दुनिया में पहली बार बिना ड्राइवर के चलेगा ये ट्रक, जानिए क्या हैं स्पेशल फीचर्स

टेक्नोलॉजी एडवांसमेंट बहुत तेज़ी से हो रहा है. इस रेस अभी तक आपने ड्राइवरलेस ट्रेन और कार के बाद अब मार्केट में उतर गया है नया ट्रक.

News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 12:17 PM IST
दुनिया में पहली बार बिना ड्राइवर के चलेगा ये ट्रक, जानिए क्या हैं स्पेशल फीचर्स
टेक्नोलॉजी एडवांसमेंट बहुत तेज़ी से हो रहा है. इस रेस अभी तक आपने ड्राइवरलेस ट्रेन और कार के बाद अब मार्केट में उतर गया है नया ट्रक.
News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 12:17 PM IST
टेक्नोलॉजी एडवांसमेंट बहुत तेज़ी से हो रहा है. इस रेस अभी तक आपने ड्राइवरलेस ट्रेन और कार के बाद अब मार्केट में उतर गया है नया ट्रक. ये ट्रक ड्राईवर लेस है यानी की बिना ड्राईवर के ये ट्रक चल सकेगा. स्केंडिनेवियाई देश स्वीडन की सड़कों पर पहली बार बिना ड्राइवर के एक इलेक्ट्रिक ट्रक की टेस्टिंग चल रही है. प्रयोग सफल रहा तो इसकी कमर्शियल लांचिंग होगी.

स्वीडिश स्टार्टअप ने तैयार किया है ड्राईवरलेस ट्रक 


स्वीडिश स्टार्ट-अप ईनराइड कंपनी ने इस तकनीक को बनाया है. उसे स्वीडन के एक टेक्नोलॉजी क्षेत्र के भीतर मिक्स ट्रांसपोर्ट में टेस्टिंग की अनुमति दी गई है. औद्योगिक क्षेत्र में एक गोदाम और एक टर्मिनल के बीच की सार्वजनिक सड़क इसके लिए परमिट दिया गया है.

BMW X5 भारत में लॉन्च, कीमत 72.9 लाख रुपये से शुरू, जानें फीचर्स



ईनराइड ने बताया कि यहां यातायात की गति आम तौर पर कम होती है. इससे टेस्टिंग में आसानी है. इस कैब-लेस ट्रक को टी-पॉड नाम दिया गया है. बुधवार को सार्वजनिक सड़क पर इसे शुरू किया गया. इसका परमिट 31 दिसंबर 2020 तक वैध है.

Einride और प्रमुख लॉजिस्टिक फर्म DB Schenker ने पिछले साल नवंबर में स्वीडन के जोंकोपिंग में "टी-पॉड" की स्थापना की थी. कंपनी के मुताबिक यह दुनिया में अपनी तरह का पहला व्यावसायिक इंस्टॉलेशन था.  Einride ने दावा किया कि "T-pod" स्वीडन में माल ढुलाई से कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन को 2030 तक 60 प्रतिशत तक कम कर सकता है.
Loading...

पाकिस्तान का रुपया हुआ 'तबाह', महंगाई बढ़ने से पाकिस्तानियों की टूटेगी कमर

इस ट्रक में 5G तकनीक का प्रयोग किया जाता है
कंपनी के मुताबिक एक ऑपरेटर द्वारा ट्रक की देखरेख की जाती है. यदि आवश्यक हो तो तब ही ऑपरेटर नियंत्रण करता है. रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रक 85 किलोमीटर प्रति घंटे की गति तक पहुंच सकता है, लेकिन परीक्षण के दौरान केवल 5 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की अनुमति है. इसमें  3 डी सेंसर से लैस व 360 डिग्री घूमने वाले कैमरे व रडार लगे हैं. ट्रक NVIDIA द्वारा निर्मित एक ऑटोमैटिक ड्राइविंग प्लेटफॉर्म का उपयोग करता है. पूरा सिस्टम 5 जी नेटवर्क के माध्यम से कनेक्ट रहता है.

घर बेचकर शुरू किया था इस महिला ने बिजनेस, अब हर महीने कमाती हैं एक करोड़ रुपए
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार