• Home
  • »
  • News
  • »
  • auto
  • »
  • नया नियम लागू होने के पहले मारुति ने बेचीं 5 लाख बीएस-6 कारें, जानें नियम

नया नियम लागू होने के पहले मारुति ने बेचीं 5 लाख बीएस-6 कारें, जानें नियम

एक अप्रैल 2020 से बीएस-6 एमिशन नॉर्म्स को लागू करना अनिवार्य कर दिया गया है. मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड (Maruti Suzuki India Ltd.) ने अपनी पहली बीएस-6 इंजन वाली कार अप्रैल 2019 में पेश की थी.

एक अप्रैल 2020 से बीएस-6 एमिशन नॉर्म्स को लागू करना अनिवार्य कर दिया गया है. मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड (Maruti Suzuki India Ltd.) ने अपनी पहली बीएस-6 इंजन वाली कार अप्रैल 2019 में पेश की थी.

एक अप्रैल 2020 से बीएस-6 एमिशन नॉर्म्स को लागू करना अनिवार्य कर दिया गया है. मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड (Maruti Suzuki India Ltd.) ने अपनी पहली बीएस-6 इंजन वाली कार अप्रैल 2019 में पेश की थी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश की सबसे बड़ी वाहन बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने बुधवार को कहा कि उसने नए एमिशन नॉर्म्स के लागू होने से पहले ही 5 लाख बीएस-6 वाहनों की बिक्री की है. एक अप्रैल 2020 से बीएस-6 एमिशन नॉर्म्स को लागू करना अनिवार्य किया गया है. मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki India) ने बयान में कहा कि कंपनी अभी बीएस-6 पेट्रोल इंजन वाले 10 मॉडल की पेशकश कर रही है.

    कंपनी के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी केनिची अयुकावा ने कहा, 'यह उपलब्धि भारत में नए इंजन और तकनीक की वृद्धि की क्षमता को दर्शाती है.' उन्होंने कहा, 'हमने अपने लोकप्रिय मॉडलों में बीएस 6 के अनुरूप इंजन को पहले ही पेश कर दिया. यह सरकार के स्वच्छ और हरित पर्यावरण के विचार को लेकर हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है.'

    मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड ने अपनी पहली बीएस-6 इंजन वाली कार अप्रैल 2019 में पेश की थी. कंपनी ऑल्टो, ईको, एस-प्रेसो, सेलेरियो, वैगनआर, स्विफ्ट, बलेनो, डिजायर, अर्टिगा और एक्सएल-6 में बीएस-6 पेट्रोल इंजन दे रही है.
    क्या है ये बीएस
    बीएस का मतलब है भारत स्टेज. इसका संबंध उत्सर्जन मानकों से है. भारत स्टेज उत्सर्जन मानक खासतौर पर उन वाहनों के लिए हैं. इन्हें पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड तय करता है. भारत सरकार ने वर्ष 2000 से बीएस उत्सर्जन मानक की शुरुआत की थी. भारत स्टेज यानी भारत स्टैंडर्ड मानदंड यूरोपीय नियमों पर आधारित है

    बीएस-6 में क्या होगा
    - वाहन कंपनियां जो भी नए हल्के और भारी वाहन बनाएंगी, उनमें फिल्टर लगाना जरूरी हो जाएगा.
    - बीएस-6 के लिए विशेष प्रकार के डीजल पार्टिकुलेट फिल्टर की जरूरत होगी. इसके लिए वाहन के बोनट के अंदर ज्यादा जगह की जरूरत होगी.
    - नाइट्रोजन के ऑक्साइड्स को फिल्टर करने के लिए सेलेक्टिव कैटेलिटिक रिडक्शन (एसआरसी) तकनीक का इस्तेमाल अनिवार्य तौर पर करना होगा.

    यह भी पढ़ें :-

    CNG मॉडल में भी लॉन्च हुई Hyundai Aura, जानें हर वेरिएंट की कीमत
    Maruti ला रहा सबसे सस्ती इलेक्ट्रिक SUV Futuro-E, ऑटो एक्सपो में उठेगा पर्दा
    Hyundai ने लॉन्च की कॉम्पैक्ट सिडान Aura, डिजायर और अमेज को देगी कड़ी टक्कर
    Auto Expo में एमिशन टेक्नॉलजी पर होगा ज़ोर, जानिए कितने के होंगे टिकट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज