विंटर सीजन में धुंध से कार ड्राविंग करने में होती है मुश्किल, तब इन टिप्स का करें इस्तेमाल

विंटर सीजन में धुंध से कार चलाना मुश्किल हो जाता है.
विंटर सीजन में धुंध से कार चलाना मुश्किल हो जाता है.

विंटर सीजन (Winter season) में सबसे अहम बात है कि आप जब भी अपनी कार स्टार्ट (Car start) करते हैं. तो कुछ देर बिना एक्सीलेटर का इस्तेमाल (Use accelerator) किए इंजन को गर्म होने दें. एक्सीलेटर का इस्तेमाल करने से कार के इंजन पर असर पड़ता हैं, खासकर जब कि आपकी गाड़ी डीजल इंजन की हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2020, 5:40 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में विंटर सीजन का आगाज हो चुका है. आने वाले दिनों में रोड़ पर धुंध भी बढ़ जाएगी. जिससे कार ड्राइव करने में खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है. यहां हम आपके साथ कुछ ऐसे टिप्स साझा करने वाले हैं. जो आपको विंटर सीजन में धुंध में कार ड्राइव करने की मुश्किल को कम कर देंगे.
इंजन का गर्म होने दें
विंटर सीजन में सबसे अहम बात है कि आप जब भी अपनी कार स्टार्ट करते हैं. तो कुछ देर बिना एक्सीलेटर का इस्तेमाल किए इंजन को गर्म होने दें. बता दें एक्सीलेटर का इस्तेमाल करने से कार के इंजन पर असर पड़ता हैं, खासकर जब कि आपकी गाड़ी डीजल इंजन की हैं.
बैटरी का चार्ज करते रहें
जिन लोगों की कार में बैटरी पुरानी है और वे ज्यादा अपनी कार इस्तेमाल नहीं करते है. ऐसे लोग 3-4 दिन में अपनी कार को कम से कम 5-7 किमी तक जरूर चलाए. ऐसा करने से कार की बैटरी हमेशा चार्ज रहती है और कार को सर्दी के मौसम में स्टार्ट करने में परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता.

यह भी पढ़ें: आपकी गाड़ी में नहीं है ये डॉक्युमेंट तो देने होंगे 10,000 रुपये, जानिए क्या है नियम


कार के वाइपर सही रखें
यदि आपकी कार के वाइपर की रबड़ थोड़ी सी भी खराब हो रही है, तब उसे भी बदल डालें कार वाइपर की कीमत 200 रुपए के करीब से शुरू हो जाती है. सर्दी के मौसम में जब फॉग होता है या फिर ओस गिरती है, तब वाइपर विंडशील्ड को साफ करने का काम करते हैं.

डिफॉगर का इस्तेमाल
सर्दी के मौसम में यदि बाहर धुंध ज्यादा है और आपकी कार में डीफॉगर दिया है, तब उसका इस्तेमाल करना चाहिए. कई बार रियर ग्लास पर मॉयश्चर आ जाता है, ऐसे में डीफॉगर की मदद से उसे जल्दी साफ कर सकते हैं. डीफॉगर ग्लास पर हीट जनरेट करता है जिससे मॉयश्चर खत्म हो जाता है.

यह भी पढ़ें: Hero Nyx-HX: एक बार चार्ज कर 200 km चलाएं ये स्कूटर, कीमत भी है बेहद कम

कार चलाते समय इमरजेंसी इंडिकेटर के इस्तेमाल से बचें
सर्दी के मौसम में आप इमरजेंसी इंडिकेटर से बचे इसकी जगह आप हेडलाइट का इस्तेमाल करें. दरअसल आप सर्दी के मौसम में इमरजेंसी इंडिकेटर का इस्तेमाल करेंगे, तो गाड़ी को मोड़ते वक्त आप इसका इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे. ऐसे में आपकी गाड़ी का एक्सीडेंट होने का खतरा बढ़ा जाएगा.

कार के फॉग लैम्प सही रखें
यदि आपकी कार के फॉग लैम्प काम नहीं कर रहे हैं तब उन्हें सही करवा लें. यदि कार में फॉग लैम्प नहीं हैं तब उसे फिक्स करवा लें. सर्दी के मौसम में जब धुंध होती है तब फॉग लैम्प बेहद काम के साबित होते हैं.

एंटी फॉगिंग एलिमेंट का इस्तेमाल
सर्दी के दिनों में कार के अंदर फॉग आना आम बात है. इसे दूर करने के लिए आप एंटी फॉगिंग स्प्रे, सिलिका जेल जैसे किसी एलिमेंट का इस्तेमाल कर सकते हैं. आप चाहें तो कपड़े की छोटी पोटली में चावल भरकर भी रख सकते हैं. इससे कार के अंदर फॉग की प्रॉब्लम काफी दूर होगी.

एसी का इस्तेमाल
विंडशील्ड के मॉयश्चर को हटाने का ये सबसे बेस्ट तरीका होता है. यदि आपकी कार में ज्यादा लोग हैं तब उनकी बॉडी टेम्प्रेचर से कार के अंदर का टेम्प्रेचर बढ़ जाता है. ऐसे में यदि कार के बाहर का टेम्प्रेचर 8 से 10 डिग्री है तब आप एसी का टेम्प्रेचर 18 से 20 डिग्री तक कर सकते हैं. भाप हटाने के लिए हीटर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज