग्रहण का किस राशि पर क्या प्रभाव (Surya Grahan Ka Rashi Par Prabahv) पड़ेगा.

    पंडित हितेन्द्र कुमार शर्मा के अनुसार राशि पर प्रभाव व उपाय

    -मेष (Mesh)
    मेष राशि के जातकों को जीवन साथी का सुख मिलेगा लेकिन परिजनों से कलह हो सकती है, मानसिक तनाव में बढ़ोत्तरी संभव है. यह ग्रहण आपकी माता के स्वास्थ्य में गड़बड़ी के साथ आपके परिवार में कलह करवाएगा.

    उपाय:
    शाम के समय सुंदरकांड (Sundar kand) का पाठ करें और हनुमान जी के सामने चमेली के तेल का दीया जलाएं.

    -वृषभ (Vrishabha)
    पेट की स्थिति गड़बड़ करेगा और आपके प्रेम संबंधों में भी अलगाव ला सकता है. रुके हुए धन की वापसी हो सकती है, वाहन लाभ हो सकता है.

    उपाय:
    शाम के समय शिवलिंग पर चंदन का इत्र अर्पण करें और पीपल के वृक्ष के नीचे सरसों के तेल का दिया जलाएं.

    -मिथुन:
    खर्चों में बढ़ोतरी होगी, किसी के द्वारा धोखा भी मिल सकता है, परिवार में अनबन और धन की चिंता रह सकती है, शत्रुओं के द्वारा नुकसान पहुंचेगा और रोग बढ़ने की संभावना रहेगी.

    उपाय:
    भगवान शिव का पंचामृत से अभिषेक करें. शाम के समय योग्य पात्र या जरूरतमंद लोगों को पितरों के नाम से भोजन कराएं.

    इसे भी पढ़ें : आपको भी खाना खाने के बाद होती है पेट फूलने की दिक्कत? अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

    -कर्क (Kark)
    साझेदारी में गड़बड़ी करेगा और जीवन साथी से अलगाव भी हो सकता है. स्वास्थ्य के लिए कष्टकारी हो सकता है धन हानि भी हो सकती है, कमजोर या बीमार लोगों का ऑपरेशन होने की सम्भावना है.

    उपाय:
    पीपल के वृक्ष की प्रदक्षिणा करें कच्चे दूध में काला तिल और गंगाजल शहद मिलाकर पीपल के वृक्ष की जड़ में अर्पण करें.

    -सिंह (Singh)
    यह ग्रहण स्वास्थ्य में गड़बड़ी के साथ-साथ कुछ दुर्घटना करा सकता है. नए कार्य में निवेश से हानि हो सकती है, लेकिन साथ ही किसी नए कार्य का आरम्भ भी हो सकताहै, वाहन से कोई कष्ट मिल सकता है.

    उपाय:
    जरूरतमंद लोगों को लाल वस्त्र का दान करें और हनुमान चालीसा 5 बार अवश्य पढ़ें.

    -कन्या (Kanya)
    यह ग्रहण उनके पिता के स्वास्थ्य को बिगाड़ सकता है और चलते हुए कार्यों में रुकावट दे सकता है. यह भूमि लाभ, मान-सम्मान और प्रतिष्ठा में बढ़ोतरी भी करवाएगा. सिर या शारीरिक कष्ट से कुछ दिन परेशान भी रह सकतें है.

    इसे भी पढ़ें : डिजिटल मल्टीटास्किंग हो सकती है बच्चे के मानसिक स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक – स्टडी

    उपाय:
    शाम के समय भगवान सूर्य को प्रणाम करें और हनुमान जी को गुड़-चने का भोग लगाएं.

    -तुला (Tula)
    यह ग्रहण कार्यस्थल पर कुछ बदलाव कर सकता है और प्रमोशन की बात रुक सकती है. महिला को पुरुष पक्ष से और पुरुष को महिला पक्ष से कष्ट मिले सकता है कर्ज बढ़ सकता है.

    उपाय:
    शाम के समय भगवान सूर्यनारायण को तांबे के लोटे से अर्घ्य दें और सूर्याष्टक का पाठ करें, और अपने पुराने वस्त्रों का दान करें.

    -वृश्चिक (Vrishchik)
    यह ग्रहण कई बाधा प्रदान कर सकता है. बड़े भाई-बहनों से संबंध खराब हो सकते है. संतान पक्ष से कष्ट, कार्यस्थल पर व्यर्थ का तनाव हो सकता है. अकारण लोगों से विवाद हो सकता है.

    उपाय :-
    योग्यपात्र या जरूरतमंद लोगों को गेहूं और गुड़ का दान करें. किसी धार्मिक स्थल पर तांबे का बर्तन अवश्य दें. हनुमान जी (Hanuman Ji) के मंदिर में या शनि मंदिर में लोहे की कोई वास्तु दान करें.

    धनु (Dhanu)
    यह ग्रहण खर्च को बढ़ाकर आपकी आंख पर चोट भी लगा सकता है. आपके शत्रु पराजित होंगे, उत्तम लाभ होगा, कामकाज और व्यापार में उन्नति होगी.

    उपाय:
    पितरों के नाम से जरूरतमंद लोगों को भोजन कराएं. भगवान शिव और हनुमान जी की पूजा-अर्चना अवश्य करें.

    -मकर:
    यह ग्रहण रोगों में बढ़ोत्तरी करेगा, निर्णय लेने में भी भूल-चुक हो सकती है. किसी प्रकार का कलंक भी लग सकता है. व्यापार में हानि और पति-पत्नी में अनबन हो सकती है. अपने मित्र या सांझेदार को कष्ट हो सकता है.

    उपाय:
    ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का 108 बार जाप करें, शनि चालीसा और हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ करें. जरूरतमंद लोगों को अनाज का दान करें.

    -कुम्भ (Kumbh)
    यह ग्रहण धन की स्थिति को लेकर परिवार में कलह करवाएगा. वाहन चलाते समय सावधानी रखें, मित्रों से कष्ट मिल सकता है. आर्थिक स्थिति में सुधार होगा.

    उपाय:
    ज़रुरतमंद या किन्नरों को दवा, वस्त्र, भोजन का दान करें और उनका आशीर्वाद अवश्य लें. शिव मंदिर में सूखी भोजन सामग्री का दान करें.

    -मीन (Meen)
    यह ग्रहण कई प्रकार की परेशानियां बढ़ा सकता है, धोखा या अपमान भी मिल सकता है. किसी भी काम को करने में सामान्य समय से अधिक समय लग सकता है. व्यापार में भारी हानि का सामना करना पड़ सकता है. इसके साथ ही किसी न किसी बात को लेकर घर में तनाव हो सकता है.

    उपाय:
    भगवान सूर्यनारायण की उपासना करें और सूर्य के मंत्र ॐ घृणि सूर्याय नमः मंत्र का 108 बार जाप करें . अपने पुराने वस्त्रों का दान करें और शिव मंदिर में घी का दान देने से आपके कई काम बन जायेंगे.

    Tags: Astrology, Horoscope, Surya Grahan, धर्म

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर