• Home
  • »
  • News
  • »
  • auto
  • »
  • 7 2 LAKH AUTO RICKSHAW DRIVERS WILL GET GOVERNMENT HELP IN LOCKDOWN KNOW HOW TO GET HELP KANND

7.2 लाख ऑटो रिक्शा चालकों को लॉकडाउन में मिलेगी सरकारी मदद, जानिए कैसे मिलेगी सहायता

मुंबई में ऑटो रिक्शा चालकों को मिलेगी सरकारी मदद.

Coronavirus के मामलों के बीच मुंबई से अच्छी खबर सामने आई है. मुंबई में कोरोना वायरस के मामलों में कमी दर्ज की गई है. देश की आर्थिक राजधानी में शनिवार को 2678 नए मामले सामने आए हैं. जबकि बीते एक दिन में 3608 लोग ठीक हुए हैं.

  • Share this:
    मुंबई. महाराष्ट्र में 7.20 लाख ऑटो रिक्शा चालकों (Auto Rickshaw Drivers) को कोरोना वायरस (Corona virus) के कारण लगाए गए लॉकडाउन के दौरान एक बार 1500 रुपये की सहायता देने के लिए 108 करोड़ रुपये की रकम आवंटित की गई है. एक अधिकारी ने रविवार को बताया कि इसके लिए सरकार ने सात मई को नोटिफिकेशन (Notification) जारी कर दिया था.

    कैसे मिलेगी सरकारी मदद - अधिकारी ने बताया कि चालकों को राहत पैकेज के लिए परमिट, बैज, गाड़ी और आधार कार्ड का वितरण अपलोड करना होगा. जिसके बाद रकम सीधे उनके बैंक खाते में स्थानांतरित की जाएगी. वहीं आपको बता दें मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लॉकडाउन जैसे प्रतिबंध 14 अप्रैल को लागू किए थे. जो अभी तक लागू हैं. वहीं इन प्रतिबंध में एक शहर से दूसरे शहर के साथ-साथ अंतर-जिला यात्रा पर प्रतिबंध लगाया गया है और राज्य में गैर-आवश्यक सेवाओं को बंद कर दिया गया है.

    यह भी पढ़ें: Husqvarna के इलेक्ट्रिक स्कूटर की धमाकेदार एंट्री, सिंगल चार्ज में देगा इतनी रेंज, जानें सबकुछ



    मुंबई से आई अच्छी खबर - लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों के बीच मुंबई से अच्छी खबर सामने आई है. मुंबई में कोरोना वायरस के मामलों में कमी दर्ज की गई है. देश की आर्थिक राजधानी में शनिवार को 2678 नए मामले सामने आए हैं. जबकि बीते एक दिन में 3608 लोग ठीक हुए हैं.

    यह भी पढ़ें: TVS Jupiter सस्ते में खरीदने का मौका, 2,420 की EMI पर लाए घर, जानें सबकुछ

    वहीं पिछले 24 घंटे में 62 लोगों ने अपनी जान भी गंवाई है.  मुंबई में कुल मामलों की संख्या 6 लाख 74 हजार 072 हो गई है. वहीं अब तक मुंबई में 6 लाख 10 हजार 043 लोग ठीक हो चुके हैं. जबकि कोविड-19 के चलते अब तक 13, 749 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. फिलहाल मुंबई में एक्टिव मामलों की संख्या 48,484 हो गई है.
    First published: