Home /News /auto /

Car या Bike Loan लेते वक्त इन 5 बातों का रखें ध्यान, नहीं तो हो सकता है नुकसान

Car या Bike Loan लेते वक्त इन 5 बातों का रखें ध्यान, नहीं तो हो सकता है नुकसान

कार खरीदने से पहले इसका बजट तय कर लें.

कार खरीदने से पहले इसका बजट तय कर लें.

अगर आप भी कार या बाइक खरीदेन के लिए लोन लेने का मन बना रहे हैं तो आपको कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए. अगर आप लोन लेने के बाद की परेशानियों से बचना चाहते हैं तो इन बातों को जान लीजिए.

Auto Loan: कोरोना महामारी के बाद भी कार या बाइक की बिक्री तेजी हो रही है. बैंकों के भी ऑटो लोन पोर्टफोलियो सुधरने लगे हैं. अगर आप भी कार या बाइक खरीदेन के लिए लोन लेने का मन बना रहे हैं तो आपको कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए. अगर आप लोन लेने के बाद की परेशानियों से बचना चाहते हैं तो इन बातों को जान लीजिए.

1. लोन लेने से पहले बजट बना लें
कार खरीदने से पहले इसका बजट तय कर लें. तय करें कि आप कौन सी कार लेने जा रहे हैं. इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स का कहना है कि कार खरीदने से पहले लोग सेकेंडरी खर्चों का हिसाब नहीं लगाते, जैसे- कार इंश्योरेंस, पेट्रोल-डीजल का खर्च, रिपेयर खर्च, डेप्रिसिएशन वगैरह. इस वजह से उनका खर्च बढ़ जाता है. इस खर्च को जरूर ध्यान में रखें.

ये भी पढ़ें- जानलेवा साबित हो सकते हैं कार के ये फीचर्स, जान लें वरना हो सकता नुकसान  

2. अच्छा क्रेडिट स्कोर मेंटेन करना जरूरी
कार लोन ही नहीं किसी भी तरह का लोन लेने के लिए अच्छे क्रेडिट स्कोर की जरूरत होती है. अच्छा क्रेडिट स्कोर आपको सस्ता और आसान लोन मुहैया करा सकता है. क्रेडिट कार्ड का बकाया और दूसरे अन्य लोन की समय पर अदायगी आपके क्रेडिट स्कोर में इजाफा करता है. इसलिए मजबूत क्रेडिट स्कोर बरकरार रखना जरूरी है.

3. कौन सी कार खरीदेंगे, पहले तय करें
कार बहुत जल्दी-जल्दी नहीं खरीदी जातीं. इसलिए खरीदने से पहले यह तय कर लें कि आपके लिए सबसे अच्छी डील कहां उपलब्ध है. एक्सपर्ट्स का मानना है कि ग्राहक को अपनी जरूरत के हिसाब से कार का चुनाव करना चाहिए. न कि बहुत ज्यादा महंगा और मोस्ट पॉपुलर कार को ध्यान में रख कर अपना विकल्प चुनना चाहिए. अगर किसी को एक ही फीचर की गाड़ी किसी कंपनी के सस्ते ऑफर में मिल रही है तो उसका चुनाव करना चाहिए. इससे आप कम लोन में भी गाड़ी खरीद सकेंगे. इससे आपका ईएमआई बोझ निश्चित तौर पर कम होगा.

ये भी पढ़ें- Bike और Scooter की सर्विस के लिए नहीं है टाइम! तो इन्हें ठीक रखने के लिए ये करें, जानें सबकुछ

4. डाउनपेमेंट जितना बड़ा उतना अच्छा
कार खरीदते समय डाउनपेमेंट जितना ज्यादा करेंगे आपकी ईएमआई की बोझ उतना ही कम होगा. बड़े डाउनपेमेंट से लोन के प्रिंसिपल और इंटरेस्ट कंपोनेंट दोनों कम हो जाएगा. प्रिंसिपल अमाउंट जितना कम होगा आपको कार लोन पर मासिक किस्त उतनी ही कम देनी होगी.

5. लोन की अवधि छोटी रखें
अमूमन बैंक कार लोन देते समय इसकी अवधि ज्यादा रखने की कोशिश करते हैं. बैंकों का तर्क होता है कि इससे आपकी ईएमआई कम रहेगी. लेकिन याद रखें कि भले ही ईएमआई कम हो लेकिन लंबी अवधि तक कार लोन चुकाते रहने की वजह से आप बैंक को ज्यादा पैसा देते हैं. लोन की अवधि जितनी कम होगी आपको लोन पर प्रिंसिपल और इंटरेस्ट कंपोनेंट दोनों कम देना होगा.

ये भी पढ़ें- अब यूरोप में भी धमाल मचाएगी ये इंडियन टू-व्हीलर कंपनी, स्विट्जरलैंड की सबसे बड़ी e-बाइक फर्म को खरीदा

6. समय पर चुकाएं EMI
लोन लेने के बाद समय पर EMI का भुगतान आपकी जिम्मेदारी है. इससे न सिर्फ आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा रहेगा बल्कि बैंक से एक ग्राहक के तौर पर आपके रिश्ते भी अच्छे रहेंगे. एक्सपर्ट्स का मानना है कि कर्ज के मामले में ग्राहकों को अनुशासित रुख अपनाना चाहिए. कर्ज जितनी जल्दी खत्म हो जाए उतना अच्छा.

Tags: Auto News, Autofocus, Car Bike News, Car loan

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर