BS-4 बाइक खरीदना है बेहतर, अगले हफ्ते से भारत में लागू होंगे BS-6 नॉर्म्स

BS-4 बाइक खरीदना है बेहतर, अगले हफ्ते से भारत में लागू होंगे BS-6 नॉर्म्स
दुनिया की लगभग सारी टू-व्हीलर बनाने वाली कंपनियां बीएस-6 (BS-VI) वाहन बनाने लगी हैं. काफी कार निर्माता कंपनियां भी बीएस-6 इंजन वाली कारों पर शिफ्ट कर गई हैं.

दुनिया की लगभग सारी टू-व्हीलर बनाने वाली कंपनियां बीएस-6 (BS-VI) वाहन बनाने लगी हैं. काफी कार निर्माता कंपनियां भी बीएस-6 इंजन वाली कारों पर शिफ्ट कर गई हैं.

  • Share this:

    भारत द्वारा बीएस-6 लागू होने में कुछ ही समय बाकी बचे हैं. एक बार ये लागू हो जाएगा तो भारत इमिशन नॉर्म्स को काफी कड़ाई से लागू करने वाले देशों में शामिल हो जाएगा. दुनिया की लगभग सारी टू-व्हीलर बनाने वाली कंपनियां बीएस-6 बनाने लगी हैं. काफी कार निर्माता कंपनियां भी बीएस-6 इंजन वाली कारों पर शिफ्ट कर गई हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या इस वक्त बीएस-4 वाहन को खरीदना अच्छा होगा.

    अच्छी डील्स-
    अपने स्टॉक को क्लियर करने के लिए टू-व्हीलर और कार निर्माता कंपनियां काफी छूट दे रही हैं. हीरो मोटोकॉर्प अपनी बाइक्स पर 12 हज़ार से लेकर 3 हज़ार तक की छूट दे रही है. इसी तरह से होंडा मोटरसाइकिल और स्कूटर इंडिया 5 हज़ार से लेकर 11 हज़ार तक की छूट मिल रही है.

    कीमत में बढ़ोत्तरी-
    बीएस-4 की तुलना में बीएस-6 मॉडल की कीमत काफी है. उदाहरण के लिए एप्रीलिया बीएस-6 स्कूटर की कीमत 18,500 रुपये ज्यादा है. कुल मिलाकर देखा जाए तो बीएस-6 बाइक्स की कीमत बीएस-4 की तुलना में 5 हज़ार से लेकर 20 हज़ार तक ज्यादा है.



    परफॉर्मेंस-
    बीएस-4 की तुलना में बीएस-6 मॉडल में कंपनियां नए रंग और नए फीचर्स डाल रही हैं. बात करें परफॉर्मेंस की तो बीएस-6 की फ्यूल एफिसिएंसी ज्यादा है और इंजन ज्यादा स्मूथ व क्लीन तरीके से चलता है.

    इसके अलावा ज्यादातर मामलों में बाइक के टार्क और पावर में बहुत थोड़ा ही अंतर पड़ता है. हालांकि, अगर पावर में बहुत कम अंतर होगा तो इससे बाइक चलाते वक्त ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा.
    लेकिन फिर भी पावर को लेकर इतना फर्क नहीं है बाकी चीज़ें लगभग वैसी ही हैं. ऐसे में बीएस-4 बाइक लेना फायदेमंद हो सकता है.