Home /News /auto /

ऑटो इंडस्ट्री की अब तक की सबसे बड़ी चुनौती! क्या अप्रैल में नहीं बिकेगी एक भी कार?

ऑटो इंडस्ट्री की अब तक की सबसे बड़ी चुनौती! क्या अप्रैल में नहीं बिकेगी एक भी कार?

कोविड-19 महामारी की वजह से देशभर में लॉकडाउन के बीच कार फैक्ट्रीज से लेकर डीलरशीप्स तक बंद हैं. ऐसे में कहा जा रहा है कि पहली बार किसी महीने में एक भी कार की बिक्री न हों.

कोविड-19 महामारी की वजह से देशभर में लॉकडाउन के बीच कार फैक्ट्रीज से लेकर डीलरशीप्स तक बंद हैं. ऐसे में कहा जा रहा है कि पहली बार किसी महीने में एक भी कार की बिक्री न हों.

कोविड-19 महामारी की वजह से देशभर में लॉकडाउन के बीच कार फैक्ट्रीज से लेकर डीलरशीप्स तक बंद हैं. ऐसे में कहा जा रहा है कि पहली बार किसी महीने में एक भी कार की बिक्री न हों.

    नई दिल्ली. कार निर्माता कंपनियों के लिए सेल्स ग्राफ में गिरावट लगातार चिंता का विषय बना हुआ है. लेकिन इस बीच अब ये भी हो सकता है कि अप्रैल महीने (Car Sales) में एक भी कार की बिक्री न हो. पहले ही संकट के दौर से गुजर रहे भारतीय ऑटो इंडस्ट्री (Indian Auto Industry) को कोरोना वायरस महामारी ने अब तक की सबसे बड़ी चुनौतीपूर्ण दौर में धकेल दिया है. देशभर में 24 मार्च से लेकर 3 मई तक लॉकडाउन है. यही कारण कि मैन्युफैक्चरिंग से लेकर डिमांड तक में रिकॉर्ड गिरावट देखने को मिल रही है.

    क्या है कार निर्माताओं का कहना?
    स्कोडा ऑटो के जैक होलिस ने ट्विटर पर एक मैसेज शेयर कर कहा है कि मेरे ऑटो इंडस्ट्री में मेरे 30 साल के करियर के दौरान शायद यह पहला मौका हो जब किसी महीने में मैंने एक भी कार की बिक्री नहीं की हो. मुझे पता है ​कि बहुत जल्द बिजनेस में रिटर्न होगा. इस दौरान आप सुरक्षित रहें और सरकार की गाइडलाइंस का पालन करें. जैक होलिस स्कोड इंडिया के निदेशक हैं.



    यह भी पढ़ें:  Renault Triber Automatic- इन दमदार फीचर्स के साथ जुलाई तक हो सकती है लॉन्च

    मारुति सुजुकी के चेयरमैन आर सी भार्गव ने कहा अप्रैल महीने में सेल्स आंकड़ों में बड़ी गिरावट होगी. उन्होंने कहा कुछ असामान्य बातें देखने को मिलेंगी. उदाहरण के तौर पर देखें तो पहले ऐसा कभी नहीं हुआ कि किसी महीने में एक भी कार की बिक्री नहीं हुई है. अप्रैल ऐसा ही महीना होगा.

    मार्च में ​कार सेल्स में जबरदस्त गिरावट
    मार्च महीने में कार सेल्स की बिक्री में जबरदस्त गिरावट के बाद ही ऐसे कयास लगाए जा रहे थे. घरेलू सेल्स में 46.4 फीसदी की गिरावट के बाद मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki) ने अपने प्रोडक्शन में 32 फीसदी की कटौती कर दिया था. मार्च 2019 में कंपनी ने कुल 79,080 कारों की बिक्री की थी.

    पिछले महीने हुंडई मोटर्स की सेल्स में 40.69 फीसदी की गिरावट देखने को मिली. इस कंपनी ने मार्च में कुल 36,300 कारें ही बेचीं. महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahindra & Mahindra) और टाटा मोटर्स (Tata Motors) की कारों की बिक्री में इस दौरान क्रमश: 90 फीसदी और 84 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. पहले ही इन आंकड़ों में जबरदस्त गिरावट देखने को मिली और अब लॉकडाउन की वजह से अप्रैल में किसी भी कंपनी की एक भी कार बिकने की गुंजाइश नहीं दिख रही है.

    यह भी पढ़ें: घर बैठे बुक करें सस्ते में नए इलेक्ट्रिक स्कूटर, मिल रहा है भारी डिस्काउंट

    नई लॉन्चिंग पर भी संकट
    मार्केट ए​नलिस्ट्स का कहना है कि लॉकडाउन के बाद नई स्ट्रैटेजी के तहत काम करना होगा. बंद पड़ी फैक्ट्रियों को फिर से शुरू करने के लिए नए तरीके से प्रयास करना होगा. केपीएमजी ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है अब नए प्रोडक्ट की लॉन्चिंग पूरी तरह से रोक दी जाएगी या फिर इनमें देरी की जाएगी.

    यह भी पढ़ें:  Maruti Suzuki ने बंद किए आपकी फेवरेट कार ये मॉडल्स, यहां देखें पूरी लिस्ट

    Tags: Auto News, Mahindra and mahindra, Maruti Suzuki Baleno, Tata Motors

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर