• Home
  • »
  • News
  • »
  • auto
  • »
  • सभी नई गाड़ियों के लिए bumper-to-bumper insurance को अनिवार्य किया जाए: हाइकोर्ट, जानिए क्या है मामला

सभी नई गाड़ियों के लिए bumper-to-bumper insurance को अनिवार्य किया जाए: हाइकोर्ट, जानिए क्या है मामला

 सभी नई गाड़ियों पर संपूर्ण बीमा को अनिवार्य करने का आदेश

सभी नई गाड़ियों पर संपूर्ण बीमा को अनिवार्य करने का आदेश

एक सितंबर से कोई भी नया वाहन बेचने पर उसका संपूर्ण बीमा (बंपर-टू-बंपर) अनिवार्य रूप से होना चाहिए. मद्रास उच्च न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण आदेश में यह कहा है.

  • Share this:

    चेन्नई . मद्रास उच्च न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण आदेश में कहा कि एक सितंबर से कोई भी नया वाहन बेचने पर उसका संपूर्ण बीमा (बंपर-टू-बंपर) अनिवार्य रूप से होना चाहिए. यह पांच साल की अवधि के लिए चालक, यात्रियों और वाहन के मालिक को कवर करने वाले बीमा के अतिरिक्त होगा. ‘बंपर-टू-बंपर’ बीमा में वाहन के फाइबर, धातु और रबड़ के हिस्सों सहित 100 प्रतिशत आवरण मिलता है.

    न्यायमूर्ति एस वैद्यनाथन ने हाल के एक आदेश में कहा कि इस अवधि के बाद वाहन के मालिक को चालक, यात्रियों, तीसरे पक्ष और खुद के हितों की रक्षा करने के लिए सतर्क रहना चाहिए, ताकि उस पर कोई अनावश्यक उत्तरदायित्व न आए.

    मद्रास उच्च न्यायालय का आदेश
    उन्होंने इरोड में विशेष जिला न्यायालय के मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण के सात दिसंबर 2019 के आदेश को चुनौती देने वाली न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी लिमिटेड की एक रिट याचिका को अनुमति दी.

    यह भी पढ़ें- Vijaya Diagnostic IPO अगले सप्ताह खुलेगा, निवेश करने से पहले जान लीजिए जरूरी बातें

    बीमा कंपनी ने कहा कि विचाराधीन बीमा पॉलिसी केवल तृतीय पक्ष द्वारा वाहन को पहुंचे नुकसान के लिए थी, न कि वाहन में सवार लोगों के द्वारा. बीमा कंपनी ने तर्क दिया कि कार मालिक के अतिरिक्त प्रीमियम देने पर कवरेज बढ़ाया जा सकता है.

    न्यायाधीश ने कहा कि यह दुखद है कि जब कोई वाहन बेचा जाता है, तो खरीदार को पॉलिसी की शर्तों और इसके महत्व के बारे में स्पष्ट रूप से नहीं बताया जाता है और इसी तरह खरीदार को भी पॉलिसी के नियमों तथा शर्तों को अच्छी तरह समझने में कोई दिलचस्पी नहीं होती, क्योंकि वह वाहन के प्रदर्शन के बारे में अधिक चिंतित रहता है, न कि पॉलिसी के बारे में.

    यह भी पढ़ें – Vijaya Diagnostic IPO अगले सप्ताह खुलेगा, निवेश करने से पहले जान लीजिए जरूरी बातें

    क्या है बंपर-टू-बंपर बीमा और ये कैसे काम करता है? 
    ये अनिवार्य रूप से एक प्रकार का कार बीमा है, जो आपको वाहन का पूरा कवरेज देता है. इसका मतलब ये है कि जब आप किसी दुर्घटना का सामना करते हैं और नुकसान होता है, जिसे कवर करने की जरूरत होती है, तो बीमाकर्ता कवरेज से डेप्रिसिएशन वैल्यू में कटौती नहीं करेगा. इसके अलावा मोटर इंश्योरर आपकी गाड़ी की बॉडी के पुर्जों को बदलने की पूरी लागत का भुगतान करेगा. हालांकि, इस प्रकार के बीमा में तेल रिसाव (Oil Leak) या पानी चले जाने के कारण होने वाले इंजन डेमेज को कवर नहीं किया जाता है.

    हालांकि ये आपको कवरेज की एक पूरी रेंज देता है, ये ध्यान दिया जाना चाहिए कि आप इस प्रकार की पॉलिसी के लिए ज्यादा प्रीमियम का भुगतान करेंगे. हालांकि, इसके और भी फायदे हैं.
    पॉलिसी खरीदने और रिन्यू कराने के समय इसका लाभ उठाया जा सकता है. आप पूरे अमाउंट का दावा भी कर सकते हैं, जबकि एक मानक बीमा कवरेज से भुगतान केवल लगभग 40 प्रतिशत तक होता है. ये नई कारों या तीन साल की मैक्सीमम ऐज लिमिट वाले वाहनों के लिए ज्यादा फायदेमंद है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज