लाइव टीवी

1 अप्रैल से सिर्फ BS-VI कार बाइक और स्कूटर का ही होगा रजिस्ट्रेशन, जानिए इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब

News18Hindi
Updated: March 12, 2020, 1:01 PM IST
1 अप्रैल से सिर्फ BS-VI कार बाइक और स्कूटर का ही होगा रजिस्ट्रेशन, जानिए इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब
क्या होगा BS6 नियम लागू होने से...

साल 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने BS-4 वाहन की बिक्री पर रोक लगा दी थी. इसके बाद ऑटोमोबाइल डीलर्स ने एक याचिका दायर कर अतिरिक्‍त समय मांगा था. याचिका में कहा गया था कि कोर्ट उन्हें 30 अप्रैल तक का समय दे, ताकि वो स्‍टॉक में रखे BS-4 वाहन बेच सकें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2020, 1:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार प्रदूषण नियंत्रण के लिए बनाई बीएस-6 (BS-VI) गाड़ियां ही 1 अप्रैल से रजिस्ट्रेशन होगा. डीलर्स द्वारा अपने स्टॉक में रखी बीएस-4 की गाड़ियों को डिस्काउंट देकर निकाला जा रहा है. क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर दोहराया है कि 31 मार्च के बाद से BS-4 वाहन नहीं बिकेंगे. आपको बता दें कि बीएस-4 नियम अप्रैल 2017 से देशभर में लागू हुआ था. साल 2016 में केंद्र सरकार ने घोषणा की थी कि देश में बीएस-5 नियमों को अपनाए बगैर ही 2020 तक बीएस-6 नियमों को लागू कर दिया जाएगा.

साल 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने BS-4 वाहन की बिक्री पर रोक लगा दी थी. इसके बाद ऑटोमोबाइल डीलर्स ने एक याचिका दायर कर अतिरिक्‍त समय मांगा था. याचिका में कहा गया था कि कोर्ट उन्हें 30 अप्रैल तक का समय दे, ताकि वो स्‍टॉक में रखे BS-4 वाहन बेच सकें. लेकिन इस याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर राहत देने से इनकार कर दिया था. इसीलिए ये 1 अप्रैल 2020 से पूरे देश में लागू हो जाएगा.

आइए जानें इससे जुड़ी सभी बड़ी बातें...



सवाल- क्या होता है बीएस (What is BS)



जवाब-बीएस का मतलब है भारत स्टेज. इसका संबंध उत्सर्जन मानकों से है. भारत स्टेज उत्सर्जन स्टैंडर्ड  खासतौर पर उन 2-व्हीलर और 4-व्हीलर्स के लिए हैं, जिन्हें पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड तय करता है. अगर आसान शब्दों में कहें तो ये वाहन कम पॉल्यूशन करेंगे. आपको बता दें कि भारत सरकार ने साल 2000 से बीएस उत्सर्जन मानक की शुरुआत की थी. भारत स्टेज यानी भारत स्टैंडर्ड मानदंड यूरोपीय नियमों पर आधारित है



सवाल- अप्रैल 2020 के बाद BS4 वाहनों का क्या होगा?
जवाब-1 अप्रैल 2020 के बाद BS-4 वाहनों की मैन्युफैक्चरिंग और रजिस्ट्रेशन पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा. हालांकि, पुराने BS-4 वाहनों को चलाने की अनुमति होगी. अभी तक इसे बंद किए जाने के बारे में कोई डेडलाइन तय नहीं की गई है.

सवाल- बीएस-6 के आने से क्या होगा (What does it mean BSVI means for India )
जवाब-वाहन कंपनियां जो भी नए हल्के और भारी वाहन बनाएंगी, उनमें फिल्टर लगाना जरूरी हो जाएगा.
बीएस-6 के लिए विशेष प्रकार के डीजल पार्टिकुलेट फिल्टर की जरूरत होगी. इसके लिए वाहन के बोनट के अंदर ज्यादा जगह की जरूरत होगी. नाइट्रोजन के ऑक्साइड्स को फिल्टर करने के लिए सेलेक्टिव कैटेलिटिक रिडक्शन (एसआरसी) तकनीक का इस्तेमाल अनिवार्य तौर पर करना होगा.

(I) हवा में प्रदूषण कम करने में मदद मिलेगी
(II) हवा में जहरीले तत्व कम हो सकेंगे जिससे सांस लेने में सुविधा होगी
(III) बीएस 4 के मुकाबले बीएस 6 में प्रदूषण फैलाने वाले खतरनाक पदार्थ काफी कम होंगे
(IV) नाइट्रोजन डाइऑक्साइड,कार्बन मोनोऑक्साइड,सल्फर डाइऑक्साइड और पार्टिकुलेट मैटर के मामले में बीएस 6 ग्रेड का डीजल काफी अच्छा होगा.
(V) बीएस -4 और बीएस-3 फ्यूल में सल्फर की मात्रा 50 पीपीएम होती है.जो बीएस 6 मानकों में घटकर 10 पीपीएम रह जायेगा यानी की अभी के स्तर से 80 फीसदी कम है.


सवाल-CNG कारों पर क्या होगा BS6 का असर?
जवाब-BS6 ईंधन से चलने वाली डीजल व पेट्रोल इंजन कारों में मैन्युफैक्चरर्स को मामूली बदलाव करना होगा. हालांकि, नए वाहनों को पहले से ही CNG के आधार पर तैयार किया जा रहा है. कई दिग्गज ऑटो कंपनियां तो पहले इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड व्हीकल्स पर भी ध्यान देने लगी हैं.

सवाल-क्या होगा जब आप BS-4 कार में BS-6 ईंधन का इस्तेमाल करेंगे?
जवाब-अगर आपके पास BS-4 इंजन वाली कार है तो भी आप इसमें BS-6 ईंधन का प्रयोग कर सकते हैं. आमतौर पर, ईंधन में सल्फर ल्यूब्रिकेंट (Lubricant) की तरह काम करता है. इसी को ध्यान में रखते हुए BS-6 ईंधन में अतिरिक्त एडि​टिव्स होंगे जो कि इंजन में ल्यूब्रिकेंट का काम हो सके.

सवाल-क्या BS-6 इंजन BS-4 ईंधन पर काम करेगा? 
जवाब-उत्सर्जन स्तर का स्तर तभी मेंटेन किया जा सकेगा, जब BS-6 इंजन में BS-6 ईंधन का ही प्रयोग किया जाए. अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो प्रदूषण के लिहाज से कोई फायदा नहीं है. लेकिन, यह BS-6 एमिशन स्टैंडर्ड के अनुपालन में नहीं होगा.

सवाल-क्या BS-6 ईंधन महंगा होगा?
जवाब-नए स्टैंडर्ड के आधार पर ईंधन बनाने के लिए तेल रिफाइनरी कंपनियों को अपनी रिफाइनरीज को अपग्रेड करना पड़ा है. इस अपग्रेडेशन पर होने वाले खर्च का कुछ बोझ​ रिटेल कस्टमर्स पर डाला जाएगा. कई प्रमुख कंपनियों ने इस बारे में जानकारी दी है. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा है कि BS-6 स्टैंडर्ड वाले ईंधन की कीमतों में मामूली बढ़ोतरी ही होगी.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऑटो से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 12, 2020, 12:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading