होम /न्यूज /ऑटो /Budget 2023: Imported Car का सपना हो गया है महंगा, 70% लगेगा टैक्स

Budget 2023: Imported Car का सपना हो गया है महंगा, 70% लगेगा टैक्स

अब इंपोर्टेड कारें खरीदना और महंगा हो जाएगा. (फोटो ओवरड्राइव)

अब इंपोर्टेड कारें खरीदना और महंगा हो जाएगा. (फोटो ओवरड्राइव)

Luxury Imported Cars पर बजट में कस्टम ड्यूटी बढ़ाने का ऐलान किया गया है. अब इन कारों पर 60 की जगह 70 प्रतिशत तक टैक्स ल ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

मर्सिडीज बेंज, बीएमडब्‍ल्यू, ऑडी, पॉर्शे और लैंबॉर्गिनी जैसी कंपनियों पर होगा बड़ा असर.
इंपोर्ट होने वाली इलेक्ट्रिक कारों पर भी बढ़ी कस्टम ड्यूटी.
सीबीयू यूनिट्स पर ज्यादा टैक्स बढ़ाया गया.

नई दिल्ली. बजट 2023 में उन लोगों को झटका लगा है जो लग्जरी इंपोर्टेड कार खरीदने का सपना देख रहे थे. ऐसे लोगों पर सरकार ने ज्यादा कस्टम ड्यूटी लगाने का फैसला किया है. वित्त मंत्री ने नया टैक्स स्ट्रक्चर पेश करते हुए विदेशी इंपोर्टेड लग्जरी कारों पर कस्टम ड्यूटभ्‍ को बढ़ा दिया है. देश में सीबीयू (कंम्पलीटली बिल्ट यूनिट) फॉर्म में आने वाली कारों पर अब टैक्स 60 से 70 फीसदी कर दिया गया है. वहीं एसकेडी फॉर्म में आने वाली कारों पर भी टैक्स बढ़ा है. अब ये 30 फीसदी की जगह 35 फीसदी वूसला जाएगा. इस नए टैक्स स्ट्रक्चर में इंपोर्ट होने वाली इलेक्ट्रिक कारों को भी शामिल किया गया है.

अब देश में ऑपरेट कर रही कई लग्जरी ब्रांड की कंपन‌ियों पर इसका बड़ा असर होगा क्योंकि ज्यादातक कंपनी एसकेटी फॉर्म में अपनी गाड़ियों को इंडिया में इंपोर्ट कर रही थीं. वहीं सीबीयू फॉर्मेट में तो इसका खासा असर दिखने वाला है.

ये भी पढ़ेंः Income Tax 2023 Budget : इनकम टैक्स पर 5 बड़ी घोषणाएं, 7 लाख तक नहीं लगेगा टैक्स, कितना बदल जाएगा आपका टैक्स

इन कंपनियों पर असर
टैक्स स्लैब के बढ़ने के साथ ही अब मर्सिडीज बेंज, बीएमडब्‍ल्यू, ऑडी, पॉर्शे और लैंबॉर्गिनी जैसी कंपनियों पर इसका बड़ा असर होने जा रहा है. सीबीयू रूट से आने वाली कोरों के अलावा इंश्योरेंस और माल ढुलाई के बिना ही 40 हजार डॉलर यानि करीब 32 लाख रुपये वाली इलेक्ट्रिक कारों पर भी 70 प्रतिशत की कस्टम ड्यूटी ली जाएगी.

इसलिए नहीं आई टेस्ला
इंडिया में इंपोर्टेड कारों पर लगने वाले ज्यादा टैक्स के चलते ही टेस्ला ने इंडियन मार्केट में एंट्री नहीं ली है. वहीं मौजूद अन्य कंपनियों ने भी सरकार से टैक्स को कम करने की मांग की थी लेकिन बजट में उन्हें राहत नहीं मिल सकी है.

100 फीसदी भी लगी है ड्यूटी
इससे पहले 32 लाख रुपये से ज्यादा कीमत की 3.0 लीटर पेट्रोल या 2.5 लीटर डीजल इंजन की कारों पर 100 फीसदी तक कस्टम ड्यूटी लगती थी. मर्सिडीज जैसी कंपनियां अपनी कारों को सीबीयू या एसकेडी रूट के जरिए इंडियन मार्केट में लाती है और असेंबल करती है. हाल ही में लॉन्च हुई इलेक्ट्रिक ईक्यूएस या एस क्लास भी इसी तर्ज पर लाई गई कारें है.

Tags: Auto, Budget, Car Bike News, Finance minister Nirmala Sitharaman

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें