• Home
  • »
  • News
  • »
  • auto
  • »
  • एयरक्राफ्ट बनाने वाली कंपनी एयरबस ने बनाई फ्लाइंग कार, यहां देखें वीडियो

एयरक्राफ्ट बनाने वाली कंपनी एयरबस ने बनाई फ्लाइंग कार, यहां देखें वीडियो

एयरक्राफ्ट बनाने वाली कंपनी एयर बस ने फ्लाइंग कार टेस्टिंग की.

एयरक्राफ्ट बनाने वाली कंपनी एयर बस ने फ्लाइंग कार टेस्टिंग की.

एयरबस ने एक वीडियो जारी किया है, जिसमे सिटी एयर क्राफ्ट (City Aircraft) की डिमान्स्ट्रेशन फ्लाइट को उड़ते और लैंड करते हुए दिखाया गया है. इसमें दिखाया गया है कि यह एक 4 सीटर, इलेक्ट्रिक, VTOL एयरक्राफ्ट है. इस वीडियो में एयरक्राफ्ट ने एक खुले मैदान में करीब 4 मिनट तक 20 मीटर तक की ऊंचाई तक उड़ान भरी है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. एयरबस जो दुनिया में अपने बेहतरीन विमान बनाने के लिए जाना जाती है, उसने हाल ही में अपने नए सिटी एयरक्राफ्ट की पहली झलक लोगों के सामने पेश की है. एयरबस ने अपने इस सिटी एयरक्राफ्ट की पहली झलक को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो के माध्यम से जारी किया. जिसमे सिटी एयरक्राफ्ट को 20 मीटर की ऊंचाई पर करीब 4 मिनट तक उड़ते हुए दिखाया गया. जल्द ही ये कंपनी सड़कों के ऊपर उड़ने वाले अर्बन मोबिलिटी कॉप्टर के सपने को सच करने जा रही है.

    वीडियो में दिखाया टेक ऑफ और लैंडिंग- एयरबस ने एक वीडियो जारी किया है, जिसमे सिटी एयर क्राफ्ट (City Aircraft) की डिमान्स्ट्रेशन फ्लाइट को उड़ते और लैंड करते हुए दिखाया गया है. इसमें दिखाया गया है कि यह एक 4 सीटर, इलेक्ट्रिक, VTOL एयरक्राफ्ट है. इस वीडियो में एयरक्राफ्ट ने एक खुले मैदान में करीब 4 मिनट तक 20 मीटर तक की ऊंचाई तक उड़ान भरी है.

    यह पूरी तरह से एक इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट है, जिसका वजन 2,310 किलोग्राम है. कंपनी ने बताया की यूएएम डिमॉन्स्ट्रेटर ने सही तरीके से सफलता पूर्वक उड़ान भरी है. इस एयरक्राफ्ट में मल्टीकॉप्टर कॉन्फिगरेशन के साथ हाई-लिफ्ट प्रोपल्शन यूनिट्स हैं. इस एयरक्राफ्ट में 4 लोगों के बैठने की सुविधा है. इस एयरबस हेलीकाप्टर में आठ फिक्स्ड पिच प्रोपेलर और 100kW की इलेक्ट्रिक मोटर का इस्तेमाल किया गया है, जो 950rpm पर काम करता है. यह सिटीएयरबस मात्र 15 मिनट में 120 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार पकड़ने में सक्षम है. कंपनी ने इस सिटीएयरबस फुल स्केल UAM (अर्बन एयर मोबिलिटी) डिमॉन्स्ट्रेटर का पहला टेक-ऑफ साल 2019 के मई महीने में क्या था.

    यह भी पढ़ें: Royal Enfield Himalayan का अपडेट डिजाइन लीक हुआ, यहां पढ़ें इसकी खूबियां

    एविएशन इंडस्ट्री ग्लोबली CO2 उत्सर्जन में लगभग 2.5 प्रतिशत का योगदान देता है. एविएशन में ईंधन की खपत को सीमित करने के लिए महत्वपूर्ण प्रयास पहले ही किए जा चुके हैं, लेकिन सही तरीके से बहुत कुछ करने की जरूरत है, और इस प्रयास में हेलीकॉप्टर सबसे आगे है. विमानों की तुलना में उनके छोटे आकार और कम बिजली की आवश्यकता के अनुसार, इन हेलीकॉप्टर को बेहतर विकल्प के तौर पर देखा जा सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज